फेसबुक की वजह से गांड फट गई

0

फेसबुक फेसबुक….साला जिसे देखो उसे फेसबुक की गांड मारने पे लगा हुआ हैं. मुझे भी एक साल पहले फेसबुक के उपर चेट करना और लाइक करना वगेरह बहुत अच्छा लगता था. लेकिन इसी फेसबुक की वजह से मेरी ऐसी गांड फटी, जिस से मैंने फेसबुक को डिवोर्स दे दिया. मैं नई मुंबई के एक फ्लेट में रहेता था और एक मोबाइल की कंपनी के कॉल सेंटर में काम करता था. मेरा नाम वैसे अंकित हैं लेकिन मेरे दोस्त मुझे बिट्टू ही बुलाते है जो मेरा पेट नेम था. जब नया नया फेसबुक का उभार आया मैंने अंकित बिट्टू के नाम से आईडी बनाई और उसपे अपने पिक्चर, हगना मूतना, सोना, जागना सभ लिखता था.
मेरे कुछ 20 दिनों में ही 100 से उपर फ्रेंड बन गए थे और मैं इन 100 के करीब फ्रेंड्स में 25-26 लडकियों को भी जोड़ चूका था.

सोनम मेरे वर्च्युअल जीवन में खुशिया ले के आई

मेरे इन 100 फ्रेंड्स में एक सोनम महेता कर के फ्रेंड बनी थी जो मेरी हरेक पोस्ट पे लाइक और कमेन्ट देती थी. मैं भी बेसब्री से उसके कमेन्ट की राह देखता था. साला जब जब वो कमेन्ट करती मुझे बहुत मजा आता था. ऐसे कमेन्ट का सिलसिला एकाद हफ्ते चला और एक दिन मैंने स=उसे हाय हल्लो वाला मेसेज किया. उसने मुझे रिप्लाय किया और हम दोनों फिर तो रोज चेट के अंदर एकाद घंटा बिताने लगे. सोनम से बात करने के लिए मैं नाईट शिफ्ट करने लगा जिस से मैं दिन के समय उस से चेट के मजे ले सकूँ. मेरी अच्छी कट रही थी, क्यूंकि थोड़े दिन मे उसने मुझे अपना मोबाइल नंबर भी दे दिया था. मुझे लगा की साला 26 साल तक कोरे रहने के बाद अब हरियाली आई है. अच्छी जिन्दगी की तलाश में तो मैं बनारस से बम्बई आया था. सोनम से फिर मैंने फोन पे सीधे ही बातें करना चालू कर दिया. कुछ दिन के बाद बातें सेक्स और रोमांस की तरफ मुड़ने लगी. सोनम भी मुझे फोन पे ही सेक्स के मजे करवाने लगी. वह जब मुझे पहली बार मिली तो मैं उसे देख खुश हो गया..उसकी उम्र 27 की होगी, बड़ी गांड, गोल आँखे और सांवला सा रंग.

रेस्टोरंट, मूवी, घूमना, खाना

सोनम के साथ फिर तो मैं रेस्टोरंट में जाने लगा, उसके साथ बहार खाने लगा और हम लोग घूमते भी रहते थे. सोनम मेरे साथ मूवी भी आने लगी. मूवी में मैंने उसे किस करना और उसके चूत के ऊपर हाथ फेरना चालू कर दिया. वो भी मेरे लंड को पकडती थी. एक बार तो हम लोगो ने हद ही कर दी जब मूवी में कम पब्लिक थी और उसने मेरा लंड मूवी में ही चूस दिया था. साला लंड को मैंने पहली बार मुहं में दिया था. इस से पहले मुझे चूत और गांड के ही सपने आते थे. मुझे ऐसा था की मेरे जैसे काले लड़के का लंड कौन चूसेगा लेकिन सोनम ने मेरी यह ख्वाहिश भी पूरी कर दी थी. सोनम के इस रवैये के बाद तो हम लोग और भी करीब हो गए थे और हम दोनों के बिच कुछ भी सीक्रेट नहीं रहा था. उसने मुझे सांगली के अपने घर के बारे में बताया था और मैंने भी सेलरी से लेके, बनारस के तबेले और मैंने की मामी की चुदाई तक की सारी बातें उसे बताई थी. मैं अब बुरी तरह सोनम को चोदना चाहता था. सोनम को मैंने राजी कर लिया और हमने एक दिन एक गेस्ट हाउस में मिलने का प्लान बना लिया.

गेस्ट हाउस में सोनम की गांड चाट ली

सोनम और मैं देसाई गेस्ट हाउस में चले गए. सोनम स्टेशन से लोकल से उतरने से लेके गेस्ट हाउस के रूम में जाने तक मेरे हाथ में हाथ डाले थी. जैसे ही हम लोग अंदर गए मैंने हम दोनों के लिए कोफ़ी मंगवा ली. कोफ़ी ऑर्डर करने के बाद मैंने अपने कपडे उतार रहा था तभी सोनम ने मुझे कहा की मुझे अंदर जा के अपना लंड और गांड वाला भाग साफ़ कर लेना चाहिए क्यूंकि बहार गर्मी से पसीना हुआ होगा. उसने कहा मेरे निकलने के बाद वो भी पानी से साफ़ कर लेगी. मैं अंदर गया उतने में ही दरवाजे पर नोक हुई, शायद कोफ़ी आ गई थी. मैं एक मिनिट में बहार आया और सच में कोफ़ी टेबल पर पड़ी थी. हमने कोफ़ी पी ली और सोनम अपनी चूत और गांड के ऊपर पानी डालने बाथरूम में गई. सोनम बहार आई तो उसने कोई कपडा नहीं पहना था, वो पूरी नंगी खडी हुई थी और उसके झूलते बूब्स की काली निपल्स मेरे लौड़े को जैसे की चुनोती दे रही थी, आजा हैं हिम्मत. मैं खड़ा हुआ और मैंने सोनम को लगे लगा लिया.

सोनम मुझे गले में किस करने लगी और मेरे लौड़े के ऊपर अपना हाथ घुमाने लगी. मेरे हाथ भी उसकी फैली हुई गांड के ऊपर थे और मैं उसकी गांड को दोनों हाथो से खिंच के जैसे के फाड़ रहा था. उसने मेरा लंड मस्त हिला दिया और मुझे मस्ती चढ़ने लगी.मैंने सोनम को उठा के उसे बिस्तर पर फैंका और मैं उसकी गांड और चूत के उपर जबान फेरने लगा. सोनम भी मस्ती में आ गई थी और इस देसी लड़की ने मेरे साथ 69 पोजीशन बना ली थी. वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं उसकी गांड और चूतको चाट रहा था. सोनम मेरे लौड़े को बिच बीच में हाथ में लेके मुठ मार रही थी. मेरी हालत ख़राब हुई पड़ी थी क्यूंकि सोनम मुझे मस्त तरह चूस दे रही थी. मैंने उसकी गांड को दोनों हाथ से फैला के उसके अंदर एक ऊँगली डाल दी. सोनम आह आह कर रही थी, मैंने दूसरी ऊँगली उसकी चूत में दे दी. मैं अपनी दोनों ऊँगलीयों को उसकी चूत और गांड के अंदर बहार करने लगा.सोनम सिसकियाँ लेते हुए मेरे लौड़े को चूस रही थी.

गांड चाटी इसलिए नींद आ रही हे क्या?

तभी मुझे लगा की मुझे जोरों की नींद आ रही हैं, साला अभी नींद मुझे अजीब लगा. क्या गांड को चाटी इसलिए नींद आ रही हैं. सच बताऊँ दोस्तों मैं अपनी नींद को कंट्रोल नहीं कर सका और मुझे पता भी नहीं चला की मैं कब सो गया….जब मेरी नींद खुली तो मैं वही बिस्तर पर नंगा पड़ा हुआ था. मैं तुरंत चमका और खड़ा हुआ….सोनम कहाँ हैं? मैंने रूम के अंदर देखा वो कहीं नहीं थी…! मैंने बाथरूम मैं देखा वो वहाँ भी नहीं थी. मैंने सोचा लाओं उसे फोन करूँ, मैंने पेंट की जेब देखी और ये क्या साला मोबाइल भी नहीं हैं. मेरे पसीने छूटने लगे, पर्स…अरे पर्स भी नहीं हैं….मेरी गांड फटने लगी…सोनम को मेरे एटीएम के पासवर्ड भी पता थे और मैं जल्दी जल्दी कपडे पहने निचे भागा. मैंने रिसेप्शन पर आदमी को पूछा…उसने मुझे बताया की लड़की तो 2 घंटे पहले ही निकल गई थी. मैं तुरंत भागता हुआ करीबी बेंक में गया और कार्ड बन करवाने के लिए फोन किया. मुझे यह जान के झटका लगा की मेरे अकाउंट से 1 घंटे पहले ही 30000 रूपये उठा लिए गए थे. मेरा मोबाइल, पर्स, घडी सब ले गई थी यह फेसबुक वाली रंडी.

मैंने घर आके देखा तो मेरी गांड और भी फट गई, इस रंडी ने अपने साथी के साथ यहाँ आके मेरे घर से मेरा लेपटोप, डीवीडी प्लेयर मिला के यहाँ भी मुझे 30 40 हजार का चुना लगाया था. गांड मरवा मरवा के कमाई हुई रकम एक रंडी लुट गई. मैं सर पर हाथ दिए वहीँ फर्श पर बैठ गया. मुझे कुछ सूझी और मैं दौड़ के पुलिश स्टेशन गया, हवालदार से ले के सब-इन्स्पेक्टर तक मेरे सामने मैं चूतिया होऊं ऐसे देख रहे थे. उन्होंने मुझे बताया की अभी तक यह फेसबुक से गांड मारने की दसवीं वारदात हैं और सभी में एक जैसे काम किया गया हैं…लड़की फंसाती हैं, फिर थोड़े मजे कराती हैं. फिर घर या होटल में नींद की बहुत सारी दवा दे के पूरा गिरोह एक दो घंटे में ही पूरा सामान ले के उड़ जाते हैं…..मैं अपने चुतियापे पे बहुत पस्ता रहा था. पुलिस वालों ने मुझे बताया की अगर इन्स्योरंस हैं तो क्लेम कर दो…साला घंटा इन्स्योरंस तो था नहीं….पुरे 80 हजार के उपर गांड मारी थी इस लोंडिया ने. मुझे पता था की वो मोबाइल नंबर भी अभी बंध होगा और उसके सांगली के घर की बात भी जूठी होंगी. साला मुझे तभी डाउट करना चाहिए था जब वो किसी ना किसी बहाने मुझे अपने घर ले जाने की बात को टाल देती थी.

मित्रो मैंने यह स्टोरी इसलिए भेजी हैं की आप लोग ऐसे झांसे में ना फसे और आप की गांड कोई ना मार ले……मुंबई से बिट्टू का यह कहानी भेजने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद. फेसबुक पर हमसे जुड़े और ट्विटर फोलो करे/ वाचक मित्रो के कमेन्ट और सुझावों के लिए हम उनके आभारी हिना और इन सुझावों पर जल्द से प्रतिक्रिया करेंगे.

You might also like