Home / Hinglish SEX Kahani (page 20)

Hinglish SEX Kahani

मेरा दिवाना देवर चोदे मुझे नये तरीके से

प्रेषक : प्रीति हेल्लो,  मेरा नाम प्रीति है. मैं शादीशूदा हूँ. शादी के एक साल बाद की एक घटना मैं आज आपको बताती हूँ. मैं अपने पति के साथ रहती थी. घर मे हम दो ही रहते थे. वैसे मैं बहुत सेक्सी हूँ लेकिन अपने पति से खुश थी. वो भी …

Read More »

प्रेग्नेंट दीदी को चोदा: कार में बिठाकर गरम किआ

प्रेषक : गुमनाम हेल्लो दोस्तों… आप लोग केसे हे. यह मेरी पहली कहानी है और सच्ची भी है मानो या ना मानो पर सच्ची है. सभी चूत और लंड को मेरा सलाम. में शहर से दूर फॉर्म हाउस मे रहता हूँ. मेरे परिवार मे 6 लोग है.में सबसे छोटा हूँ. …

Read More »

भरपूर जवानी को बर्दास्त नहीं कर पाई और छोटे भाई से ही चुदवाने लगी

हेलो दोस्तों, तो लो आज मैं अपनी कहानी आप लोगो को शेयर कर रही हु, क्यों की मैं भी आप लोगो की कहानियों को पढ़कर खूब मजे लिए, तो आज मेरी बारी है की मेरी कहानी का भी आपलोग मजा ले, मैं भी आपकी तरह ही रोज http://hindisexkahani.in/ के रेगुलर …

Read More »

पड़ोस की कच्ची कली को चोदा फुल मूड में

प्रेषक : गुमनाम मे गांव से शहर के घर मे शिफ्ट हुआ था की मेरी मुलाकात मेरी पड़ोसन से हो गयी. उसका नाम था कंचन. मेरी उम्र 19 साल है ओर कंचन की 20 । उसके साथ मेरी पहली मुलाकात उसके घर पर ही हुई थी. हम दोनो का घर …

Read More »

हनी भाभी की चुदाई की और गांड मारा

दोस्तों में नीरज आपको एक बहुत ही मजेदार सेक्स कहानी सूना रहा हु, आशा करता हु, की आपको मेरी ये कहानी बहुत हॉट लगेगी, ये कहानी सच्ची कहानी है, मैंने एक जवान और टाइट औरत की चुदाई कल ही की है उन्ही के बारे में ये कहानी है, मेरी उम्र …

Read More »

बहन की तड़पती जिस्म को शांत किया दिल्ली के होटल में

मेरे प्यारे दोस्तों आप सब को कुणाल का नमस्कार, आज मैं आपको अपने ज़िंदगी का एक अनमोल क्षण आपके सामने पेश कर रहा हु, आशा करता हु की आपको बहुत मजा आएगा, आज मैं आपके सामने एक अपनी सच्ची कहानी जो की मेरे और मेरी प्यारी बहन निहारिका के बारे …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें