हाईवे पर मुझे कुंवारी चूत मिल गयी

मेरी स्टोरी सत्य घटना हैं. वेसे रंडी तो हाईवे पर मिल जाती हैं लेकिन मुझे तो कुवारी चुत मिल गई. कहानी पे आता हु यारो…

बात उस समय की हैं जब मैं बारहवीं की परीक्षा पास करके अपने गाँव वापस आया। शहर में रहकर मैं बहुत बिगड़ गया था और चूत का आशिक बन गया था क्योंकि मैंने सुना था कि सांप और चूत जहाँ दिखे वहीं मार देनी चाहिए…

बस यही सोच कर मैंने अभी तक 28 चूतें मारी हैं और हर चूत वाली को संतुष्ट किया हैं।

तो अब असल कहानी पर आते हैं।

मैं गाँव गया तो मैंने पूरा दिन घूम कर बिता दिया…

शाम को जब मैं अपनी गाड़ी से घर वापस जा रहा था तो मैंने देखा कि नहर किनारे एक लड़की पेशाब कर रही थी और गाड़ी की रोशनी उसके चूत पर पड़ गई थी जिससे मुझे मूत निकलती चूत के दर्शन हो गए।

यह देख अचानक ही मेरा लौड़ा पैंट में खड़ा हो गया और मुझे लगा कि अगर मैंने आज चूत नहीं मारी तो शायद मेरा लंड फूल कर फट जायेगा। बस मैंने योजना बनाई और गाड़ी रोक कर लड़की के पास चला गया।

मुझे वहाँ खड़ा देखकर वो शर्मा गई…

मैंने पूछा- कौन हो तुम और रात के इस अँधेरे में यहाँ क्या कर रही हो?

तो वो शरमा कर बोली- साहब मेरा नाम रीना हैं और मैं आपके ही गाँव की हूँ…. हमारे यहाँ शौचालय नहीं हैं इसलिए हम लोग नहर की तरफ आते हैं।

मैंने कहा- तुम मेरी गाड़ी में आ जाओ, मैं तुम्हें घर तक छोड़ दूंगा !

रीना आकर मेरे बगल वाली सीट पर बैठ गई…

मेरा मन कर रहा था कि अभी गाड़ी में ही पटक कर इसकी चूत में अपना मोटा लौड़ा ठोक दूँ !

बस यही सोच कर मैं उससे इधर-उधर की बातें करने लगा। बात करते करते मैंने जोर से ब्रेक दबा दिया तो रीना संभल नहीं पाई और मेरी तरफ गिर पड़ी जिससे उसका हाथ मेरे लंड पर पड़ गया।

उफ़… !!

मेरा लंड एक बार फिर टनटना कर खड़ा हो गया। मैंने महसूस किया कि रीना ने अपने हाथ का दबाव बना दिया था मेरे लौड़े पर और व बड़े ध्यान से मेरे लंड को देख रही थी।

मैं समझ गया कि मौका अच्छा है तो मैंने कहा- रीना… ! तुम्हें “ये” पसंद हैं क्या…? खेलोगी इसके साथ?

रीना- हाँ साहब, इच्छा तो बहुत होती है लेकिन डर लग रहा हैं कि जब पैंट के ऊपर से आपका लंड इतना बड़ा हैं तो वास्तव में कितना बड़ा होगा?

मैंने कहा- अरे मेरी जान, लौड़ा जितना मोटा और बड़ा होता है, चूत को उतना ही मजा आता है..!

इतना कह कर मैंने गाड़ी स्टार्ट की पास ही झाडी के पास लगा दिया ताकि कोई हमें देख न सके।

अब मैं गाड़ी से उतर गया और रीना भी उतर गई।

मैंने रीना से पूछा- क्या आज से पहले भी तुमने किसी से चुदाई का मजा लिया है?

तो वो बोली- मन तो बहुत करता है पर डर के कारण कभी हिम्मत नहीं हुई !

अब मैं समझ गया कि आज मैं इसकी कुंवारी चूत का सील तोड़ने वाला हूँ… इसलिए पहले मैंने उसे गर्म करना ठीक समझा।

मैंने रीना को पकड़ लिया और उसे अपनी गोद में उठा लिया और गाड़ी के बोनट पर लिटा दिया, उसकी चूचियाँ ऊपर-नीचे हो रही थी जिन्हें मैंने अपने दोनों हाथों में पकड़ के कस के दबा दिया….

“बाबूजी…बहुत दुःख रहा हैं…थोड़ा धीरे दबाओ ना!” रीना ने कहा।

मैंने अपना एक हाथ उसकी कमीज के अन्दर डाल दिया और उसके चुचूक का दाना पकड़ कर मसल दिया… मुझे बड़ा ही अच्छा लगा… नरम नरम सा अनार के दाने की तरह… मैंने अपने होंठ रीना के होठों पर रख दिए और उसके होंठों को चूसने लगा..! कभी कभी जब मैं उसके होठों और गाल को काट लेता था तो रीना आंह ..आह…उन्ह..कर उठती थी…!

अब मैंने उसे खड़ा कर दिया और उसकी कमीज उतार दी….. हाय… !! उसने नीचे चोली नहीं पहनी थी इसलिए कमीज उतारते ही उसके स्तन उछल कर सीधे मेरे हाथ में आ गए और मैंने दोनों को कस कर पकड़ लिया और जोर-जोर से दबाने लगा……

हाय क्या मजा आ रहा था…

रीना भी गरम हो रही थी…!

मैंने कहा- रीना, मेरी पैन्ट खोलो ना !

रीना- हाँ बाबूजी.. मैं भी इसे देखने के लिए पागल हो रही हूँ !

यह कह कर उसने मेरी पैंट खोल दी !

मैंने अंडरवीयर पहना हुआ था जिसमें से मेरा लंड बाहर झांक रहा था, मेरे लंड का टोपा बाहर निकल रहा था।

रीना घुटने के बल बैठ गई और मेरे बाहर निकले टोपे को देखने लगी।

अचानक ही उसने अपनी जीभ टोपे पर रख दी और मेरा टोपा चाटने लगी….

मैंने अपना अंडरवीयर नीचे खींच दिया…..!

हे भगवन, इतना बड़ा लंड ? और इतना मोटा ? मेरी चूत फाड़ के रख देगा, रीना ने कहा।

उसकी गांड फट रही थी मेरे भयानक लौड़े को देख कर !

मैंने उसका मुँह पकड़ा और अपना पूरा लौड़ा उसके मुँह में ठूंस दिया। उसकी आँखों में पानी आ गया। अब मैंने उसके बाल पकडे और अपना लंड उसके मुँह में अन्दर-बाहर करने लगा। थोड़ी देर में उसे भी अच्छा लगने लगा तो वो खुद ही मेरा लंड चाटने लगी।

उफ्फ्फ्फ़ ….क्या मजा आ रहा था….

साली….तू तो एकदम मस्त चुसाई करती हैं…कहाँ से सीखा है?

वो चुप चाप चूसती रही….! अब उसने मेरे अण्डों को भी मुँह में डाल लिया और चूसने लगी….

ऐसा लग रहा था मानो वो गुलाब जामुन को चूस रही है…

मैंने अपना लंड फिर से उसके होठों पर रख दिया और अपने लंड से उसके होंठ सहलाने लगा….

उसने फिर मेरा लौड़ा मुँह में डाल लिया और सुड़प….सुड़प….कर के चूसने लगी !

मेरा माल निकलने वाला था तो मैंने अपना लौड़ा बाहर खींच लिया और उसे खड़ा कर दिया।

अब मैंने उसकी सलवार भी उतार दी…. हाय…. उसने अन्दर कच्छी भी नहीं पहनी थी… मैंने देखा कि उसकी जांघ पर कुछ गीला-गीला सा लगा था… मैं समझ गया था कि रीना अब पूरी तरह से गर्म हो गई हैं और यह अब मोटे से मोटा लंड भी खा लेगी..!

मैं खड़े-खड़े ही अपनी एक उंगली उसकी चूत के पास ले गया और उसके बुर के दाने को रगड़ने लगा….

रीना आंह…आंह…उफ़ कर उठी…

मैंने धीरे से अपना उंगली उसकी चूत के छेद में डाली मगर वो अन्दर नहीं गई क्योंकि चूत एकदम कसी हुई थी और सीलबंद थी।

मैंने उसके चूत के रस को उंगली पर लिया और फिर से डालने लगा, इस बार उंगली अन्दर चली गई बुर में….

रीना कराह उठी- ऊई माँ….थोड़ा धीरे करो…. !!!

अब मैं उंगली अन्दर-बाहर करने लगा….

थोड़ी ही देर में उसने पानी छोड़ दिया तो मैं समझ गया कि अब सही वक़्त आ गया है जब मेरा लौड़ा इसकी चूत फाड़ सकता है…!

बस मैंने रीना को नीचे झाड़ी की ओट में लिटा दिया…और उसकी टांगें चौड़ी कर दी। एक छोट सा छेद दिखाई दिखाई दिया मुझे जिस में से उसका माल निकल कर बह रहा था।

आज तो मजा आ गया था… एकदम कसी हुई चूत फाड़ने को मिल रही थी…!

मैंने अपने हाथ में थूक लिया और सारा थूक अपने सुपारे पर मल दिया….फिर मैंने उसकी टांगें ऊपर उठा दी और लंड को चूत के छेद पर रख कर एक तगड़ा झटका मार दिया….

लंड दनदना कर सुपारे तक अन्दर घुस गया था…

और रीना के मुँह से चीख निकल गई- ..ऊई माँ…मर गई….मेरी चूत फट गई…. बाहर निकालो अपना लौड़ा…!

मगर अब मैंने उसका मुँह अपने होठों में बंद कर लिया और कमर को ऊपर कर के फिर से ठोक दिया…

अबकी बार पूरा लंड अन्दर सील तोड़ता हुआ अन्दर घुस गया था…. इस बार रीना…..ऊऊऊ … ऊईई फट गई मेरी चूत ! कह कर चिल्ला उठी…!

उसकी चूत से खून निकल रहा था मगर मैंने परवाह नहीं की और लगातार ठोकता रहा अपना मूसल उसकी चूत में!

थोड़ी देर में उसे मजा आने लगा और वो भी चूत उठा उठा कर चुदवाने लगी….!

अब बस ऊउंह….आंह……घप…घप….ऊह….आन्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह…की ही आवाजें गूँज रही थी !

करीब बीस मिनट के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने अचानक उसे उल्टा कर दिया और इससे पहले की रीना कुछ समझ पाती, मैंने माल और खून से सना अपना लंड उसकी गांड में एक ही झटके में घुसा दिया!

वो चीख पड़ी- …आंह ! माँ ! मेरी गांड भी फाड़ दी तुमने…

मगर मैंने चोदना जारी रखा और….बीस धक्कों के बाद मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया और उसके मुँह में डाल कर अपना माल उसके मुँह में भर दिया…. वो मेरा सारा माल पी गई।

फिर हमने एक बार और चूत चुदाई का खेल खेला और वापस आ गए !

अब मैं जब भी गाँव जाता हूँ तो रीना को अलग अलग तरीकों से चोदता हूँ जिस से उसे भी खूब मजा आता है !

You might also like