Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / जवान लड़की / वो लड़की बहुत याद आती है

वो लड़की बहुत याद आती है

​                                         वो लड़की बहुत याद आती है

नमस्कार दोस्तो मैं रौशन मिश्रा झारखंड राज्य के पलामू ज़िले का रहने वाला हूँ , मेरी उमर 32 वर्ष है , और मेरे लॅंड का साइज़ लगभग 5 इंच है, मेरी हाइट लगभग 5 फूट 3 इंच है! ये कहानी आज से एक साल पहले की है जब मैं एक गृहपरवेश करवाने राँची गया था !ये कहानी अपनेआप मे एक अजीब तरह की है ! ये कहानी पढ़ने वाले दोस्तों से गुज़ारिश करूँगा की मुझे मेल [email protected] पर ज़रूर  करें!                   दोस्तों मेरा पूजा पाठ के काम से अक्सर बाहर आना जाना लगा रहता था ! एसे ही एक बार मैं एक यजमान के घर गृहपरवेश करवाने राँची गया था ! वहाँ पर बहुत से रिस्तेदारो की भीड़ थी! मैं वहाँ शाम के पाँच बजे के करीब पहुचा ! वहाँ पर मेरा लगभग तीन दीनो का काम था! मेरे वहाँ पहुचते ही मेरा भरपूर स्वागत किया गया ! वो एक हिंदू पंजाबी परिवार था तो पंजाब से बहुत से रिस्तेदार आय थे ! मेरा वहाँ पर रुकने के लिय एक कमरा दे दिया गया, कमरे मे एसी लगा हुआ था तो मैं आराम से कपड़े उतार कर लूँगी लपेट लिया गर्मी का मौशम था तो सफ़र की थकावट को दूर करने ले लिय मैं दो घंटे के लिय सो गया! लगभग 8 बजे मेरी नींद खुली तो सारे लोग वहाँ भोजन के लिय मौजूद थे तो मैं भी हाथ मूह धोकर डेनिंग टेबल पर बैठ गया ! इसके बाद मेरा यजमान ने सब से मेरा परिचय करवाया ! उन सब मे एक लड़की अर्पिता थी जो मेरे यजमान की भतीजी थी उसके मा बाप एक एक्सिडेंट मे गुजर गे थे तो वो गाव मे ही खैति बारी तथा बी ए की पढ़ाई कर रही थी ! वो बहुत ही सुन्दर थी उसकी हाइट लगभग 5 फूट 10 इंच थी और फिगर लगभग 36-30-38 होगी ! उसे देख कर मेरा मन डोल गया वो मुझे देख कर बार बार मुस्कुरा रही थी बदले मे मैं भी उसे देख कर मुस्कुरा रहा था ! रात को लगभग 11 बजे सभी सोने चले गय! मुझे नींद नही आ रही थी वो लड़की बार बार मेरे खेयालों मे आ रही थी ! मुझे डर भी लग रहा था की अगर मैं उसे कुछ कहा तो उसके परिवार वाले बुरा मान जाएँगे ! एसे करते करते रात गुजर गई सबेरे उसी ने आकर मुझे जगाया, मैं फ्रेश होकर नहाया , नहा धोकर पूजा पाठ की तयारि किया ! दिन भर तयारि करने मे ही समय निकल गया ! लेकिन एक बात थी की पूजा पाठ की तयारि करवाने मे अर्पिता ही दिन भर मेरे साथ थी ! चाय पानी से लेकर हर चीज़ वो ही लाकर मुझे दे रही थी ! उसका स्वाभाव बहुत ही अच्छा था ! वो मुझसे हंस हंस कर बात कर रही थी ! दिन भर मे ही मेरी उससे अच्छी दोस्ती हो गई थी ! रात को खाना खाने के बाद लगभग 10 बजे मैं सोने चला गया, दिन भर के काम के बाद मुझे थकावट लग रहा था, रात को साढ़े 10 बजे अर्पिता मेरे लिय चाय लेकर आई, मैं उसके हाथ से चाय लेकर पीने लगा ! वो मेरे पास बैठ गई ओर मुझसे बातें करने लगी,मैने उसे बताया की मुझे थकावट लग रही है तो वो एक कटोरे मे तेल लेकर मेरे पैरों मे मालिश करने लगी मुझे आराम लगा उसके हाथ मजबूत थे वो बोली की पंडितजी आप कपड़े खोलकर आराम से लेट जाईए मैं आपके पूरे शरीर मे मालिश कर देती हूँ! मैं बोला मुझे शरम आती है, तो वो बोली की मालिश करवाने मे शरम कैसा? आपकी सेवा करके मुझे खुशी मिलेगी ! मैं शरमाते हुऐ अपने कपड़े खोल कर अंडरवियर मे हो गया वो मेरे पूरे शरीर मे मालिश करने लगी ! उसके कोमल हाथों के स्पर्श से मेरा लॅंड खड़ा होने लगा, घर के सारे लोग सो गये थे वो निर्भीक होकर मुझे मालिश कर रही थी ! आचनक वो उठ कर कमरे का दरवाजा बंद कर दी और मुझसे लिपट गई और बोली की जब से आप आए हैं तब से मैं आपको पसंद करने लगी हूँ! आपको देख कर मेरे तन बदन मे आग लग गई है मैं किसी बहाने से आपके पास रात गुजारना चाह रही थी और देखिय भगवान ने मेरी सुन ली! वो बोली आप चुदाई तो बहुत किय होंगे पर मैं आपको ऐसा मज़ा दूँगी की आप मुझे याद रखेंगे ! मैं उसकी बात को सुनकर दंग रह गया !सेक्स तो मुझे भी चढ़ा हुआ था तो मैं उसे अपने बदन से कसकर चिपका लिया वो मेरे बदन से बुरी तरह से लिपटी हुई थी आचनक वो उठी और मुझे खड़ा होने को कहा मैं खड़ा हो गया तो उसने मेरा अंडरवियर को खोल दिया मैं उसके सामने पूरा नंगा हो गया वो मेरे खड़े लॅंड को अपने हाथ मे पकड़ कर सहलाने लगी! फिर कुछ देर बाद उसने भी अपनी सलवार समीज़ और ब्रा पेंटी को खोल दिया और वो भी नंगी हो गई! उसका बदन एकदम गोरा और मुलायम था उसकी उमर उस समय करीब 25 वर्ष थी और हाइट मे मुझसे लंबी भी थी! आचनक वो उठी और मुझे अपनी गोद मे उठा लिया! मैं दंग रह गया अब मेरा लॅंड उसके बूब्स से रगड़ रहा था फिर वो मुझे अपनी दाहेने तरफ के कमर पर बचों की तरह उठा कर कमरे मे घुमाने लगी अब मेरा लॅंड उसके दाहेने तरफ के बूब्स को ठोकर मार रहा था मेरा लॅंड बहुत टाईट हो गया था! मैं आनंद के मारे अपनी आँखे बंद कर उसके कंधे पर सर रख दिया वो मेरे पीठ पर अपनी हाथ फेर रही थी! आचनक वो बोली कैसा लग रहा है? मैं बोला बहुत मज़ा आ रहा है मुझे तो विश्वास नही हो रहा की कोई लड़की मुझे अपनी गोद मे उठा कर घुमा रही है तो वो बोली की अभी कहाँ अभी तो और मज़ा आने वाला है कहकर वो मुझे अपनी गोद मे से उतार दिया और मुझे अपने कंधों पर बैठने को कहा मुझे डर लगा की कही वो मुझे गिरा ना दे पर वो नही मानी और मुझे अपना कंधों पर बैठा लिया और वो मुझे लेकर उठ कर खड़ी हो गई मेरा लॅंड उसके नरम नरम गर्दन से रगड़ने लगा मुझसे बर्दाशत नही हुआ और मैं झड़ गया तो वो हँसने लगी ! फिर वो मुझे अपने कंधों से उतार कर अपनी गोद मे बैठा लिया और मेरा लॅंड सहलाने लगी ! फिर कुछ देर बाद मेरा लॅंड फिर से खड़ा हो गया तो उसने मुझे अपनी पीठ पर उठाकर खूब घुमाया जब मेरा लॅंड बुरी तरह से तन कर खड़ा हो गया तो उसने मुझे अपनी पीठ से उतार कर बिस्तर पर लेट गई और मुझे बुलाया मैं बिस्तर पर चढ़कर 69 पॉज़िसन मे आकर उसके उपर चढ़कर चूत को चूसने लगा और वो नीचे से मुझे उछाल उछाल कर मेरा लॅंड चूसने लगी !मुझे बहुत मज़ा आया !फिर उस रात उसने जाम कर 3 बार अपनी चुदाई करवाई और हर बार वो एक नये तरीक़े से मुझे अपनी गोद मे उठाया मैं सचमुच उसके सेक्स करने तरीक़े से सन्तुस्ट हो गया! बाद मे मैने उससे उसके इस शौक के बारे मे पूछा तो उसने बताया की एक बार वो और उसकी एक सहेली इंटरनेट पर पॉर्न साइट देख रहे थे तो उसी मे मैने देखा की विदेशी लड़कियाँ अपने बाय्फ्रेंड को अपनी गोद मे उठा कर सेक्स का मज़ा देती है तो मिझे ये शौक आया ! मैं वहाँ 4 दिन रहा! एक दिन तो ऐसे ही निकल गया पर बाकी 3 दिनों तक वो रोज़ मुझे मज़ा देती रही! आज भी मुझे वो याद आती है पर उसका कोई मैल आइडी या फोन नंबर नह
तो दोस्तो मुझे [email protected] पर मैल करना ना भूलिएगा                                                                      धन्यवाद

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें