Home / Hinglish SEX Kahani / chut Chudai Ki Kahani / माँ दादी और बहन की एकसाथ चुदाई की कहानी: part 2

माँ दादी और बहन की एकसाथ चुदाई की कहानी: part 2

प्रेषक : अमन
“माँ दादी और बहन 1” से आगे कि कहानी . . .इसके पहले की कहानी पड़ने के लिए यहाँ click करे
फिर एक दिन माँ और दादी को शादी मे जाना पड़ा जाना तो मुझे भी था. मगर शादी बहुत दूर थी. 3 दिन लगते और काम नही छोड़ सकते थे और माँ मेरी बहन को घर छोड़ गयी. खाना बनाने को मे सुबह उठा अपना काम किया और नहाने

जा रहा था की मेने सोचा की मालिश ही केर ले मेने अपनी बहन को बुलाया की वो मेरी मालिश कर दे वो तेल लेकर आई और कहने लगी की भय्या आप लेट जाओ…

में अपने कपडे उतार कर लेट गया मे बिल्कुल नंगा था मे उल्टा लेटा था की वो मेरी पीठ की मालिश कर दे उसने मेरी पीठ पर तेल डाला और मालिश शुरू कर दी मुझे बहुत मज़ा आया कोमल-कोमल हाथो से मे सीधा चित होकर लेट गया. उसने मेरा सोया हुआ लंड बड़े गोर से देख रही थी. मेने कहा क्या देख रही है.. वो बोली भय्या आपका यह तो बड़ा हो गया.. मे बोला खुद बड़ा हो गया.. वो बोली झूठ क्यू बोलते हो रोज माँ और दादी इसकी मालिश करते है इसलिए बड़ा हो गया.. मे बोला तू करेगी इसकी मालिश वो बोली हाँ कर देती हूँ.. उसने तेल मेरे लंड पर डाला और मालिश करने लगी. तेल लगा कर मालिश करने लगी. मेरा लंड खड़ा होने लगा. थोड़ी देर मे ही मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया और अब वो उसके हाथ मे भी नही आ रहा था. मेने उसे कहा तुम भी अपने कपडे उतार दो… तो उसने भी अपने कपडे उतार दिए. अब मेरी बहन नंगी मेरे सामने खड़ी थी. उसके छाती के छोटे-छोटे उभार बहुत अच्छे लग रहे थे. मेने उसे अपने पास बुलाया और उसे नीचे चित लिटा दिया और मेने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए और उसकी कोमल चूत पर अपना हाथ फेरने लगा. मेने उसके छोटे से बोब्स को अपने मुँह मे लेकर चूसने लगा वो बोली भय्या क्या कर रहे हो बहुत गुदगुदी हो रही है.. मे और ज़ोर से चूसने लगा।

 

 
मेने उसे कहा की मेरा लंड मुह मे लोगी वो बोली नही.. मे बोला माँ और दादी भी लेती है तू भी ले मज़ा आएगा… वो बोली ठीक है.. मेने उसे अपने उपर ले लिया. उसका मुह मेरे लंड पर और मेरा मुह उसकी चूत पर. मेने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया. उसने भी मेरा लंड अपने मुह मे ले लिया वो मेरे सुपाडे को चूसने लगी. में उसकी चूत को ज़ोर-जोर से चाटने लगा. मेने उसकी चूत मे अपनी एक उंगली घुसेड दी वो चीख उठी उसकी चूत बहुत टाइट थी. दादी की गांड से भी ज्यादा टाइट मे अपनी एक उंगली अंदर बाहर करने लगा. वो पाँच मिनिट मे झड़ गयी. में उसका सारा पानी पी गया. मेने उसे चित लेटा दिया और उसकी टांगो को खोलकर बीच मे आकर बेठ गया. मेने उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगा. उसके मुह से सिसकारिया निकल रही थी वो बोली भय्या आपका यह लंड अंदर चला जाएगा.. मे बोला हां.. वो बोली मेरी चूत तो बहुत छोटी है उंगली मुश्किल से जाती है तो इतना बड़ा लंड केसे चला जाएगा.. मे बोला की चला जाएगा बस तोड़ा सा दर्द होगा.. मे बोला की पहली बार मे सब को होता है बस तुम बर्दास्त कर लेना बाद मे मज़ा आएगा.. वो बोली की ठीक है.. मेने उसकी चूत पर बहुत ज्यादा तेल लगाकर उंगली अंदर बाहर करने लगा।
 
फिर मेने अपनी दूसरी उंगली भी अंदर घुसा दी वो हल्का सा चीक उठी. मेने सोचा की जब मेरा लंड इसमे जाएगा तो यह तो बहुत चिल्लाएगी. मेने उसकी सालवार को उसके मुह मे घुसेड दी और अपने लंड पर तेल लगाकर मेने उसकी चूत पर रखा और उसकी कमर को ज़ोर से पकड लिया और हल्का सा एक धक्का दिया. तेल ज्यादा लगा होने के कारण मेरा 3 इंच लंड अंदर चला गया. वो तडपने लगी वो मुह से कपडा निकालने लगी तो मेने उसके हाथ पकड लिए. मेने फिर एक ज़ोर से झटका मारा और मेरा पूरा लंड बहन की चूत को फाड़ता हुआ अंदर चला गया. चूत टाइट होने के कारण मेरी भी चीख निकल गयी और बहन का तो बुरा हाल था वो तो बेहोश हो गयी मे डर गया की इसको कुछ हो ना जाए. मेने अपना लंड बाहर निकाला तो उसकी चूत से खून निकल रहा था. मेने सोचा की अगर इसे ना चोदा तो यह कभी भी मुझे चोदने नही देगी. मेने अपनी बहन की परवाह किए बिना फिर से अपना पूरा लंड उसकी चूत मे डाल दिया और ज़ोर-जोर से चोदने लगा. में बहुत तेज तेज धक्के मार रहा था. 15 मिनिट बाद वो होश मे आने लगी होश मे आते ही वो छुटने का प्रयास करने लगी. पर मेने उसे पूरे जोश से पकड रखा था।
 
वो तडप रही थी उसकी आँखो से आंसू आ रहे थे वो बहुत रो रही थी पर मे अपने ही मज़े मे उसको चोदता रहा. मेने फिर अपना लंड बाहर निकाला और एक बार मे ही पूरा अंदर डाल दिया वो फिर बेहोश हो गयी. में उसे चार पांच मिनिट तक चोदने के बाद अपना लंड बाहर निकाला और उसके छोटे- छोटे बोब्स पर अपना रस निकाल दिया. में भी साइड मे ढेर हो गया. 15 मिनिट बाद मे उठा और देखा की ज़मीन पर खून ही खून है और चूत से अभी भी खून निकल रहा है. मेने अपनी लूँगी से चूत साफ की और उसकी चूत पर हल्दी लाकर लगाई तो खून रुक गया. में उसे उठाकर ऐसे ही बाथरूम मे ले गया जहा मेने उसे होश मे लाया वो अपने पैरो पर खड़ी भी नही हो पा रही थी. मेने उसे साफ किया फिर खुद भी नहा कर उसे कमरे मे ले गया फ़िर मे पानी गर्म करके लाया और उसे दर्द की गोली खिलाई और उसकी चूत को गर्म पानी से सेख देने लगा. फिर उसके पूरे शरीर की मालिश की अब उसका दर्द कुछ कम हुआ. मेने उसे खाना बना कर खिलाया और खुद भी खाया उसकी चूत की मालिश की और वो सो गयी. तब मे उठा और अपना काम करने लगा काम खत्म करके मे शाम 7:30 बजे बहन के कमरे मे गया वो अभी भी नंगी सो रही थी।
मेने उसे उठाया और वो उठी और मेरी तरफ हंसकर देखने लगी. मेने फिर उसकी चूत की मालिश की और उसे नहलाया और मेने खाना बनाया और हम दोनो ने खाना खा लिया. फ़िर हम दोनो कमरे मे आ गये. मेने बहन को पूछा की अब दर्द हो रहा हे.. वो बोली नही अब ठीक है.. मे बोला तो यह ले दर्द की गोली सुबह तक बिल्कुल ठीक हो जाएगी.. उसने गोली खा ली और उसने मेरे लंड को पकड लिया और सहलाने लगी. में भी उसकी चूत को सहलाने लगा. उसने मेरा लंड मुह मे ले लिया और चूसने लगी. मेरा लंड खड़ा होने लगा. फिर में उसकी चूत को चाटने लगा वो पूरी गर्म हो गयी और बोली की भय्या अब डाल दो मेरी चूत मे अपना लंड.. मेने उसकी टाँगे खोली और उसकी चूत पर तेल लगाया और अपने लंड पर भी तेल लगाया और उसकी चूत के मुह पर रख कर हल्का सा झटका मारा तो मेरा चार इंच लंड अंदर चला गया. उसे दर्द हुआ पर सुबह की तरह नही. मेने उसके बोब्स मसलने लगा और फिर धक्का मारा तो मेरा 6इंच लंड अंदर चला गया. अब उसे दर्द होने लगा. में उसके उपर लेट गया और उसके होंठ चूसने लगा और उसके बोब्स मसलने लगा. वो थोडा सा शांत हुई तो मेने एक धक्का और मारा और पूरा लंड मेरी बहन की चूत मे चला गया वो दर्द से कहराने लगी। में उसके होंठ चूसता रहा और उसके बोब्स को मसलता रहा।
 
5 मिनिट मे वो अपनी कमर नीचे से हिलाने लगी. में भी अपनी कमर हिलाने लगा. अब उसे मज़ा आने लगा. अब वो मेरा पूरा लंड अपनी चूत मे ले रही थी. में उसे ज़ोर-जोर से चोदने लगा. फिर मे उसे कुत्ते वाले तरीके मे चोदने लगा. फिर वो झड़ गयी. मेने अपना लंड उसकी चूत मे से निकाल कर उसके मुह मे दे दिया वो मज़े से चाटने लगी. फिर मे चित होकर लेट गया और उसे अपने लंड पर बेठने को कहा वो आराम से मेरे लंड पर बेठने लगी और पूरा लंड अपनी चूत मे ले लिया और वो उपर नीचे होने लगी. में उसके छोटे-छोटे बोब्स को मसलने लगा करीब 1.30घंटे बाद मेरा पानी अपनी बहन के मुह मे छोड़ दिया. इस दोरान वो 5बार झड़ चुकी थी. माँ और दादी के आने तक मेने उसे कई बार चोदा. फिर माँ और दादी आ गये और सब पहले की तरह हो गया. 6महीने गुजर गये मेरे लंड को कोई चूत नही मिली मे पागल होने लगा. एक दिन सुबह मे और माँ काम कर रहे थे. माँ ने सिर्फ़ साड़ी पहनी हुई थी. जेसे ही माँ नीचे झुकती माँ के आधे बोब्स नंगे हो जाते. मेरा लंड खड़ा होने लगा. में माँ के पास जाकर माँ को पकड लिया और माँ के बोब्स दबाने लगा।
 
में बोला माँ अब नही रहा जाता आज तो मे तुझे चोद कर ही दम लूँगा.. माँ बोली बेटा बस अब तुझे और देर नही होने दूँगी आज रात को मे और तेरी दादी तुझसे अपनी चूत चुदवाएगे.. में बोला सच.. वो बोली हाँ तेरी दादी ने कल कहा था की कल हम अपने बेटे से चुदवाएगे.. मे बोला ठीक है.. हम फिर काम करने लगे सारा काम खत्म होने के बाद शाम 7बजे माँ ने मुझे कहा की आजा मे दादी के कमरे मे गया तो दादी बोली चल अपने कपडे उतार.. और माँ से बोली की तू खाना बना ले मे इसकी मालिश करती हूँ.. माँ चली गयी दादी ने मेरी छाती पर तेल डाला और मालिश करने लगी. दादी मेरी मालिश करती हुई मेरी निप्पल पर ज़ोर से काटती और मेरे मुह से अया..आ.. की आवाज़ निकल जाती. दादी ने मेरे लंड की मालिश शुरू की इतने मे माँ आ गयी और वो ही मेरी मालिश करने लगी. इतने मे माँ और दादी भी नंगी हो गयी इतने मे मेरी छोटी बहन भी कमरे मे आ गयी और वो भी नंगी होकर मेरे पास आ गयी और माँ उसे नंगी देखकर चिल्लाने लगी की तू यहा क्या करने आई है.. आगे से मेरी बहन बोली की जो तुम दोनो करने आए हो.. तो माँ बोली की तू अभी छोटी है.. बहन बोली की अब मे छोटी नही रही भय्या ने मेरी चूत भी फाड़ दी.. और माँ को अपनी चूत दिखाने लगी।
 
माँ मेरी तरफ देख कर बोली तूने इसे भी चोद डाला.. मे बोला क्या करता.. माँ बोली चल आ जा तू दादी की मालिश कर और बेटा तू मेरी मालिश कर.. पर मे बोला की माँ पहले आप अपनी चूत के बाल साफ करे.. माँ जाकर शेव का समान ले आई और मेने माँ दादी और बहन की चूत को शेव किया और फिर एक दूसरे की मालिश की बाद मे फिर हम चारो खूब अच्छी तरह नहाए. हमने एक दूसरे के एक-एक अंग की अच्छी तरह से साफ किया. सभी नहाकर कमरे मे चले गये. फिर हमने एक दूसरे की चूत चाटी और बहन माँ की चूत चाट रही थी. में दादी की चूत चाट रहा था. बाद मे माँ मेरा लंड चूसने लगी और दादी बहन की चूत. फिर मेरा पूरा लंड खड़ा हो गया तो पहले दादी मेरे सामने चित लेट गयी और मेने दादी की चूत पर अपना लंड रखा और धक्का मारा तो मेरा 5 इंच लंड अंदर चला गया. माँ और बहन दादी के बोब्स मसल रहे थे. मेने फिर एक ज़ोर से धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड दादी की चूत मे चला गया. दादी के मुह से चीख निकल गयी. मेने ज़ोर-जोर से धक्के मारने लगा. दादी के मुँह से आवाज़ निकल रही थी. मे दादी को चोद रहा था. 5मिनिट मे दादी झड़ गयी. फिर माँ मेरे नीचे आई और मेने माँ की चूत मे एक झटके से लंड डाल दिया. माँ की ज़ोर से चीख निकल गयी तो दादी ने माँ के मुह पर अपनी चूत रख दी और में माँ को ज़ोर से चोदने लगा।
 
7 मिनिट मे माँ भी झड़ गयी. मेने माँ की चूत से लंड निकाला तो माँ की चूत से खून भी निकला. फिर बारी मेरी बहन की आई मेने उसे चित लेटा कर उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगा. माँ बोली बेटा आराम से इसकी चूत अभी कोरी है एक झटके मे नही जाएगा.. मेने ज़ोर से लंड बहन की चूत मे डाल दिया. मेरा पूरा लंड चूत के अंदर था और बहन के मुह से हल्की सी आह.. निकली. यह देखकर माँ और दादी हेरान हो गये तो मेने बताया की मे इसे चोद चुका हूँ.. तो मे उसे चोदने लगा. बहन भी झड़ गयी. ऐसे ही तिन बार हुआ और वो तीनो बार झड़ी और मे भी झडने वाला था तो तीनो मेरे लंड के पास अपने मुह ले आए और मेरे लंड से पिचकारी निकली तीनो के मुह भर गये. तीनो ने एक दूसरे का मुह चाट कर साफ किया और हम नंगे ही लेट गये तो माँ ने मुझे अपना दूध पिलाने लगी. फिर दादी ने भी अपना दूध पिलाया और फिर दादी मेरा लंड चूसने लगी. थोड़ी देर मे मेरा लंड खड़ा हो गया और दादी मेरे लंड पर बेठ गयी और उपर नीचे होने लगी. दादी के दोनो बोब्स हिलने लगे माँ ने दादी के बोब्स ज़ोर-जोर से मसलने लगी. इतने मे दादी झड़ गयी. फिर मेरी बहन उपर बेठी और उपर नीचे होने लगी. दादी ने अपने बोब्स बहन के मुह मे दे दिए और माँ ने अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी और में माँ की चूत चाटने लगा।
बहन भी झड़ गयी तो माँ आ गयी माँ भी उपर बेठ कर उपर नीचे होने लगी बहन माँ के बोब्स चूसने लगी वो तीनो इस बार 6 बार झड़े पर मे नही झडा ओर वो थक कर लेट गयी तो मेने दादी की गांड पर अपना लंड रखा और धक्का मारा. मेरा लंड दादी की गांड मे चला गया माँ ने दादी के मुह मे कपड़ा दे दिया और दादी को पकड लिया ताकि दादी छूट ना जाए. मेने 20मिनिट दादी की गांड मारी तो मेने अपना लंड दादी की गांड से निकाल लिया और माँ के मुह मे दे दिया. दादी की गांड से हल्का सा खून बाहर आ गया था जिसे मेने अपनी बहन को बोला की चाट कर साफ कर दे और मेरे लंड पर लगा. फिर माँ के मुँह मे दे दिया. बहन दादी की गांड चाटने लगी और माँ मेरे लंड को. मेने माँ के मुह से लंड निकाला और माँ को घोड़ी बनने को कहा माँ बन गई मे माँ के मुह मे भी कपडा डाल दिया और पीछे आकर गांड पर अपना लंड रखा और ज़ोर से धक्का मारा तो मेरा 5 इंच लंड माँ की गांड मे चला गया. माँ तो कांप सी गयी माँ रोने लगी. मेने फिर धक्का मारा और पूरा लंड माँ की गांड मे चला गया. माँ की गांड बहुत टाइट थी मे माँ की गांड को ज़ोर-जोर से चोदने लगा।
 
मेने माँ को 15 मिनिट तक चोदा. फिर मेने माँ की गांड से अपना लंड निकाला और मे अपनी बहन के पास गया. मेने उसे चित लेटा दिया और उसकी गांड के नीचे तकिया रख दिया जिससे उसकी गांड उपर हो जाए. मेने पास पड़ी माँ की पेंटी को बहन के मुँह मे डाल दी और मे अपनी बहन की गांड पर अपना लंड रख कर धक्का मारने लगा. मेरा अभी सिर्फ़ 3इंच ही लंड अंदर गया था की वो रोने लगी. मेने बिना कुछ सोचे उसकी गांड मे ज़ोर से धक्का मारा तो पूरा लंड गांड के अंदर चला गया. वो पूरी दर्द से कापने लगी. पर मे उसे चोदने लगा. 15 मिनिट मे में गांड मे ही झड़ गया और हम ऐसे ही सो गये. अब यह सब रोज होने लगा।
 
फिर मेने अपनी बहन की शादी कर दी और बाद मे मेने भी शादी कर ली और बहन के दो बच्चे है एक लडका और एक लड़की और मेरा एक बेटा है मेरा जीजा भी मेरी माँ को दादी को और मेरी बीवी को चोद चुका है पर अब दादी हमारे बीच मे नही है बस जीवन ऐसे ही चल रहा है जब भी बहन आती है तो मे और जीजा जी मिल कर माँ को मेरी बीवी को और अपनी बहन को चोदते है..
 
धन्यवाद । ।  

Leave a Reply

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें