बहन चिल्लाई फिर भी कर दिया चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम दिलीप है। ये कहानी 6 महीने पहले की है, में रत्नागिरी से हूँ और ये कहानी भी रत्नागिरी की है। वो आंटी क्या मस्त थी में बता नहीं सकता, उसकी उम्र लगभग 35 साल थी, उसकी गांड क्या बड़ी थी? वो हमारे घर के पास में ही रहती थी, वहाँ पर हमारा आना जाना था। अब में सीधा कहानी पर आता हूँ।

मेरा नाम दिलीप है और में रत्नागिरी का रहने वाला हूँ, मेरा लंड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। मेरे घर के पास में एक घर में किराये पर एक लेडी रहती थी, उसका नाम हेमा था, उसके बूब्स मस्त थे और कमर पूछो मत। अब में आपका ज्यादा टाईम ना खराब करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँl

में उन्हें आंटी कह कर बुलाता था, तब वो बहुत सेक्सी थी में उनके घर पर जाता रहता था और वो मुझसे कुछ भी सामान मंगा लेती थी। उनके पति एक प्राइवेट जॉब करते है और उनके एक 6 साल का छोटा लड़का था, वो मेरे घर भी आती जाती रहती थी।

आज की और भी मजेदार कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे >>>..
एक बार की बात है। में उनके यहाँ गया तो वो बाथरूम में नहा रही थी और में उनके बेडरूम में जाकर बैठ गया, जब उनके पति जॉब पर गये थे, उनका टी.वी चल रहा था तो में देखने लगा। अब उन्हें पता नहीं चला कि में आया हूँ। फिर वो बाथरूम से निकल कर बाहर गेट बंद करके आई।

अब में अंदर था, फिर उन्होंने अपना टावल निकाल दिया, अब वो बिल्कुल नंगी थी, क्या लग रही थी वो? फिर जैसे ही वो अपने बेडरूम में आई तो मेरी नज़र उन पर और उनकी नज़र मुझ पर पड़ी, तो वो झट से भाग गई।

फिर थोड़ी देर के बाद वो कपड़े पहन कर आई और बोली कि दिलीप तू कब आया? मैंने तुझे देखा नहीं तू किसी से कुछ मत बोलना, तो मैंने कहा कि ठीक है फिर मैंने घर जाकर उनके नाम की मूठ मारी।

अब मेरे मम्मी पापा गावं जा रहे थे और बड़ा भाई ऑफीस के काम से 5 दिन के लिए बाहर गया था। अब मेरी मम्मी आंटी से कह कर गई थी कि रात को यहीं सो जाना, क्योंकि उनके पति की ड्यूटी भी नाईट की थी, तो उसने बोला कि ठीक है।

फिर वो पहली रात आई और वो मैक्सी भी अपने साथ लाई थी, फिर उन्होंने अपने कपड़े चेंज किए और मैक्सी पहनी और खाना खाकर बातें करने लगी। फिर वो मुझसे पूछने लगी कि क्या तुम्हारे कोई गर्लफ्रेंड है? तो मैंने कहा कि नहीं है, कोई बनती ही नहीं है। फिर मैंने थोड़ी हंसी मज़ाक की और फिर हम सो गये।

घर के नौकर ने पुस्सी की गर्मी निकाली
अब सुबह जब वो बाथरूम में कपड़े चेंज कर रही थी तो में खिड़की से देख रहा था, क्या बूब्स थे उनके? अब उन्होंने मुझे देख लिया था कि में उन्हें देख रहा हूँ, लेकिन उन्होंने अनदेखा कर दिया।

फिर अगले दिन वो सोने आई तो हम सोफे पर बैठे थे और टी.वी देख रहे, तो किस वाला सीन आया और उन्होंने चैनल बदल दिया। फिर मैंने कहा कि क्या हुआ? तो उसने बोला कि ये गन्दी बाते है, तो मैंने उनकी जांघ पर हाथ रख दिया, तो उन्होंने मेरा हाथ हटा दिया और वो उठकर सोने चली गई।

अब वो बेड पर लेट गई थी और अब वो अपने कपड़े चेंज करके आ चुकी थी। अब वो आकर सोने लगी, फिर कुछ देर के बाद उनकी आँख लग गई थी, तो अब मैंने उनके दोनों हाथ बांध दिए थे और उनकी मैक्सी ऊपर करके फोटो खींच ली। फिर मैंने उनके होंठ चूसे तो अब वो जाग गई थी। आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है l

फिर वो बोली कि ये क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि कुछ नहीं बस एक बार, तो वो बोली कि में तुम्हारी मम्मी से बोल दूंगी, नहीं तो मेरे हाथ खोलो। फिर मैंने कहा कि 10 मिनट के बाद खोल दूंगा, तो वो बोली कि नहीं अभी खोलो, तो मैंने कुछ नहीं सुना और उसके होंठ चूसने लगा, अब वो झटपटाने लगी थी।

फिर मैंने 10 मिनट तक उनके होंठ चूसे, फिर मैंने उनके मोटे-मोटे बूब्स अपने मुँह में लिए। अब वो और तेज़ी से झटपटा रही थी, फिर थोड़ी देर के बाद वो शांत हो गई और अब उसे भी मज़े आने लगा लगा, तो मैंने उसके हाथ खोल दिए।

तो अब वो बोली कि जल्दी करो मज़ा आ रहा है ऐसा मज़ा तो तेरे अंकल भी नहीं देते है, लेकिन आज लास्ट है दिलीप। फिर मैंने बोला कि ठीक है और अब में उनके बूब्स और तेज़ी से पी रहा था। फिर मैंने मेरा एक हाथ उसके नीचे चूत में डाला तो वो धीरे से चिल्ला उठी और बोली कि धीरे मार डालोगे क्या? उसकी चूत एकदम टाईट थी।

फिर बाद में मैंने अपना लंड उसके मुँह में दिया, लेकिन वो मेरा लंड अपने मुँह में नहीं ले रही थी तो मैंने जबरदस्ती अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया। फिर थोड़ी देर के बाद वो मज़ा लेने लगी, फिर में उसकी चूत चाटने लगा। अब वो पूरे जोश में थी और कह रही थी कि डाल दो उसकी चूत में। फाड़ दो इसे तो मैंने कहा कि ठीक है।

फिर में अपना लंड उसकी चूत पर रग़डने लगा तो वो बोली कि प्लीज़ अब डाल दो अब सहन नहीं हो रहा है। फिर मैंने कहा कि आज लास्ट है तो पूरा मज़ा लेने दो, तो वो बोली कि जब चाहिए हो ले लेना, बस अभी जल्दी से डाल दो। फिर मैंने आव देखा ना ताव और एक जोरदार शॉट मारा तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया और उसकी बहुत तेज चीख निकल गई और वो बोली कि आह्ह्ह्ह में मर गई दिलीप।

 फिर मैंने कुछ नहीं देखा और दूसरा शॉट मारा तो मेरा पूरा लंड अंदर चला गया। फिर वो बोली कि बाहर निकालो में मर जाउंगी, लेकिन में धीरे-धीरे करने लगा। अब उसकी चूत में से थोड़ा खून भी निकल रहा था, फिर में उसकी चूत साफ करके उसकी चुदाई करने लगा तो वो बोली कि धीरे-धीरे करना, तो में तेज-तेज शॉट मारने लगा।

अब उसे भी मज़ा आने लगा था और वो बोल रही थी और चोदो जोर-जोर से, फाड़ दो आज इसे और में अपने एक हाथ से उसके बूब्स भी दबा रहा था। फिर थोड़ी देर के बाद वो झड़ गई और पानी-पानी हो गई, लेकिन मैंने अपनी स्पीड धीरे नहीं की। आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है l

फिर वो जोश में आई तो मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा तो वो घोड़ी बन गई। फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड में दे दिया तो वो फिर से चिल्लाई और मुझे हटा दिया। फिर में उसकी चूत को ही चोदने लगा और थोड़ी देर के बाद मेरा निकलने वाला था तो मैंने उसको पूछा कि मेरा निकलने वाला है, में क्या करूँ?

तो वो बोली कि अंदर ही डाल दो। फिर में उसकी चूत में ही झड़ गया और थक कर उसके ऊपर ही लेट गया और सो गया। फिर मैंने सुबह देखा तो वो मेरा लंड चूस रही थी। फिर हमने सुबह एक बार फिर सेक्स किया, फिर वो चली गई। दोस्तों वो अभी तक भी मेरे साथ सेक्स करती है ।।

धन्यवाद …

You might also like