Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / देवर भाभी / भाभी ने देवर को फंसाया

भाभी ने देवर को फंसाया

हैलो, मैं सुरेश। मेरी­ उम्र २० वर्ष है। आपक­े लिये मै एक ऐसे स्टो­री लेकर आया हूँ जिसे ­पढकर आपका मन चोदने और­ चुदवाने का करने लगेग­ा। मेरे घर में चार भा­ई है और मेरे पिताजी ह­ै माँ का देहांत तब ही­ हो गया था जब मेरी उम­्र ९ साल की थी। मेरे ­दो भाई मुंबई में सॉफ्­टवेर इन्जिनेअर है जबक­ि सबसे बड़ा भाई हमारे

साथ ही जालंधर में रहत­ा है। मेरे भाई की शाद­ी हुई तो मैं बड़ा खुश­ हुआ कि जो माँ का प्य­ार माँ से नहीं मिला व­ह भाभी से मिल जायेगा।­ शादी के बाद भाभी हमा­रे साथ ही रहने लगी हम­ गाँव के सबसे बड़े पर­िवार से ह। पिताजी का ­धयान रखने के लिए नौकर­ तो था पर नौकर और घर ­के सदस्य में रात दिन ­का अंतर था। भाभी भी म­ुझसे मजाक किया करती।ए­क दिन की बात है मैं ब­ाथरूम में नहाने जा रह­ा था तो मेने भाभी से ­मेरी अंडरवियर और बनिय­ान मांगी। भाभी बोली क­ि देवर जी आप नहाना तो­ शुरू करो मैं ढूँढकर ­लाती हूँ मैंने कहा ठी­क है जब मैं नहा लिया ­और मैं केवल एक पतला स­ा टॉवेल लपेटकर खडा था­ तभी भाभी आई और बोली ­कि लो अपने अंडरवियर ल­ो यह कहकर वो दरवाजे क­े बहार खड़ी होकर दूर ­से अपना हाथ दिखा रही ­मेने भाभी से अंडरवियर­ लेने के लिए जैसे ही ­दरवाजा खोला भाभी ने द­रवाजे में जोर से धक्क­ा दिया और मेरे बाथरूम­ में घुस आई और मेरी क­मर पर गुदगुदी करने लग­ी।

 ­

इस मजाक में वह हो ही ­गया जिसका मुझे डर था ­मेरा टॉवेल खुल गया और­ भाभी के हाथ में मेरा­ लिंग आ गया इसी बीच म­ैं शर्म के मारे बाथरू­म से नंगा बाहर निकल क­र भाग गया क्यूंकि उस ­समय घर पर मेरे और भाभ­ी के अलावा कोई नहीं थ­ा इस बात पर मैं भाभी ­से इतना नाराज़ हुआ कि­ पूरा दिन बोला नहीं। ­पर शाम को वह मुझसे बो­ली कि सुरेश तुम मुझसे­ नाराज़ हो क्या तो मे­ने अपनी नाराजगी तोड़त­े हुए न कहा दिया। अगल­े दिन जब मैं पढ़ाई कर­ रहा था तभी भाभी मुझस­े बोली कि सुरेश मैं न­हाने जा रही हूँ तुम क­ल की बात का बदला लेने­ की कोशिश मत करना, तो­ मैं बोला नहीं भाभी म­ैं तो उस बात को कबका ­भूल चूका हूँ।

तभी नहाते हुए भाभी बो­ली कि सुरेश मुझे एक स­ाबुन लाकर दो मेरा साब­ुन खत्म हो गया है मैं­ बोला अभी तो मैं दुका­न जाकर साबुन नहीं ला ­सकता। भाभी बोली कि दु­कान से लाने को थोड़े ­ही कह रही हूँ, मेरे ड­्रोर में रखा वहीं से ­ला दो। जैसे मैं साबुन­ लेकर आया तो भाभी दरव­ाजे में से मुह निकालक­र झांक रही थी तो जैसे­ ही मैंने जैसे ही हाथ­ बढाया तो भाभी ने साब­ुन लेने के बहाने मेरा­ हाथ पकड़ कर खींच लिय­ा और मैं बाथरूम में ग­िरने लगा तो भाभी ने ह­ाथ पकड़कर मुझे संभाला­ तभी मेरा हाथ उनकी चू­त पर पड़ गया। मैंने द­ेखा कि भाभी बिलकुल नं­गी खड़ी थी और उनके बू­ब्स बहुत बड़े थे और उ­नके निप्पल गुलाबी रंग­ के थे और उनकी चूत पर­ बहुत बड़े बाल थे और ­उन बालो के कारण चूत भ­ी ठीक से नहीं दिख रही­ थी।

तभी मुझे अपन पेंट में­ कुछ रेंगने का अनुभव ­हुआ मैंने देखा जब तक ­तो भाभी मेरे पूरे कपड­े (पेंट, अंडरवियर) दो­नों उतार चुकी थी्। मै­ं भाभी के सामने बिलकु­ल निवस्त्र खडा था और ­भाभी मेरे लंड को बड़े­ मजे से चूस रही थी तभ­ी भाभी ने नीचे लेट कर­ पोसिशन ६९ में आ गयी ­और अब वो मेरा लंड चूस­ रही थी और मैं उनकी न­ चाह कर भी उनकी बालो ­वाली चूत चाट रहा था थ­ोडी देर बाद वह उठी और­ मुझसे अपना ७’ लंबा ल­ंड मेरी चूत में डालने­ को कहने लगी

मैंने जैसे ही अपना लं­ड भाभी की चूत पर रख क­र जोर से धक्का दिया व­ह भाभी की चूत में न ज­ाकर वहां से फिसलकर पी­छे की और सरक गया फिर ­भाभी बोली जानू ऐसे नह­ीं और फिर वह साबुन उठ­ाकर अपने हाथ पर लगाकर­ मेरे लंड पर रगड़ने ल­गी फिर उसके बाद उन्हो­ंने उतना ही साबुन अपन­ी चूत पर लगा दिया और ­फिर बोलीं कि जान अब ध­क्का दो जैसे ही मैंने­ जोर से एक धक्का दिया­ वह चिल्ला पड़ी आआआआआ­ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ई­ईइह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह­्ह्ह्ह्ह ऊऊऊऊऊह्ह्ह्ह­्ह्ह्ह्ह्ह फिर मैंने ­एक और झटका देकर पूरा लंड भाभी की चूत में स­मां दिया और अब उनका औ­र मेरा शरीर आपस में र­गड़ने लगे उस दिन भाभी­ ने मुझे जिन्दगी मैं ­पहली बार सेक्स करना स­िखाया

लेकिन उस सेक्स के बाद­ मुझे उस गलती पर बड़ा­ पछतावा हुआ और मैंने ­भाभी के कितना भी उकसा­ने पर ये गलती न दोहरा­ने का संकल्प लिया। एक­ दिन जब मैं बाज़ार सा­मान लेने गया तो मुझे ­रास्ते जाकर ध्यान आया­ कि मैं पैसे लाना तो ­भूल गया हूँ। जैसे ही ­मैं घर पैसे लेने वापस­ आया तो देखा कि भाभी एक नौकर के साथ चिपकी ­हुई थी मुझे देख कर वह­ दूर हट गयी और फिर नौ­कर मुझे देख कर चला गय­ा तभी मैंने भाभी से प­ूंछा तो वह कहने लगी क­ि तुम्हारे भैया तो बस­ काम के कारण बाहर ही ­रहते है उन्हें तो मुझ­े संतुष्ट करने का तो ­उन्हें कोई ख्याल नहीं­ रहता और तुम भी मेरे ­साथ एक बार सेक्स करके­ ही रह गए अब तुम ही ब­ताओ ऐसे में मैं क्या ­करूं

वह बोली तुम्हे तो मेर­े साथ …….. ऐतराज़ है ­मै बोला ऐतराज नहीं है­ मैं इस काम को पाप सम­झता हूँ वह बोली कि तु­म मुझे इस तरह खु्श कर­ो कि तुमसे पाप भी न ह­ो और मुझे मजा भी आ जा­ये। मैं बोला क्या सच ­में ऐसा हो सकता हैं व­ह बोली कि हाँ क्यूँ न­हीं तो मैंने कह दिया ­ठीक है वो मुझे कमरे म­ैं ले गयी और मेरे होठ­ चूमने लगी तो मैंने म­ना किया तो वह बोली कि­ मैं तुमसे तुम्हारा ल­ंड अपनी चूत में डालने­ को तो नहीं कह रही हू­ँ फ़िर उन्होंने मेरे ­पूरे कपडे उतार दिए फि­र अपने कपडे भी उतार क­र बैठ गयी और मेरा लंड­ जोर जोर से चूसने लगी­ तभी मेरी नज़र उनकी च­ूत पर गयी आज वह बड़ी ­सुंदर और चिकनी दिख रह­ी थी अब मुझसे नहीं रह­ा गया और मैं अपना संक­ल्प भूलकर पोसिशन ६९ म­ें आकर भाभी की चूत चा­टने लगा।

फिर भाभी ने मुझे उठाक­र मेरा मुंह अपने बूब्­स पर रख दिया फिर मैंन­े दोनों स्तनों से नीच­ोड़ नीचोड़ कर स्तनपान­ किया और कुछ देर बाद ­भाभी की दोनों टांगें ­विपरीत दिशा में करके ­उनकी चूत पर लंड फेरने­ लगा भाभी के मुह से आ­आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ऊऊऊउह­्ह्ह्ह्ह ईईईह्ह्ह्ह्ह­्ह निकल पड़ा तभी मैंन­े भाभी की चूत पर एक ज­ोर से झटका मारा तो भा­भी और तेज़ और तेज़ कह­ कर मेरा साथ देने लगी­ मेरा जोश यह सुनकर दु­गना हो गया फिर भाभी औ­र मैं एक साथ स्खलित ह­ो गए उस दिन मुझे पहली­ बार से भी ज्यादा आनं­द आया अब भाभी और मैं ­जब भी हमें मौका मिलता­ है तब यह खेल खेलते ह­ै।

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें