Home / Hinglish SEX Kahani / Bhabhi ki Chudai (page 5)

Bhabhi ki Chudai

Devar bhabhi sex stories, bhabhi ki chudai kahaniya, antarvasna indian bhabhi kahani. Bhabhi sex stories hindi, real hindi sex stories, devar bhabhi sex kahani with photo

मोटे लंड से भाभी की चिकनी चूत की चुदाई

दोस्तों, आज जो देवर और भाभी की की सेक्स  कहानियां बताने जा रहा हू वो मेरी भाभी के साथ चुदाई की कहानी हैं. आज मैं बाटूंगा कैसे  मेरी भाभी की बूब्स चूसा, कैसे  मेरी भाभी की चूत चाटा, भाभी की प्यासी चूत की चुदाई की .भाभी का नाम सोनी है. आप भाभी की कामुक फिगर के बारे में सोचकर ही लंड …

Read More »

Padosh ki Bhabhi Ko Choda, Ab unki yaad me mooth marta hu

Mera Naam Ujjwal hai, baat uss samay ki hai jab main 19 saal kaa tha. Mere padosh me ek ladke ki shadi huee thi uska naam tha Rishab. Rishab ka height and weight jyada nahi tha lekin uski wife bilkul usse alag thi, mast figure, chooch aise lagta tha jaise …

Read More »

Nayi naweli bhabhi ki Rat bhar chudai ki gira gira ke

Hello dosto, mera naam raaj hai, yah mera pahla sex anubhav hai, mera naam to aap sabhi jante hai or main abhi ahmedabaad rahta hun or maine abhi kuch samay pahle hi apni collage ki padhai puri ki hai or ab main engineer hun or main achha khasa paisa kamata …

Read More »

सुहाना सफ़र और भाबी की चुदाई

हैल्लो दोस्तों, में आपके लिए एक स्टोरी लेकर आया हूँ, यह मेरा सच्चा और हॉट अनुभव था. में आशा करता हूँ कि आप लोगों को मेरी यह स्टोरी भी पसंद आयेगी. अब मेरी कहानी शुरू होती है. मेरा नाम शिफान है, में इतना भी स्मार्ट नहीं हूँ कि लड़की को …

Read More »

पलंग तोड़ चुदाई का मज़ा (Palang Tod chudai ka maja)

तुम लोग सिर्फ़ छोड़ने का चान्स ढूनडते रहो , एक ना एक दिन ज़रूर मिलेगा. आख़िर कब तक मास्टरबेशन करोगे? आपकी कहानिया पढ़ पढ़ के मेरा लंड तो खुशी से डोलने लगता है. मे भी बहुत दीनो से किसी को छोड़ने का चान्स ढुंड रहा था और मुझे चान्स मिल …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें