Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / धमाकेदार चुदाई / जिम में मिली सेक्सी लड़की को चोदा अपने घर पर

जिम में मिली सेक्सी लड़की को चोदा अपने घर पर

ये कहानी तब की हे जब में नियमित जिम में जाता था. और उसके लिए काफी सिरियस भी था. मेरा नाम अमित हे और मेरी उम्र अभी 21 साल की हे. मैं दिखने में हेंडसम, लम्बा हूँ और पहले जिम जाता था वैसी बॉडी तो नहीं हे लेकिन फिर भी अच्छी ही हे बॉडी मेरी.

उस लड़की का नाम नेहा था और उसका फिगर 36 24 36 था. (फिगर का नाप[ उसको चोदने के बाद पता चला था मुझे) वो साइंस की स्टूडेंट थी और वो भी मेरी तरह दिल्ली से ही थी. उसकी गांड इतनी परफेक्ट शेप में थी की देखते ही बनती थी. उसे देख के ही लंड मंडराने और घुमने लगता था. वैसे मेरी जिम में टाइमिंग शाम में 7 बजे से 9:30 बजे तक रहती थी. लेकिन इवनिंग का ये टाइम मेरे लिए अनकम्फर्टेबल हो रहा था.

इसलिए मैंने टाइम चेंज कर के मोर्निंग में 9 से 10:30 बजे जाना चालू कर दिया. मुझे पता नहीं था की ये टाइम मेरे लिए इतना लकी होगा! मैं पहले ही दिन जिम में अपनी बॉडी का पसीना बहा रहा था. तभी ये सेक्सी लड़की टाईट जिम पेंट्स में अपनी हॉट एस और बूब्स को लहराते हुए जिम में एंटर हुई. सच कहूँ तो मेरी निगाहें उसकी सेक्सी लहराती हुई गांड और थिरकते हुए बूब्स के ऊपर से हटी ही नहीं. वो ट्रेडमिल के ऊपर वार्म अप कर रही थी. और मैं उसके ध्यान में इतना खो चूका था की मेरा अपने वर्क आउट से ध्यान ही हट गया था.

और फिर उसने जब मेरी तरफ देखा तो मैंने अपनी नजर को दूसरी तरफ कर ली. लेकिन मन अभी भी जैसे मान ही नहीं रहा था. इसलिए मैं बिच बिच में वापस इस सेक्सी लड़की को देखने लगा.

कुछ और दिन ऐसे ही देखा देखी चलती गई. उसको भी पता था की मैं उसे देखता था. फिर एक दिन मैंने सोचा की बहुत देखादेखी हुई अब. मैंने हिम्मत जुटाई उसके पास गया और उस से कहा की तुम एकदम क्यूट और होट हो.

मेरी हिम्मत को देख के वो भी इम्प्रेस हो गई. वो हंस पड़ी और थेंक्स बोली. फिर मेरी और उसकी कुछ बात हुई. हमने अपने नम्बर्स दिए एक दुसरे को.

शाम को ही मैंने उसे हाई लिख के भेजा और उसका फट से जवाब भी आ गया. फिर हमारी बातचीत होने लगी मोबाइल से ही. और फिर हम दोनों ने एक दिन जिम के बाद मिलने का प्लान बना लिया. पहले पहले हम कोफ़ी पिने जाते थे जिम के बाद और संडे के दिन वही करीब में एक फेमस डोसा पार्लर था वहां डोसा खाते थे.

फिर मैंने नेहा के साथ धीरे धीरे सेक्स चेट चालु कर दी. सेक्स चेट के माध्यम से ही मुझे पता चला की उसने अपनी लाइफ में कभी भी अपनी चूत नहीं चटवाई थी. और कोई उसकी चूत को चाट के उसे शांत करे वही उसकी फेंटसी थी. उसने मुझे पूछा तो मैंने कहा की मेरी फेंटसी लड़की के साथ काऊगर्ल पोजीशन में सेक्स करने की हे. मैंने उसे कहा की मैंने बहुत लड़कियों के साथ सेक्स किया हे लेकीन वो पोज में कोई नहीं आई. उसने स्माइली भेजी और कहा की मैं कर के दूंगी तुम्हे. उसकी ये बात मेरे मन में ऐसे बसी की उस रात को मुझे 2 बार अपने लंड को हिलाना पड़ा.

दुसरे दिन जिम के बाद हम मिले एक खोपचे में तो मैंने उसके होंठो के ऊपर अपने होंठो को लगा दिया. वो एकदम सेक्सी ढंग से मेरे होंठो को चूस रही थी और उसके बदन में एक अलग ही गर्मी भी रही थी मुझे. मैंने उसे कहा की अगले हफ्ते मेरा घर खाली हे क्यूंकि सब लोग कही जा रहे हे. वो मेरे घर पर आने के लिए रेडी हो गई. फिर मैंने उसे अपना पता दिया और उस से कहा की उस दिन तुम मेरे घर आ जाना जिम के बाद मैं उस दिन जिम में नहीं आऊंगा.

उस दिन सुबह से ही मेरा लंड फडफडा रहा था. घर के सब लोग अर्ली मोर्निंग में ही निकल गए. मैंने नेहा को मेसेज कर के ये बात कन्फर्म कर दी.

कुछ देर में नेहा आ गई. उसने भी जिम से जल्दी निकलना ही मुनासिब समझा था उसने. उसने डोरबेल बजाई और मैंने दरवाजा खोला. वो टाईट शोर्ट में थी और उसके बदन एकदम सेक्सी लग रही थी. उसने अंदर जो ब्रा पहनी थी वो भी मेरा फेवरेट कलर था.

मैं तो बस उसके कपडे फाड़ के उसको उसी वक्त पकड के गांड और चूत को चाट लेना चाहता था. लेकिन मैंने खुद के ऊपर कंट्रोल किया. मैं उसे ले के अन्दर गया और बिस्तर के ऊपर बिठा दिया. वो मेरी तरफ देख रही थी और मैंने उसे एक शब्द भी नहीं कहा. हम दोनों ने एक दुसरे को किस किया और मेरे हाथ उसके बदन के ऊपर घूम से रहे थे. मेरी और नेहा की वो सब से लम्बी किस थी. हम 10-12 मिनिट तक बिना रुके हुए एक दुसरे के होंठो को चूसते रहे.

फिर मैंने इस सेक्सी लड़की को बिस्तर में डाला और उसके ऊपर चढ़ के मैंने उसके गले को, कंधे को चूसने लगा. और चूसते हुए ही मैंने उसकी टी शर्ट निकाली. और उसकी पिंक ब्रा के हुक्स को भी खोल दिए. मैंने पहली बार ही नेहा के सेक्सी बूब्स देखे थे. मैंने जल्दी से उन्हें अपने होंठो से लगा दिए और मैं निपल्स को और बूब्स दोनों को जोर जोर से सक करने लगा. साथ में मैं उन्हें अपने हाथ से मसल रहा था और दबा भी रहा था.

फिर मैं धीरे से निचे को हुआ और उसके पेट के ऊपर किस कर लिया. उसके पेट के स्नायु मर्डर फिल्म की मल्लिका शेरावत के जैसे ऊपर निचे हो रहे थे. मैंने धीरे से उसकी टाईट जिम पेंट को उतार दी और उसने अन्दर कुछ भी नहीं पहना था. शायद वो चुदने के पक्के प्लान से ही आई थी.

मैंने नेहा की जांघ के ऊपर अपने होंठो को लगा के किस किया तो वो पागल सी हो उठी. उसके बाद मैं उसकी गुलाबी चूत की तरफ बढ़ गया और वहां पर बड़े ही प्यार से किस करने लगा. मेरी जबान और ऊँगली दोनों को मैंने नेहा की चूत को खुश करने के काम में लगा दिया था. नेहा अह्ह्ह्ह अह्ह्ह कर रही थी और मेरा नाम ले के कह रही थी की अपनी जबान से मेरी चूत को चोदो. उसकी फेंटसी पूरी हो रही थी चूत को चटवाने की इसलिए उसकी ये बेताबी समझी जा सकती थी. मैंने उसकी गांड को पकड़ के उसको ऊपर की तरफ उठाया और एकदम सेक्स ढंग से उसकी चूत को कुछ देर तक ऐसे ही लिक किया.

5 मिनिट के बाद मैं खड़ा हुआ और नेहा को धक्के से लिटा दिया और अपने बॉक्सर को खोला. उसने मेरा लंड अपने जात में पकड़ा और उसे हिलाने लगी. फिर उसने मेरे लंड को अपने मुहं में ले के मुझे अपनी लाइफ का सब से सेक्सी ब्लोवजोब दिया.

फिर मैंने खड़े हो के उसके बड़े बूब्स के बिच में अपने लंड को घुसाया और वो दोनों बूब्स पकड के बैठी हुई थी. मैंने मस्त बूब्स जॉब की और लंड को उसके निपल्स के ऊपर घिसा भी. उसके सेक्सी बूब्स ऐसे लंड से चुदने के लिए ही बने थे जैसे! नेहा भी एकदम हॉट हो गई थी ये सब से और मेरा लंड भी अब एकदम उबाल मार रहा था.

फिर मैंने नेहा को निचे मिशनरी पोज में लिटा दिया और अपना लंड अन्दर घुसाना चाहा. लेकिन उसकी चूत बड़ी टाईट थी इसलिए मेरा लंड फिसल गया. नेहा ने मेरे लंड को पकड के सही लगाया और फिर उसकी टॉप को थोड़ी अन्दर घुसा के घिसी भी. लंड के ऊपर चूत की चिकनाहट लगने से फिर पेनेट्रेशन आराम से हुई. मैंने धीरे धीरे कर के अपना लंड उसकी पुसी में घुसा दिया और उसको चोदने लगा. पहले पहले मैंने एकदम स्लो स्लो चोदा इस सेक्सी लड़की को. और फिर मेरी स्पीड बढ़ गई. वो भी अह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह या अय्य्य्हह्ह्ह कर के हिल रही थी. उसके बूब्स इधर उधर हो रहे थे और मस्त चुदवा रही थी. फिर मेरे लंड का पानी नेहा की चूत में निकल गया जिस से मुझे एक बड़े संतोष की फिलिंग हुई. मैंने कुछ देर ऐसे ही लंड को उसकी चूत में रखा.

फिर मैंने लंड को निकाला. नेहा टाँगे फैला के ऐसे ही लेटी हुई थी. उसकी पिंक चूत में मेरा सफ़ेद वीर्य लगा हुआ था. उसको ऐसे देख के मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. अब की मैं अपनी फेंटसी को पूरा करना चाहता था. नेहा को भी याद था इसलिए उसने कहा अब काउगर्ल पोज़ में करते हे.

मैंने अपने गंदे लंड को उसके मुहं में दिया चूसने के लिए. उसने लंड को थोडा चूसा और वो एकदम कडक हो गया. नेहा खड़ी हुई और मैं निचे लेट गया. वो चूत में लंड को ले के ऊपर चढ़ गई. मेरे दोनों हाथ उसके बूब्स के ऊपर थे और मैं उसको चोद रहा था. वो भी अपनी गांड के धक्के मेरी जांघो के ऊपर दे के मजे से लंड अपनी छेद में डीप तक ले रही थी.

लंड का पानी निकल गया तो वो निचे आ के मेरे पास लेट गई. फिर पांच मिनिट के बाद मैं हम दोनों के लिए सेंडविच और कोफ़ी ले के आया. कोफ़ी पिने के बाद मेरा फिर से खड़ा हुआ. मैंने उसके बाल पकड़ के पहले उसके मुहं को चोदा. और फिर 15 मिनिट तक उसे कुतिया बना के यानी की घोड़ी बना के उसकी चूत को चोदा. नेहा की पढ़ाई मेरे से पहले पूरी हुई इसलिए वो चली गई. लेकिन जब तक वो यहाँ थी हम लोग अपनी चुदाई अलग अलग जगह पर कर ही लेते थे.

उसके जाने के बाद मेरा जिम में जाने का मूड ही ऑफ हो गया था जैसे!

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें