Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / कॉलेज सेक्स / गर्लफ्रेंड हो गई पानी पानी – जबरदस्त चिकनी चुत की चुदाई

गर्लफ्रेंड हो गई पानी पानी – जबरदस्त चिकनी चुत की चुदाई

दोस्तो.. मैं आपके सामने अपनी गर्लफ्रेंड की चिकनी चुत चुदाई का पहला अनुभव शेयर कर रहा हूँ।

मैं विक्की उम्र 23 साल.. हरियाणा में रहता हूँ। मुझे मेरी गर्लफ्रेंड फेसबुक पर मिली थी। कुछ दिन बातें करने के बाद मैंने उसे प्रपोज कर दिया और उसने थोड़ा सोचकर हाँ कर दी।
इससे मैं बहुत खुश हुआ।

मेरी गर्लफ्रेंड का फिगर 34-30-34 का है। मुझे हमेशा से अपनी गर्लफ्रेंड को चोदने का मन करता था। मेरी गर्लफ्रेंड को बारिश बहुत पसंद है। हम अभी तक एक बार भी नहीं मिले थे.. तो हम दोनों ने मिलने की सोची।

एक दिन मेरे घर कोई नहीं था.. तो मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को कॉलेज से पिक किया और अपने घर ले आया। वो भी बिना मना किए मेरे साथ आ गई। शायद उसे भी पता था कि आज उसे मेरा लंड चोदने वाला है।

मैंने उसे घर लाकर बैठने को कहा और उसके लिए कोल्डड्रिंक लाया। उसने ठंडा पिया और मेरी तरफ देखने लगी।

 

मैंने भी देर ना करते हुए उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे चूमने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी.. हम दोनों ने 10 मिनट तक स्मूच किया। मैंने उसके टॉप के ऊपर से ही उसके मम्मों को पकड़ लिए लेकिन उसने मेरा हाथ हटा दिया।
मैंने भी थोड़ा नाराज होने का ड्रामा किया, तो उसने मुझे पकड़ कर किस किया और मेरे हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पे रखवा लिए और दबवाने लगी।

‘आह आह उफ़.. क्या चूचे थे यार मजा ही आ गया। मैंने भी उसकी गर्दन पर किस किया और टॉप उतार दिया।

वाउ क्या मस्त लग रही थी। बाद में उसे दीवार के साथ उल्टा खड़ा कर दिया और उसकी पीठ पर चूमने लगा।

मुआआह.. और दांतों से ब्रा का हुक खोला तो उसकी ब्रा नीचे गिर गई। मैंने पीछे से उसके मम्मे पकड़ लिए और लकालक दबाने लगा। वो मादक सिसकारियाँ भरने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह… विक्की..
उसकी ये कामुक आवाजें मुझे और जोश में लाने लगीं। मैं भी ज़ोर से मम्मे दबाने लगा और अगले ही पल उसे घुमा कर मैं उसका पेट चूमने लगा ‘उमाह..’
वो आँखें बंद करके चुम्बनों और चुसाई का मजा लेने लगी।

मैंने धीरे-धीरे अपना मुँह नीचे किया और जीन्स और पेंटी एक साथ उतार दी।
आह क्लीन शेव्ड चिकनी चुत थी.. वाउ.. देखते ही मैंने अपना मुँह उसकी मरमरी गुलाबी चुत पर लगा दिया।

अपनी चुत पर मेरे होंठों का अहसास पाते ही वो तो मानो पागल हो गई और अपनी चिकनी चुत पे मेरा सिर दबाने लगी ‘आह उफ़ आह आह आह विक्की खा जाओ इसे.. साली बहुत तंग करती थी.. कहती थी विक्की के लंड से ही चुदूँगी.. आह आह उफ़ मजा आ रहा है.. आह आह विक्की..’

मैं भी पूरी जीभ चुत में अन्दर तक डाल कर उसे जीभ से चोद रहा था।

आह आह उफ़.. की आवाजों के बीच ही उसने पानी छोड़ दिया और मैं उसकी चुत का पूरा नमकीन पानी चाट गया।

वाउ क्या मजा था आह..

अब मजा लेने की बारी मेरी थी.. तो वो नीचे बैठ गई और मेरा लोवर उतारकर मेरे लंड को चड्डी के ऊपर से ही पकड़ कर दबाने लगी। मुझे मजा आने लगा.. उसने लंड बाहर निकाला और मेरा लंड देख कर खुश हो कर लंड पकड़ कर हिलाने लगी।

उफ़ कितना मस्त लग रहा था। मेरा लंड मेरी परी के हाथ में था। मैंने उसे मुँह में लेने को कहा उसने भी बड़े प्यार से लंड का सुपारा अपने होंठों में रख लिया और प्यार से चाटने लगी।
‘ओह आह उफ़..’ मैं तो जैसे स्वर्ग में विचरने लगा था

अब वो पूरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी। मैं उसका सिर पकड़ कर उसके मुँह को चोद रहा था। तभी उफ़ आह आह.. मेरा पानी निकल गया और वो पूरा रस पी गई।

इसके बाद थोड़ी देर हम दोनों यूं ही रहे लेकिन हम दोनों जल्दी ही फिर से गर्म हो गए।

मुझे अपनी गर्लफ्रेंड खुले बालों में बहुत मस्त लगती है इसलिए मैंने उसके बाल खोल दिए और गोद में उठाकर बाथरूम में ले आया, उसे बाथरूम की दीवार से लगा कर चूमने लगा.. उसके मम्मे चूसने लगा ‘आह आह उफ़ आह आह… जानू बहुत मजा आ रहा है..’

वो भी मेरा लंड दबा रही थी और जल्द ही लंड को खड़ा कर दिया।

वो ‘आह आह उफ़ विक्की फक मी..’ बोले जा रही थी। मैं भी देर ना करते हुए लंड पर कंडोम लगाने लगा, लेकिन उसने कंडोम लगाने से मना कर दिया। मैंने भी उसकी बात मान ली और शावर ऑन कर दिया। हम दोनों के गीले जिस्म एक-दूसरे से रगड़ रहे थे। मैंने उसकी टांगों को कंधों पर रखकर लंड चिकनी चुत पर रगड़ने लगा। वो पागल हुए जा रही थी और लंड पर दबाव डाल रही थी।

‘आह आह जानू लंड डाल कर फाड़ दो ना चुत.. आह आह उफ़ क्यों तड़पा रहे हो अपनी ऋतु को..!’

मैंने भी लंड चुत पर रखकर धक्का मार दिया।

फ़च करता हुए मेरा लंड उसकी सील तोड़ता अन्दर चला गया।

‘आह मर गई.. आह आह..’

उसकी चीखें निकलने लगीं- आह आह निकालो बाहर आह मैं मर गई आह सहन नहीं हो रहा.. मुझे नहीं चुदवाना.. ओह..’

मैं उसके मम्मे चूसने लगा.. थोड़ी देर बाद जब वो शांत हुई तो वो खुद अपनी गांड उठा कर धक्के मारने लगी। जबाव में मैंने झटकों से पूरा लंड उसकी गर्म चुत में जड़ तक उतार दिया ‘आह आह आह..’
उसकी आँखों से आँसू आ गए।
‘आह आह..’
उसके दर्द को देखकर मैंने लंड को बाहर निकालना चाहा तो उसने टांगों से मेरी कमर पकड़ ली और धक्का देने लगी। मैंने भी बदले में झटके मारने शुरू किए।

‘आह उफ़ आह फाड़ दो जानू आज बना लो अपना मुझे..’ वो कामांध हो कर बोल रही थी, मैं भी जोरों से उसकी चुत को चोद रहा था।

कुछ देर बाद मैंने उसे वहीं घोड़ी बना कर कमर पकड़ कर लंड पेलकर चोदना शुरू कर दिया। सामने शीशे में खुद को चुदती हुई देखकर वो खुश हो रही थी। शीशे में उसके चेहरे के कामुक भाव मुझे मजा दे रहे थे।

तभी ‘आ..ह आह..’ कहते हुए वो अकड़ने लगी और ज़ोर से आवाजें निकालने लगी ‘आह आह उफ़ आह आह तेज़ जानू आह आह विक्की..’

मैंने भी धक्के तेज़ कर दिए और उससे पूछा- कहाँ निकालूँ?
तो उसने कहा- अन्दर ही डाल दो, मैं तुम्हारा माल अपनी चुत में फील करना चाहती हूँ आह आह आह..

थोड़े ही धक्कों में मेरा रस निकल गया और मैं उसके ऊपर ही लेट गया।

उसके बाद मैंने दो बार उसको और चोदा।

मेरी गर्लफ्रेंड की चिकनी चुत की चुदाई की कहानी पर आपके विचार आमंत्रित हैं.

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें