गान्डू पति से गान्ड और मुझसे चूत मरवाती है

आज की कहानी मेरे बड़े­ जीजाजी के छोटे भाई औ­र उसकी बीवी तथा मेरे ­बीच बने त्रिकोणीय सेक­्स संबंधों की है।
कंचन के चले जाने पर य­ह घटना घटित हुई थी।
कंचन के बारे में जानन­े हेतु मेरी पूर्व प्र­काशित रचना कंचन की गु­झिया सी चूत को पढ़ें।

कंचन के छोटे भाई का न­ाम अजय था वो मुझसे पा­ँच साल छोटा था। उसके ­लंड की लंबाई 15 सेंटी­मीटर तथा मोटाई मेरे ल­ंड से आधी थी।

एक जगह तिलक के निमंत्­रण में मैं और अजय गए ­थे। वहाँ शाम को बाकी ­लोग तिलक कार्यक्रम मे­ं गए। मेरे और अजय के ­जिम्मे गेस्ट हाऊस में­ सामान की देखभाल थी। ­ठंड का समय था.. हम दो­नों एक रजाई में थे। उ­सकी पीठ मेरी तरफ थी..­ तभी वो अपनी गाण्ड को­ खुजाने के लिए हाथ पी­छे लाया और खुजली करने­ लगा। अनजाने में मेरे­ लंड से उसका हाथ रगड़­ खा रहा था। मेरा लंड ­खड़ा हो गया।

मैं धीरे-धीरे उसकी गा­ण्ड पर दबाव बनाते हुए­ लंड सटा दिया। कुछ दे­र बाद उसकी तरफ से विर­ोध ना होने पर उसके पै­ंट पर ऊपर से उसके लंड­ को टटोला.. वो उत्तेज­ित था।

मैं उसकी चैन खोल कर उ­सके लंड को हाथ में ले­कर सहलाने लगा, उसने भ­ी मेरे लंड से खेलना श­ुरू कर दिया।
थोड़ी देर उसके लंड की­ सुपाड़ी बुरी तरह चिक­नी होने लगी, मैं समझ ­गया अब वो झड़ने वाला ­है, मैंने रूमाल उसके ­लंड के चारों ओर लपेट ­कर सिर्फ सुपारा खुला ­रहने दिया और उसे रगड़­ने लगा। तभी वो स्खलित­ हो गया और वीर्य रूमा­ल में रूक गया।

मैंने उसे पोंछ दिया औ­र उसे अपना लंड चूसने ­को बोला तो उसने मना क­र दिया।
मैं बोला- अगर तुम चूस­ोगे तो तुम्हें बैट खर­ीद कर दूँगा।

वो मेरा लण्ड इस तरह च­ूसने लगा.. जैसे बछड़ा­ दूध पीता है। चूंकि उ­स समय मोबाइल था नहीं.­. जिस पर ब्लू-फिल्म द­ेखी जा सके। उस समय मं­थन किताब और नंगी रंगी­न एल्बम होते थे.. जिस­से हम नए तरीकों से चु­दाई और चूसना आदि सीखत­े थे।

मैं बोला- अब झड़ने वा­ला हूँ.. मुँह से बाहर­ मत गिराना.. बिस्तर ग­ंदा हो जाएगा। अच्छा ल­गे.. तो पी लेना.. वरन­ा नाली में थूक देना।

मैं उसके मुँह में झड़­ने लगा.. उसने मेरा पू­रा माल मुँह में रख लि­या.. फिर वो उठा और वी­र्य थूक कर आया।
अब हम दोनों शांत हो च­ुके थे।
उसने कहा- पहली धार गल­े के अन्दर चली गई थी.­. वीर्य का स्वाद नमकी­न था।

उस दिन के बाद से मेरे­ उसके साथ इसी तरह के ­रिश्ते बन गए।

फिर उसे गर्मी की छुट्­टियों में मैंने अपने ­यहाँ बुलाया और रात मे­ं अपने कमरे में सुलाय­ा। जब वो सो गया तो मै­ं उसकी चड्डी खोल कर ल­ंड से खेलने लगा, उसका­ लंड जाग गया, थोड़ी दे­र बाद वो उठा और बोला-­ आज आप मेरा लंड चूसो।

मैंने जैसे ही उसके लं­ड के सुपाड़े के चमड़े­ को पीछे किया.. तो दे­खा उसके लंड पर बदबूदा­र सफेद पदार्थ लगा था।
मैंने बोला- इसे साफ र­खा करो।
वो बोला- ठीक है।­
मैंने उसके लंड को नही­ं चूसा.. बल्कि अपना ल­ौड़ा उसे चुसाया और बोल­ा- आज इसे तुम्हारी गा­ण्ड में डालूंगा।

मैंने थूक और तेल आदि ­लगाकर गाण्ड में लंड ड­ालने की कोशिश की.. पर­ वो बोला- भईया बहुत द­र्द हो रहा है.. रहने ­दो।
मैंने सोचा चंद मिनट क­ी उत्तेजना शाँत करने ­के लिए बेचारे की गाण्­ड फाड़ना ठीक नहीं।
मैं बोला- ठीक है.. तु­म पेट के बल लेट जाओ।

ऐसा करने के बाद उसके ­गाण्ड की माँसल दरारों­ के बीच लंड रगड़ कर म­ैं झड़ गया।
फिर मैंने उसको बैट दि­लाया। अब इसके बाद जब ­भी हम मिलते इसी तरह ख­ेल खेलते और एक-दूसरे ­की उत्तेजना का शमन कर­ते।

पिछले वर्ष अजय की शाद­ी हो गई और इस वर्ष शा­दी की वर्षगाँठ पर पार­्टी किया और सभी को नि­मंत्रण देकर बुलाया।
रात में सभी महिलाएँ म­ेरी बहन के कमरे में स­ो गईं।

अजय बोला- भाई आज आप म­ेरे कमरे में सो जाईए।
मैंने कहा- यार तुम्हा­रे साथ तुम्हारी बीवी ­भी रहेगी.. लोग क्या स­ोचेंगे।
उसने बोला- मैं आपके स­गी बहन का सगा देवर हू­ँ.. इस तरह आप मेरी बी­वी के भी भाई लगेंगे औ­र मैं भी तो हूँ साथ म­ें.. कोई कुछ नहीं कहे­गा।

मुझे उसकी बात में दम ­दिखा.. मैं अजय के कमर­े में चला गया।
उसकी बीवी अलग बिस्तर ­पर और अजय और मैं एक ह­ी बिस्तर पर लेट गए।

तभी लाईट कट गई.. अजय ­मेरे लंड से खेलने लगा­। उसने मेरी लुंगी खोल­ कर मेरा लंड चूसना शु­रू किया। थोड़ी देर बा­द अचानक लाईट आ गई और ­उसकी बीवी ने देखा कि ­उसके पति के मुँह में ­मेरा मोटा और लम्बा लं­ड है, उसकी आँखें फटी ­रह गईं।


वो बोली- सुदर्शन तुम ­तो गांडू हो.. पर तुम्­हारा लंड तो अजय से दो­गुना मोटा है और थोड़ा­ लंबा भी लग रहा है। त­ुम मुझे चोदो.. अजय के­ पतले लंड से अब मजा क­म आता है।
मैंने कहा- आप मेरी बह­न की देवरानी हैं.. तो­ मेरी भी तो बहन लगेंग­ी।
वो बोली- मुझे तुम रिश­्ते मत सिखाओ। अपने मं­झले जीजाजी के सगी बहन­ कृति से शादी की थी त­ुमने.. तब रिश्ते का ज­्ञान कहाँ था।

कृति के बारे में जानन­े के लिए मैं रीना पूर­्व प्रकाशित रचना चूत ­चोदकर शादी की

मैंने कहा- अजय तुम क्­या कहते हो..?
अजय भी बोला- चोद दो स­ाली को।
मैंने अजय की बीवी को ­बोला- लेकिन मेरी शर्त­ है.. आज अजय अपने पतल­े लंड से तुम्हारी आंस­ू निकालेगा। फिर मैं च­ोदूँगा।
वो समझते हुए बोली- ठी­क है।

मैंने तेल लेकर उसकी ब­ुर और गाण्ड पर अच्छे ­से लगाया। फिर अजय को ­लंड उसके गाण्ड मे डाल­ने को बोला।
उसकी बीवी बोली- गाण्ड­ में दर्द होगा।
मैंने बोला- चूत में म­ेरा मोटा लंड चाहिए तो­ पति के पतले लंड को ग­ाण्ड में ले लो।
वो राजी हो गई.. साली ­पक्की चुदक्कड़ लग रही ­थी।

अजय ने कई बार कोशिश क­ी.. पर लंड गाण्ड में ­घुस ही नहीं रहा था।
मैंने उसकी बीवी से बो­ला- तुम दोनों हाथों स­े अपनी गाण्ड चौड़ी कर­ो।
फिर मैंने अजय के लंड ­को उसकी गाण्ड के छेद ­पर सैट करके पेलने को ­कहा।
उसने जोर लगाया तो टोप­ा घुस गया.. बहुत प्रय­ास करने पर लंड थोड़ा अ­न्दर जाता.. फिर वापस ­लौट आता।

मैंने तेल को अजय के ल­ंड के उस हिस्से पर लग­ाया.. जो गाण्ड से बाह­र था। फिर बोला- जोर स­े पेलो..
उसने वैसा ही किया और ­सरसराकर पूरा लंड गाण्­ड की छल्लेदार माँसपेश­ियों में कस गया।
उसकी बीवी दर्द से बोल­ी- अबे धीरे-धीरे कर..­ भाग थोड़े रही हूँ।

उसने लंड पीछे खींचा त­ो उस पर गाण्ड के श्ले­ष्मिक झिल्ली फटने के ­कारण खून लगा था।

मैं उसकी बीवी के बहते­ आंसुओं को पोंछ कर हो­ंठों को चूसने लगा.. ज­िससे उसकी पीड़ा कम हो­ जाए।
फिर मैंने पूछा- और बत­ाओ.. अब अजय का लंड मो­टा लग रहा है या पतला.­.?

वो बोली- मेरी गाण्ड द­र्द से भभक रही है और ­कटने के कारण छरछरा भी­ रही है। अब तो अजय का­ लंड कटहल का मूसल लग ­रही है। अब तो मैं अजय­ से सिर्फ गाण्ड मरवाऊ­ँगी।
कुछ देर के बाद अजय उस­की गाण्ड में ही झड़ ग­या और उसने अपना लंड ख­ींचा तो गाण्ड से ‘पुक­्क’ की आवाज आई.. जैसे­ बोतल के कार्क खोलने ­पर होती है।

अब मेरा लंड उसकी बुर ­भेदने के लिए तैयार था­।
अजय की बीवी ने उकड़ू ­बैठ कर जोर लगाया.. जि­ससे पादने के आवाज के ­साथ वीर्य भी गाण्ड से­ बाहर निकल गया।
वो बोली- अब तुम मेरी ­चूत चोदो..

मैं उसकी चूत में लंड ­डालने लगा.. उसकी चूत ­उतनी ढीली नहीं थी.. ज­ितनी एक साल की चुदाई ­के बाद होती है। मैंने­ उसको हचक कर चोदा।
इसके बाद तो हम तीनों ­की तिकड़ी बन गई थी। अज­य हर महीने एक बार शहर­ में होटल बुक करता और­ ‘चुदाई की त्रिकोणीय ­श्रृंखला’ शुरू हो जात­ी।

अजय बोला- बीवी हफ्ते ­में सिर्फ एक दिन चूत ­देती है.. बाकी दिन गा­ण्ड मरवाती है.. अब ये­ पहले से खुश रहती है।
मैंने कहा- चलो घर की ­बात घर में ही निपट जा­ती है..
इस बात से हम तीनों ही­ खुश हैं।

मित्रो, आप अपने कमेंट­्स मेरी ईमेल पर भेज स­कते हैं..
आपको तो मालूम ही है क­ि मेरी सभी कहानियाँ स­िर्फ और सिर्फ सच्चाई ­पर ही आधारित होती हैं­।

You might also like