Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / भाभी की चुदाई / भाभी को चोदा रात की बरसात में

भाभी को चोदा रात की बरसात में

हाई दोस्तों, मैं शिवान दिल्ली से. मैं एक कॉल बॉय हु. मेरी ऐज २६ साल है और स्लिम हु. मेरा लंड नार्मल इंसान जैसा है ६ इंच लम्बा और २ इंच मोटा. ये मेरी पहली कहानी है, जो एकदम रियल स्टोरी है. अब मैं स्टोरी पर आता हु. मैं दिल्ली में नया – नया शिफ्ट हुआ था. एक रात की बात है, मैं अपने दोस्तों के साथ मस्ती करके लेट नाईट ऑटो का वेट कर रहा था सीपी में. तभी एक ३० – ३५ साल की सेक्सी भाभी ब्लैक साड़ी में वहां से गुजरी. इतनी रात को उनको अकेले देख कर मैं थोड़ा हैरान हो गया. फिर मैं उनके पीछे – पीछे ऑटो स्टैंड तक गया. तभी पता नहीं कैसे बारिश शुरू हो गयी. वो और मैं पूरी तरह से भीग चुके थे. वो इतनी रात में मुझे उनके पीछे आते हुए देख कर घबरा रही थी. मैंने उनसे बोला – आप डरिये मत मुझसे, मैं आपको को कोई नुक्सान नहीं करूँगा. तभी एक कार लाइट उनके ऊपर पड़ी और मैं उनको देखता ही रह गया. क्या माल भाभी थी वो… बड़े – बड़े सेक्सी मिल्की बूब्स.. पुरे ३८ के गोरे – गोर्रे… मोटी लचक वाली उनकी गांड… क्या बताऊ यारो… पूरी की पूरी सेक्स माल लग रही थी. मैंने उनको घूरे ही जा रहा था. वो भी मुझे देख रही थी. शायद उनको मेरी आँखों में जो उनके लिए हवस आई थी वो दिखाई दे गयी थी. वो थोड़ा सिमट कर डर कर खड़ी हो गयी थी.

तभी एक ऑटो वाला हमारी तरफ आया, मैंने हाथ दे कर ऑटो को रोका. उसमें बैठ गया और मुझे क्या सुझा, कि मैंने उसको शेयरिंग में बैठने को कहा. उन्होंने मना कर दिया. फिर मैंने फ़ोर्स किया और उनको कहा – इतनी रात में ज्यादा खड़ा होना अच्छा नहीं है. मैंने उनको थोड़ा सा भरोसा जताया, कि मैं कोई गलत बंदा नहीं हु और रात के समय पर वो वहां अकेले रह जाती और वो बिलकुल भी सेफ नहीं था. तो उनको मेरी बात समझ में आ गयी थी और वो मान गयी. फिर हम ऑटो में बैठे. उन्हें साकेत जाना था, मैंने भी झूठ बोल दिया, कि मुझे भी वही जाना है. वो ऑटो में मुझसे चिपक कर बैठी थी. बातों ही बातो में उन्होंने बताया, कि उनके हस्बैंड लन्दन में जॉब करते है और उनकी एक छोटी बेटी है और उनका खुद का फ्लैट है साकेत में. मैं बात करते – करते उनको इधर – उधर टच करता रहा. वो स्माइल दे रही थी. उन्होंने मुझसे पूछा, कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड है? मैंने कहा – नहीं, आप जेसा कोई मिल जाता, तो सोचता. उन्होंने कहा – मुझे में ऐसा क्या देखा तुमने? मैंने कहा – नहीं. कुछ नहीं. मैं बोल नहीं सकता. अगर बोलूँगा, तो आप बुरा मान जाओगी. उन्होंने मुझे फ़ोर्स किया और फिर से पूछा? मैंने कहा – आपके बूब्स और हिप्स कमाल के है.

वो थोड़ा चौकी और फिर मुझसे पूछा और क्या है मेरे अन्दर? मैंने कहा – सब कुछ देखूंगा, तो बताऊंगा. उन्होंने कुछ सोचा और फिर मुझसे कहा – मेरे घर चलो. कॉफ़ी पीते है. मैंने हाँ कर दिया. फिर मैं उनके घर गया. घर काफी अच्छा था. उन्होंने मुझे बैठने को कहा और वो कॉफ़ी बनाने लगी. उन्होंने मुझे एक अपने हस्बैंड का लोअर दिया और टॉवल दिया और बोला – चेंज कर लो. बाथरूम अटैच्ड था वहीँ पर. मैंने अन्दर गया और वहीं पर चेंज करने लगा. तभी देखा, उनकी पेंटी और ब्रा वहीं रखी थी. मैंने उसमे अपना मुठ मारा और बाहर आ गया. फिर वो चेंज करने गयी और जब बाहर आई, तो मैं देखता ही रह गया.. क्या मस्त लग रही थी वो… स्लीवलेस नाइटी में थी. उसमे उन्होंने जो ब्रा पेंटी पहनी थी, वो दिख रहे थे. उनको देख कर मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया. मेरे लंड ने लोअर में तम्बू बना दिया.. और उन्होंने वो उभार नोटिस कर लिया. उन्होंने मुझे एक स्माइल पास कर दी और फिर हमने साथ – साथ में कॉफ़ी पी और फिर अचानक उन्होंने मुझसे कहा, कि मैं उनको किस करू?

तो मैंने उनको किस करना शुरू कर दिया. क्या मखमल की तरह रसीले होठ थे उनके. उन्होंने कहा – आज रात मैं उनको जी भर कर प्यार करू. जो प्यार उनको उनके पति कभी नहीं दे पाए. फिर वो पागलो की तरह से मेरे होठो को चूसने लगी. वो मेरे होठो को काट रही थी. फिर मेरे लोअर को उन्होंने उतार दिया और मेरा लौड़ा देख कर बोली – काफी बड़ा है. मजा आएगा. वो मुह में लेकर लौड़ा ऐसे चूस रही थी, जैसे की कोई बच्चा आइसक्रीम चूसता है. फिर मैंने उनको नंगा किया और उनके गोरे – गोरे बड़े बूब्स पीने लगा. उसमे से अभी भी दूध निकल रहा था. मैंने पूछा तो उन्होंने बोला, कि उनकी बेटी अभी १.५ इयर की है. मैंने उनका सारा दूध पिया और वो बड़ी अजीब सी आवाज निकाल रही थी, जैसे कई दिनों से लंड की भूखी हो. फिर मैंने उसकी चूत पर निगाह डाली, तो उनकी पिंक कलर की शेव पुसी पानी छोड़ रही थी. मैंने उसको चाटना शुरू कर दिया और फिर मैंने उनकी टांगो के बीच में तकिया लगाया और अपने लंड को उनकी चूत पर रखा और रगड़ने लगा. वो मुझे अन्दर डालने को कहने लगी. मैंने एक जोर का झटका मारा और वो चिल्लाने लगी. उनको सेक्स किये हुए काफी दिन हो गये थे. उनकी चूत बहुत टाइट थी और मेरा लंड अन्दर बड़ी ही मुश्किल से जा रहा था. मेरे लंड में दर्द होने लगा था और मैंने अपने लंड को अन्दर डालने के लिए पूरा का पूरा जोर लगा दिया था.

मैंने उनके मुह को बंद कर दिया. वो रो रही थी. मैंने अपनी जीभ से उनके आंसू को पी लिया और बिलकुल उनके हस्बैंड की तरह उनको गले से लगा लिया. मैंने फिर से एक पूरा झटका मारा और मेरा पूरा का पूरा लंड उनके अन्दर चले गया. वो कसमसाने लगी. मैंने उनके बूब्स को कसकर चूसा और दबाया और झटके मारने लगा. वो मोअन करने लगी थी. उन्होंने मेरी पीठ पर अपने नाखुनो के निशान बना दिए. मैंने २० मिनट उनको ऐसा चोदा, वो गांड उठा – उठा कर चुदवा रही थी. फिर उन्होंने मुझसे हटने को कहा और मुझे नीचे कर दिया. वो मेरे ऊपर आ गयी और लंड को अन्दर डाल कर खूब मजे से मेरे लंड पर उछल रही थी. फिर मुझे लगा, कि मेरा पानी आने वाला है. तो उन्होंने मेरे लंड निकलवा दिया और अपने मुह में ले लिया. वो मेरा सारा का सारा माल पी गयी. वो मेरे ऊपर लेट कर मुझे किस कर रही थी. मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. फिर उन्होंने मुझको बोला, कि वो मुझ को एक गिफ्ट देंगी. फिर वो आयल लेकर आई और मेरे लंड पर लगाया. फिर वो अपनी गांड डोग्गी स्टाइल में आ गयी और बोली – मेरी गांड मारो आज. आज तक मैंने अपनी गांड को किसी को हाथ नहीं लगाने दिया. मैंने मन में सोचा, मेरी तो निकल पड़ी.. मैंने धीरे से अपना लंड उसकी गांड में डाल दिया. मैंने पहले अपने लंड को अच्छे से उनकी गांड के लाल छेद पर रगडा और मेरा लंड अब हल्का – हल्का पानी छोड़ने लगा था और मैंने उस पानी को उनकी गांड पर घिसना शुरू कर दिया था. उसके मुह से हलकी – हलकी सिसकिया निकलने लगी थी और उनकी साँसे बहुत तेज होने लगी थी. अहहहह्हा अहहहः अहहः अहहहः अहहः. मैं उनकी सासों की आवाजो को सुन सकता था. मेरी साँसे और मेरे दिल की धड़कने भी बहुत तेज भाग रही थी.

मेरे लंड डालने पर उनको दर्द हुआ. मैंने पूछा – रोक लू क्या? पर उन्होंने मुझे मेरा लंड उनकी गांड के अन्दर ही डालने को बोला. मैंने अपना पूरा लंड उनकी गांड के अन्दर कर दिया. फिर मैं उनको धीरे – धीरे चोदने लगा. उनकी गांड बहुत टाइट थी. वो अपनी गांड को हिलाने लगी थी हाहाह अहहाह ऊऊफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़् अहहाह अहहाह अहहः हहहः गक फक फक फक फक और जोर से .. हार्डर… और जोर से चोदो मुझे… फाड़ डालो मेरी गांड को… फाड़ दो इसे आज… फिर मैंने १५ मिनट तक उनकी गांड की चुदाई की और फिर मैं उनकी गांड में झड गया. हम दोनों एक दुसरे से चिपक कर सो गये. जब मैं सुबह सो कर उठा, तो उन्होंने मुझे किस किया और अपना नंबर और पैसे दिए. मैंने मना किया, तो उन्होंने मुझसे कहा, कि मैंने उनको को ख़ुशी दी है, उसके मुकाबले ये कुछ भी नहीं है. मैंने पैसे ले लिए और कपड़े पहने. उनकी आँखों में आंसू आ गये. मैंने उसको पूछा – क्यों रो रही हो? उन्होंने बोला – कि मैंने उसको उनके हस्बैंड से भी ज्यादा प्यार किया है इसलिए. मैंने कहा – आप जब भी चाहो.. मुझे बुला लेना. आज भी मैं उनके साथ सेक्स करता हु. उनकी फ्रेंड के साथ भी किया है मैंने. उनकी फ्रेंड्स को भी मैंने चोदा है. वो मैं कभी आपको अपनी दूसरी स्टोरीज में बताऊंगा. उन भाभी और उनकी फ्रेंडस ने मुझे मिलकर जिगोलो बना दिया. मैं जिगलो जरुर बना, लेकिन उन लोगो का भरोसा कभी नहीं तोडा. उनके और मेरे सीक्रेट रिलेशनशिप आज भी सीक्रेट है. क्योंकि इस तरह के रिलेशनशिप में सिकेरेसी होने बहुत जरुरी है और ट्रस्ट होने बहुत जरुरी है.

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें