दोस्त की बहन का भरपूर यौवन

मिताली को देख के लंड में जो बवाल उठता था उसे रोकने के लिए लंड को हिलाए बिना कोई और रस्ता ही नहीं था. मिताली मेरे दोस्त हरीश की छोटी बहन हैं और उसकी उम्र १८ साल की हैं. वो कोलेज में पढाई करती हैं और देखने में किसी पोर्नस्टार को भी शर्मा सकती हैं. मिताली के फिगर के बारे में पक्का दरजी वाला नाप तो नहीं कह सकता क्यूंकि मैंने मिजरिंग टेप से उसे नापा नहीं हैं. लेकिन इतना समझ ले की उसके उभरते हुए यौवन को देख के कोई भी लौंडा अपने लंड का खून फेंक दे. बड़ी गांड और एकदम बड़े बड़े बूब्स, साला लंड खड़ा न कैसे हो.

हरीश के साथ दोस्ती काफी सालों से थी और मिताली को मैंने टॉप पहने हुए ऐसा भी देखा था जिसमे उसके बूब्स की जगह पर एक जमाने में सपाट मैदान था, वो केरमबोर्ड वाली छाती की तरह! लेकिन फिर १७ साल के बाद उसके बदन में सडन चेंजिस आने लगे थे और उसकी गांड और बूब्स में जैसे कोई चमत्कारी बाबा जी की भभूती डाल दी गई थी. खेर आप के लंड को बिना सेक्स की बाते बता के ज्यादा परेशान नहीं करूँगा अब मैं, चलिए उस दिन की बात पर चलते हैं जिस दिन मुझे मिताली को पेलने का लाइसेंस मिल गया.

हरीश के एलआईसी की पालिसी का प्रीमियम भरना था और वो कुछ काम से २ दिन के लिए दिल्ही गया था. उसने मुझे वहां से कॉल कर के रिक्वेस्ट किया की प्लीज़ लास्ट डेट हैं इसलिए तू स्लिप घर से ले के प्रीमियम भर देना. मैंने कहा ठीक हैं.

और जब मैं घर गया तो मैंने देखा की दरवाजा बंध था. मुझे लगा की शायद घर पर कोई नहीं हैं इसलिए मैंने फुल के पौडे के निचे के गमले की मिटटी से चाबी निकाली. मुझे चाबी के यहाँ होने का पता था, हरीश के द्वारा ही. मैंने सोचा की हरीश ने बताया हैं वो जगह से स्लिप ले के पैसे अपनी जेब से निकाल के भर देता हूँ. मैं हॉल में ही वो ड्रावर से स्लिप ले के निकलने की ही तयारी में था की मैंने निचे के बेडरूम में से सिसकियों की और गर्म आहों की आवाज सुनी. हरीश की वाइफ तो उसके साथ थी और अब तो मिताली और हरीश की माँ ही हो सकते थे, क्यूंकि आवाज लेडी का था. मैंने जब की-होल से अन्दर देखा तो आँखे फटी रह गई मेरी. मिताली का यौवन उबाल पर था और उसने अपनी चूत में दो उंगलियाँ डाल के रखी थी और वो जोर जोर से फिंगरिंग कर रही थी और सिसकियाँ और मोअनिंग कर रही थी. मैंने देखा की उसके कान में इयरफोन लगे हुए थे और शायद वो पोर्न देख के चूत को छेड़ रही थी.

bबाप रे क्या हॉट थी उस वक्त वो और शायद गधे का लंड भी मिलता तो ले लेती, मैंने सोचा की मैं तो खैर फिर भी ठीकठाक हूँ. मैंने दरवाजे के ऊपर नोक कर के कहा, मैं आ जाऊं मिताली!

मिताली ने शायद मेरी आवाज नहीं सुनी इयरफोन की वजह से लेकिन नोक उसने सुन ली थी. वो फट से उठ के आई और दरवाजे के पास आते आते उसने अपनी स्कर्ट ऊपर कर के सब ठीक भी कर लिया था. उसने दरवाजा खोला और मुझे देख के एकदम चौंक गई.

वो कुछ कहे उसके पहले ही मैंने कहा, मैंने कहा की मैं आ जाऊं मदद करने के लिए.

क्या मतलब रवि भैया?

अरे भैया मत बोल, मैं तुझे चूत हिलाता हुए देखे के तुझे रंडी बनाने की सोच रहा हूँ.

मिताली ने अपना हाथ अपने मुह पर धर दिया और बोली, सच में आप ने मुझे देखा?

मैंने कहा हां तेरी चूत को भी और तेरे उभरते हुए यौवनं के हेडलाईट जैसे चुन्चो को भी.

आप को चाबी का पता था?

हा, हरीश ने मुझे बताया था!

शिट!

चले अन्दर, मैं शादीसुदा हूँ और मुझे पता हैं की चूत ठंडी कैसे करनी हैं.

आप किसी को कहेंगे तो नहीं ना?

नहीं मिताली, बिटविन यु एंड मी ओनली!

वो अन्दर गई और मैं उसके पीछे पीछे घुस गया. मिताली ने अपना स्कर्ट फट से खोल दिया और वो बेड में लेट गई. मैंने देखा ही था की उसका बुर तो एकदम गिला ही होगा. मैं भी अपनी पेंट खोल के चड्डी निकाल के उसके ऊपर चढ़ गया. मिताली ने अपने हाथ से लंड को स्ट्रोक किया और बोली, जल्दी नहीं हो रहा ये सब?

मैंने कहा, अरे कोई आ गया तो मुझे तेरे यौवन का रसपान नहीं करने को मिलेगा.

ओके, चलिए.

मिताली ने अपने हाथ से लंड को चूत के छेद पर सेट कर दिया और बोली, डालो अन्दर.

मैंने मिताली के शर्ट के बटन खोले और उसके चुंचे बहार निकाले. फिर मैं उसके ऊपर झुक गया और बूब्स चूसते हुए हल्का सा स्ट्रोक लगा दिया. मिताली की सेक्सी चूत में लंड पौने जितना घुस गया. और उसने अह्ह्ह्हह्ह की आवाज निकाली. मैंने उसके होंठो के ऊपर अपने होंठो को रख के उसकी मोअन को दबा दिया और फिर बूब्स को दबाते हुए उसकी चूत को पम्प करना चालू कर दिया. मेरा लंड पूरा चूत में घुसा तो मिताली को भी अच्छा लगा और वो बोली, आह्ह्ह रवि भैया आप का तो बहुत बड़ा हैं.

मैंने कहा, हां मेरी सेक्सी छिनाल लेकिन तेरी चूत भी कोई कम नहीं हैं पूरा अंदर डलवा के बैठी हैं इसे.

फिर मैंने उसके बूब्स चूसते हुए जोर के झटके लगाना चालू कर दिया, मिताली पूरा सपोर्ट कर रही थी और गांड हिला हिला के अपनी चूत चुदवा रही थी.

दोस्तों मैंने बहुत बार अपनी बीवी को चोदा था लेकिन आज मिताली के यौवन के आगे मैं ज्यादा टिक नहीं पाया. केवल ५ मिनिट में ही मेरा वीर्य उसके बुर में छुट पड़ा. लेकिन इस बिच मिताली दो बार झड़ चुकी थी इसलिए उसे भी संतोष हो गया था मेरी चुदाई से. मैंने जब लंड चूत से निकाला तो वो बोली, चलो जल्दी उठो मोम किसी भी वक्त आ सकती हैं.

मैंने कहा अगर तो तुझे चूत घिसते हुए देख लेती तो?

मिताली हंस के बोली, वो मेरी शादी करवा देती जल्दी से!

मैंने कहा. शादी के पहले तक तो मुझे लेने दोगी न अपना बुर?

आप का ही हैं, लेकिन मुझे लव बव का चक्कर नहीं चाहिए!

मैंने कहा मुझे भी तेरे यौवन का रस चाहिए और कुछ नहीं.

दोस्तों मेरे दोस्त की यह हॉट बहन आज तो शादीसुदा हैं लेकिन शादी के पहले पहले तक मैंने उसके यौवन के जाम को पूरा पी लिया. मिताली की चूत के साथ साथ मैंने उसकी गांड का भी मजा लिया हैं.

You might also like