xVasna.com
Desi SEX Kahaniya

ट्रेन मे गांड मराई – Hindi Gay story

0

मैं अनु मिश्रा हू … मैं ये एक साची घतना बता रहा हू,,इसमे वो ही सब ह जो सच मे हुआ था,सबसे पहले मैं उस टाइम 20 साल का था. मैं स्लिम हू नॉर्मल कलर, मेरे बॉडी पर बाल नही ह क्यूकी मैं रेग्युलर्ली सॉफ कराता रहता हू,,मैं काफ़ी पहले से करॉस ड्रेसिंग कराता हू तो काफ़ी सारे मामलो मे मैं लड़कियो जैसे ही बिहेव कराता हू,,,मैं ना चाहते हुए ब गर्ल्स की तरह रिक्ट कर देता हू,,,

उस दिन मैं ट्रेन मे देल्ही से बंगलोरे जा रहा था, वेटिंग रूम मे एक अंकल जिनकी एज 55-60 होगी मेरे बगल मे बेठे थे ,उन्होने मेरे मोबाइल मे कुछ लड़को की पिक्स देख ली टॉप लेस(बाद मे बताया) तब से उन्हे मुझे पर डाउट था,,,वॉश रूम मे जब मैं टाय्लेट करने गया तो वो ब पीछे पीछे आ गये,,मैं हर टाइम पेंटी ही पहनता हू जब ब घर से बहात जाता हू,,उस दिन मैने ब्लॅक कलर की ग-स्टिंग पहनी थी..

मैं जब टाय्लेट कर रहा था तो जीन्स थोड़ी टाइट थी तो मुझे थोड़ा नीचे करना पड़ा. अंकल को मेरी ग स्ट्रिंग दिख गई तब वो समझ गये सब कुछ, बट कुछ बोले न्हैई..जब हम वापस वेटिंग हॉल मे आए तो उन्होने मुझ से मेरी सीट पूछी मैं कहा आ1 मे 5.उहोने कहा अरे वा ,मेरी 6 सीट ह,,हम तो साथ ही जा रहे ह फिर,तब हम बात करने लगे.वो ब ब्ग्ल जा रहे थे अकेले.

टैन आ गई ट्रेन मे चहद्ते हुए उन्होने मेरी गांड पर हाथ रखा मैं तब ध्यान नही दिया क्यूकी मैं नॉर्मल बॉय की तरह बिहेव कर रहा था. ट्रेन रात मे 8 बजे की थी.. कुछ लोग डिन्नर करने लगे,मैं घर से कर क आया था तो अपनी सीट पर सो गया तब अंकल ने मुझे उठाया और कहा की साथ कुछ खा लो,मैने माना किया बट उन्होने ज़बरदस्ती उठा क खाने क लिए कहा,मैं थोड़ा सा खाया. फिर वो बात करने लगे,कहा रहते हो,कहा जा रहे हो,क्यू जा रहे हो,,कोई गर्ल फ्रेंड ह क्या.मैने जब गर्ल फ्रेंड क लिए माना किया तो वो हासने लगे,फिर इधर उधर देख कर कहा और कोई?? मैं शर्मा गया,बुत लोग थे तो कुछ कहा नही और जान भूह कर अंजन बन गया और कहा मतलब? अंकल ने कहा और मतलब दोस्त होगी कोई,,मैने कहा हा काफ़ी सारी दोस्त ह. ट्रेन मे गांड मराई – Hindi Gay stories

थोड़ी देर मैं सब सोने लगे.अंकल मुझ से बात करते रहे ,सारी लाइट्स ऑफ हो गई तब अंकल ने मेरे टॅंगो पर हाथ रखा.मैने कुछ कहा नही तो उनका हौसला बढ़ गया ,अब वो बात करते करते मेरी जानहगो को सहला रहे थे,मुझे ब अछा लग रहा था.उन्होने ढेरे ढेरे हाथ मेरे लंड की तरफ ले गये और एक दम पास जा कर रुक गये,,फिर मुझ से कान मे कहा मुझे पता ह तुम गे हो..मैं दर गया थोड़ा तोड़ा,मैने कहा नही हू,,उन्होने कहा मैने तुम्हारी पेंटी देखी न और म्बल मे पिक्स भी..तब तो मुझे लगा की कही गे सेक्स वाली पिक्स तो नही देख ली इसलिए मैने तुरंत हा कह दिया,,उंहोने पूछा क्या हर टाइम लड़की क कपड़े पहनते हो ,,

मैने कहा की नही हर टाइम सिर्फ़ पेंटी पहनता हू और जब मौका मिलता ह तब पूरी लड़की क,,उन्होने पूछा कहा ह कपड़े मैने बताया बाग मे ह,,उन्होने कहा जाओ ब्रा और स्टॉकिंग्स पहन लो,,मैने कहा कोई देख लेगा,,वो बोले लाइट ऑफ ह नही दिखेगा.मैने बाथरूम मे जा कर स्तकक्िंग्स और मॅचिंग ब्रा वहें ली फिर जीन्स और टी-शर्ट उपसर से डाल क आ गया .अंकल बोले दिखाओ मैने कहा नाःनी,उन्होने परदा डाल दिया अब मैने टी-शर्ट उतार दी,,मेरे छोटे छोटे बूब्स ह उसमे ब्रा एक दम फिर थी,मेरे बॉडी मे कोई ब बाल नही ह,वो देख क पागल से हो गये मुझे किस करने लगाए लिप्स पर मैने ब उनको रेपसॉंसे दिया,वो ख्सूह हो क मेरी जीन्स खोल दिए मैं अब उनके खड़े लंड पर पैंट क उपर से हाहत फेर रहा था,उन्होने जीन्स उतरने कहा ,अब मेरा दर ख़त्म हो गया था मैने जीन्स ब उतार दी,अब मैं केवल ब्लॅक ब्रा, ग-स्ट्रिंग न स्टॉकिंग्स मे था..

उन्होने अपना पैंट उतार दिया और चड्डी ब,उनका लंड मोटा और बड़ा था बट उतना हार्ड नही था,,मैने उस पर हाथ फेरना शुरू किया तो वो ढेरे ढेरे हार्ड होने लगा अब अंकल मे मेरे मूह को अपने लंड की तरफ ले गये मैं समझ गया और उनका पूरा लंड मूह मे ले लिया,मैं उनका मोटा लंड चूस रहा था,अंकल ढेरे ढेरे सिसकी ले रहे थे,मुझे अब तक बहुत मोटे लंड लेने की आदत हो चुकी थी तो मैं आराम से उनका मोटा लंड चूस रहा था,,वो खुश हो रहे थे,,उन्होने मेरे ग स्टिंग पर हाथ फेर कर कहा तेरा लंड तो खड़ा न्हैई हुआ ,,,मैने कहा मेरा खड़ा नही होता तो वो बोले तब तो तू सच मे लड़की ह,,उन्हने देखा मेरा छोटा सा लंड ह ,मैने वाहा पर दिल की डिज़ाइन मे बाल कट कर रखे ह,,वो बोले तू तो रंडी ह पूरा,,मैने कहा मुझे अनु बोल्ाओ,,मेरा सीडी नाम अनु ह,वो बोले अनु रंडी,चूस मेरे लंड को,,मैं फिर से चूसी ने लगा,,अब आगे मैं लड़की की तरह सुनगुना,

फिर उन्होने अपने हॅंड बाग से करीम निकली तो मैने माना किया कहा मेरे  पास जेल और कॉंडम ह तो वो बोले लगता ह तू सच मे रंडी हर टाइम गांड मरवाने का समान साथ रखती ह,मैं हास दी,,, अब मैने गेल और कॉंडम निकले ,अपने हाथो से अंकल को कॉंडम पहना क गेल उन्हे दिया मेरी गांड क छेद मे लगने को,,अब मुझे पलटा क वो मेरी गांड मे उंगली कर र्हाए थे मैं तड़पने लगी,किसी तरह कोनटल कर क बोली उंक्ली प्ल्ज़ गेल लगा लो,,

फिर अंकल ने गेल लेकर फिर से मेरी गांड मे उंगली करने लगे,1 फिर 2 फिर 3 उंगली डाल दी,,मैं आपने एक्षसितमेंट को कंट्रोल कर रही थी,,अब अंकल मे मेरी गांड को छेद पर अपना लंड रकाहा और मेरी नीचे दो पिल्लो,और ढेरे ढेरे गांड मे लंड डालने लगे बट छेद पर ठीक से बहता नही तो गया नही,,,मैं तड़प रही थी लंड क लिए ,उनका मोटा लंबा लंड अब कड़क ब हो गया था और मैने 2 हफ्ते से गांड नही मरवाई थी,मैने थोड़ा आज़डुक्त कर क उनके लंड को छेद क पास सेट करवाया और खुद पीछे हो क हल्का सा फसा लिया ,,अंकल मेरे काम मे बोले तुझे बड़ा एक्स्प ह कुतीया,,मैने उन्हे कहा ऐसे ही बोलो मुझे अछा लगता ह,वो बोले तू ह ही कुतीया अछा तो लगेगा ही,,फिर उन्होने मेरे कंधो को पकड़ कर झटका मारा और उनका लंड आधा अंदर चला गया मेरी हल्की से चीख निकली,,हम दर गये थोड़ी देर कोई हलचल नही की… ट्रेन मे गांड मराई – Hindi Gay stories
फिर अंकल ने कहा साली रंडी चीख क्यू रही ह,तुझे तो आदत ह गांड मरवाने की ,मैने कहा आपका बहुत मोटा ह दर्द हो रहा ह तोड़ा,,बोले चुप कुतीया अब आवाज़ की तो सीट से गिरा दूँगा फिर घूमना ट्रेन मे ब्रा पेंटी मे,,मैने उनको चड्डी को मूह मे फसा लिया ताकि आवाज़ ना निकले और एक्षसितमेंट ब रहे उनके लंड की स्मेल से,,अब ढेरे ढेरे वो मेरी गांड मरने लगे और पूरा लंड अनादर डाल दिया,,,अब वो ज़ोर ज़ोर से झटके मरने लगे,मैं ब साथ देने लगी अपनी गांड आगे पीछे कर क,,मुझे मोटा लंड होने से दर्द हो रहा था बट मज़ा ब आ रहा था,,,अचानक उन्होने बढ़ता बदहा दी,,अब मुझे जादा दर्द हो रहा था बट मैं आवाज़ नही निकल सकती थी,,उन्हे इशारा किया तो वो मुस्कुरा की और तेज़ हो गये,,मैं समझ गई वो जान भुज कर रहे ह,,

अब ऐसे ही मुझे आदत होने लगी,मेरी गांड मे धक्का धक उनका लंड अंदर बाहर हो रहा था और मैं पागल से हो र्है थी,,,मेरे लंड ने दो बार पानी चोद दिया था अब तक,,,अब अंकल ने मेरे बूब्स को ज़ोर ज़ोर से मसलना शुरू किया और कान मे गली देने लगे,साली रंडी छीनाल गन्दू,,तू बहुत बड़ा गन्दू ह,,,साली तेरी गांड मस्त ह,,आआआआहह,और वो झाड़ गये,,थोड़ी देर हम उ ही पड़े रहे ,,मेरे लंड से थोड़ा तोड़ा पानी और निकला,,,अंकल बोले तू ऐसे ही जड़ता ह क्या ,,मैने हा मे सर हिलाया,,वो हासने लगे,,बोले तू तो साची रंडी ह,,गंद मरवाने क काम का ही ह,,अब उन्होने अपना लंड निकाला मेरी गांड मे से और कॉंडम उतार क मुझे चूसने दिया ,मैने सारा रस चूस लिया उन्होने कॉंडम का रस भी मेरे मूह मे गिरा दिया और मैने सारा पे लिया

थोड़ी देर बाद मैने कहा अब मैं चेंज कर लू तो बोले नही अब तू मेरी रंडी ह,,इसी क उपर टी-शर्ट पहन ,स्ट्न पर देखने दे सबको की तू गन्दू ह,,मैने काफ़ी रेक़ की तो वो मन गये बट कहा पहले मेरे साथ होटेल चल ठीक से चुदया फिर,,मैं मन गया क्यूकी मुझे ब मज़ा आया था

You might also like