Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ (page 120)

हिंदी सेक्स कहानियाँ

हिंदी में चुदाई की कहानिया. अन्तर्वासना कामुकता सेक्स स्टोरीज. antarvasna kamukta hindi sex stories, real desi sex kahaniya. sex xxx kahaniya, hindi chudai stories. real sex stories.

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ११

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> हमारा स्टॉप आ गया था दीदी खड़ी हुई मैं भी दीदी के पीछे आगया हम बस से उतरे सामने पापा खड़े थे दीदी को देख के पापा ने फ़ौरन पूछ “क्या हुआ प्रीती तुझे “ दीदी ने …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – १०

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> मै ये सब सुन के बहुत हैरान था की ये लोग इतना सब कर रहे है और दीदी कुछ कह नहीं रही या तो उनको पता नहीं है की एसा कुछ हो रहा है या ये अपनी …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ९

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> मैं बाहर आगया और खेलने चला गया शाम को घर आया तो दीदी उठ चुकी थी और तैयार थी कही जाने के लिए दीदी ने ऑरेंज कलर का चूड़ी दार सलवार सूट पेहेन रखा था मेरी दीदी …

Read More »

मेरे पति ने मुझे मेरे भाई से चुदवाया

मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार से हूँ, 3 वर्ष शादी को हो चुके हैं, इस समय मेरी आयु 27 वर्ष है, मेरे पति की आयु 30 वर्ष है, वह एक बड़ी कंपनी में अच्छे पद पर हैं और अपने काम के सिलसिले में महीने में पंद्रह या बीस दिन शहर …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ८

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> उस वक़्त मैं सोचने लगा की थोड़ी देर पहले दीदी के ये गोरे गोरे बोबे मेरे सामने नंगे थे मैंने आज पहली बार रौशनी में दीदी के टॉप के अंदर ध्यान से देखा था मैंने देखा की …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ७

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> मैंने 1 बात नोटिस की कि दीदी अब अपने bf को किसी भी बात के लिए मना नहीं कर रही थी शायद उन्हें भी सेक्स अच्छी तरह से चढ़ चूका था दीदी ने अपनी ब्रा के कप …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें