Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / धमाकेदार चुदाई / क्लास की रंडी की चीख निकली

क्लास की रंडी की चीख निकली

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम है कपिल और मैं मध्य प्रदेश के कटनी जिले का रहने वाला हूँ | मैं पढने में अच्छा था इसलिए मेरा भोपाल के एक अच्छे कॉलेज में एडमिशन हुआ और मैं वहाँ रहकर पढने लगा | मेरा लड़कियां पटाने में ज्यादा रुझान है और मैं ज्यादातर उन्ही लड़कियों पे चांस मारता हूँ जो थोड़ी तेज़ होती है मतलब जिहें लडको की भाषा में रंडी कहते है | ऐसी लड़कियां हर स्कूल और कॉलेज की क्लास में होती है जो दिखने में अच्छी होती है लेकिन उनका करैक्टर ढीला होता है | उनके बारे में सबको पता होता है कि ये कहाँ कहाँ मुंह मारती हैं और क्या क्या करती है ? ऐसी लड़कियों का एक फायदा होता है ये पट भी जल्दी जाती है और दे भी जल्दी देती है और मैं तो हमेशा ऐसी लड़कियों की तलाश में रहता हूँ |

तो एक ऐसी लड़की मेरी क्लास में भी थी उसका नाम था दीपाली | नाम से ही रंडी लग रही है और ऐसी लकड़ियों में एक चीज़ ख़ास होती ये दिखने में बहुत मस्त होती है बड़े बड़े दूध चौड़ी गांड और थोड़ी बहुत फूली हुई होती है | इनका कभी कोई एक बॉयफ्रेंड नहीं होता इनके पास लड़कों का एक ग्रुप होता है जिसमें सब इसकी मारने में लगे होते है लेकिन कामियाब कुछ ही हो पाते है | ये लड़कियां हर लड़के से आराम से बात कर लेती है और अगर कोई पैसे वाला दिख जाये तो उनके पीछे पड़ जाती है | तो आप समझ गए होंगे कि इनको पटाना ज्यादा मुश्किल नहीं होता | तो मैंने भी एक ऐसी ही लड़की पे चांस मारा नाम दीपाली | वो कॉलेज में मेरे साथ थी और मेरे आगे वाली बेंच पर बैठती थी | लभग एक महीने बाद मुझे उसके बारे में पता चला और मैंने सोचा कि चलो मिल गई मुझे अब यही मेरा शिकार है |

अब वो मेरे आगे बैठती थी तो हमारी कभी कभी बात हो जाया करती थी और वो भी अच्छी लगती थी इसलिए मैं भी उससे अच्छे से बात कर लिया करता था लेकिन कभी उस दर्जे की बात कभी नहीं हुई लेकिन अब तो मुझे करनी ही इसलिए मैं अब सोच में पड़ गया कि उसे घूमने जाने के लिए कैसे पूछूं | मुझे उससे बात शुरू करने की कोई दिक्कत नहीं थी क्योंकि मेरी उससे बात तो चलती ही थी लेकिन वो अकेले बहुत कम रहती थी |फिर मैं उसके पीछे बैठके उससे बात करता रहता था और मैंने बातों बातों में उसका नंबर ले लिया | वो कभी आके मेरे साथ बैठ जाती थी और कभी मेरा हाँथ पकडती थी तो कभी मेरे से चिपककर बैठती थी | मैं भी उसके मज़े लेता रहता था और वो ये बात बहुत अच्छे से समझती थी लेकिन वो भी मेरे मज़े लेती रहती थी |

हम दोनों रोज़ फ़ोन पर बातें किया करते थे और करीब दो हफ्ते बाद मैं उससे कहा क्या तुम मेरे साथ घूमने चलोगी ? तो उसने कहा कहाँ ? तो मैंने कहा मूवी देखने | तो उसने कहा हाँ ठीक है चलूंगी | हम दोनों मूवी देखने गए और कोने वाली सीट लेकर बैठ गए | मूवीचल रही थी तभी मैंने उसके हाँथ पर हाँथ रख दिया और वो मेरी तरफ देखने लगी | मैंने भी उसकी तरफ देखा और कहा क्या हुआ ? नहींपकड़ सकता क्या ? तो उसने कहा नहीं मैंने तो ऐसा कुछ नहीं कहा | तो मैंने कहा ठीक है और उसके करीब जाने लगा | थिएटर खाली था और हमारे आसपास ज्यादा कोई नहीं था इसलिए मैं बेफिक्र होकर उसके साथ कुछ करने को तैयार था | फिर मैंने उसके करीब गया और कहा पिक्चर तो कुछ खास है नहीं और कुछ करते है | तो उसने कहा हाँ चलो किस करते हैं | मैं ये सुनकर दंग रह गया और अन्दर से ख़ुशी भी हुई | उसने कहा इतना क्या सोच रहे हो मुझे पता है तुम मुझे यहाँ क्यों लाए हो | तो चलो करते है | मैंने उसको पकड़ा और लपक के उसको किस करना शुरू कर दिया |वो भी मज़े से किस करने में लगी हुई और हम दोनों एक दुसरे के होंठों का रस चूस रहे थे |

किस करते करते उसने मेरा लंड दबाना शुरू कर दिया और मैंने अपना एक हाँथ उसके दूध पर रख दिया और दबाने लगा |तभी हॉल में लाइट्स चालू हो गई और हम दोनों रुक गए | मैं मन में सोच रहा था कि ये तो कितनी अच्छी लड़की है मैं इसको कभी आई लव यू भी नहीं कहा और ये मुझसे चुदवाने के लिए भी तैयार है | तो मैंने उससे कहा क्या उम कुछ खाओगी उसने कहा पॉपकॉर्न और मैंने उसको पॉपकॉर्न लाके दिए | वो थोड़ी देर तक पॉपकॉर्न खाती रही और मैं पिक्चर कालू होने का इंतज़ार करने लगा | लाइट्स बंद हो गई और मैंने अपना लंड बाहर निकाल कर उसका हाँथ अपने लंड पर रख दिया | उसने पॉपकॉर्न एक किनारे रखा और मेरा लंड चूसने लगी | वो थोड़ी देर तक मेरा लंड हिला हिला कर चूसती रही और मेरा मुट्ठ उसके मुंह में ही निकल गया |

उसने वहीँ पर थूक दिया और कहने लगी बड़ी जल्दी हर मान गया तुम्हारा छोटू | तो मैंने कहा अच्छा चलो मेरे रूम बताता हूँ मेरा छोटू क्या कर सकता है | तो उसने कहा अच्छा क्या कर सकता है ? तो मैंने उसकी जीन्स के ऊपर से उसकी चूत पर हाँथ रखा और दबा दिया और कहा चलो फिर पता चलेगा | उसने कहा ठीक है चलो फिर पिक्चर ख़त्म होने के बाद हम दोनों मेरे रूम पर गए और जैसे ही हम अन्दर घुसे तो मैंने अपने दोस्तों को इशारा किया और वो सभी बाहर चले गए | जाते जाते सब मुझे ऑल द बेस्ट बोल रहे थे और वो ये सब देख रही थी | वैसे लड़कों को तो पता ही होता है अगर कोई लड़का लड़की लाया है और दोस्तों को जाने के लिए बोल रहा है तो इसका एक ही मतलब होता है |

फिर सभी बाहर चले गए और मैंने दरवाज़े की कुंडी लगा दी | फिर मैंने उसकी तरफ देखा वो मुस्कुरा रही थी फिर मैंने उसको पकड़ा और उसका टॉप ऊपर करने लगा | तो उसने कहा इतनी भी क्या जल्दी है तो मैंने कहा मुझे जल्दी है और मैंने उसका टॉप उतार दिया और ब्रा भी उतार दिया | मैंने उसको दूध को जोर से पकड़ा और दबाने लगा | वो उम्म्म्म उम्म्म्म उम्म्मम्म करने लगी और मेरे लंड के ऊपर हाँथ फिराने लगी | फिर मैंने उसके निप्पल पकडे और खींचने लगा | फिर मैंने उसके निप्पल को दांत से पकड़कर खींचना शुरू किया और वो ऊम्म्म्मम्म उम्म्मम्म उम्म्म्म अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह करने लगी |

मैंने उसकी जीन्स खोली और पैंटी सहित उतार दी | फिर मैंने उसको बिस्तर पर धक्का दिया और उसकी चूत घिसने लगा | वो अपने दूध दबाने लगी और आह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह ऊम्म्मम्म उम्म्मम्म उम्म्म्म ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह करती रही | फिरमैंने उसकी चूत में दो उँगलियाँ डालकर जोर जोर ऊँगली करने लगा | उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और वो अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह ह्ह्ह्हह ह्ह्ह्हह्ह करने लगी | फिर मैंने अपनी पैन्ट खोली और चड्डी उतार के अपन खड़ा लंड उसकी चूत में डालकर जोर जोर से उसको चोदने लगा | मैं उसे जोर जोर के झटके मार कर चोद रहा था और वो अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उम्म्मम्म उम्म्मम्म हाआआआआ न्न्न्नन्न्न्न आह्ह्ह्हह्ह्हा न्न्ह्हहह्ह्ह्ह आह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह करती रही | मैंने उसकी चूत को 20 मिनिट तक चोदा और मेरा निकलने को हुआ तो मैंने मुट्ठ वहीँ पर किनारे झड़ा दिया |

फिर मैंने उसके मुंह में लंड डाल दिया और उसने मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया | फिर मैंने बिस्तर पर लेट गया और वो मेरे ऊपर चढ़कर मेरा लंड चूसने लगी | फिर मैंने उससे कहा घूम जाओ और हम 69 की पोजीशन में एक दुसरे की चाटने लगे | मैं उसकी चूत चाट रहा था और साथ में उसकी गांड में ऊँगली भी कर रहा था | फिर मैंने उसकी गांड में दो ऊँगली डालकर अन्दर बाहर करने लगा | अब मेरा फिर सेपूरी तरह खड़ा हो चूका था तो मैंने उसको अपने ऊपर से उतारा और उसको घोड़ी बना दिया | फिर मैंने उसकी गांड पर थूक लगाया और उसकी गांड में लंड घुसाने लगा | मेरा लंड जैसे ही थोडा सा अन्दर घुसा उसकी चीख निकल गई | फिर मैंने थोडा जोर लगाया और लंड अन्दर तक घुसा दिया और उसकी गांड मारने लगा |

अब वो जोर जोर से अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हह्ह आआआआ ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह करती रही | मैं उसकी गांड बिना रुके मारता गया और वो चीखती रही | मेरा फिर से झड़ने को हुआ तो मैंने उसको घुमाया और उसके मुंह पर सारा मुट्ठ गिरा दिया और कहा देखा मेरा छोटू क्या कर सकता है | फिर उसके बाद मैंने कई बार उसको चोदा और एक बार तो कॉलेज की टॉयलेट में भी उसको बजायालेकिन कभी उसको आई लव यू नहीं कहा | तो दोस्तों मेरी बात मनो तो आप भी कोई ऐसी ही लड़की को पटाओ और खूब बजाओ |

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें