Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / भाई बहन / मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – २०

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – २०

आगे की कहानी >>>
शिप्रा दीदी भी अपने हाथ से मेरे लंड को सहलाने लगी फिर मैंने अपना हाथ नीचे से शिप्रा दीदी के टॉप के अंदर डाल दिया और ब्रा पे से उनके बोबे दबाने लगा शिप्रा दीदी ने अपना मुह मेरी तरफ किया और अँधेरे में हम दोनों ने एक दुसरे को किस करना शुरू कर दिया मैं शिप्रा दीदी के होंठो को चूसते हुए उनके बोबे दबा रहा था फिर शिप्रा दीदी ने मेरी जीन्स की चैन खोली और मेरा लंड बाहर निकाल दिया और अपने हाथ से मेरा नंगा लंड सहलाने लगी मुझे और मजा आने लगा मैंने शिप्रा दीदी की ब्रा के दोनों कप नीचे कर दिए और उनके नंगे बोबे दबाने लगा फिर शिप्रा दीदी नीचे झुक गयी मुझे समझ नहीं आया और फिर उन्होंने वो किया जिसकी मुझे उम्मीद भी नहीं थी उन्होंने मेरा लंड अपने मुह में ले लिया और उसे चूसने लगी मुझे बहुत मजा आ रहा था लेकिन आज पहली बार मुझे डर भी लग रहा था की कहीं प्रीती दीदी कुछ देख ना ले लेकिन शिप्रा दीदी के लैंड चूसने के तरीके से मैं सारा डर भूल गया और उनके बालो को सहलाने लगा और उनके बोबे दबाने लगा मैं इतना ज्यादा मदहोश हो चूका था की भूल ही गया था की मेरे पास प्रीती दीदी बैठी है मेरी आँखें बंद थी मैं मदहोश था और इसी मदहोशी में मेरा हाथ प्रीती दीदी की झांग पे चला गया मैं अपना हाथ प्रीती दीदी की झांग पे फेरने लगा …
मेरा लंड शिप्रा दीदी के मुह में था वो कभी जीभ मेरे लंड के टोपे पे घुमा रही थी तो कभी अपने होंठो से मेरा लंड चूस रही थी इसी मदहोशी में मुझे ध्यान ही नहीं रहा और मेरा हाथ प्रीती दीदी की जांघ पे चला गया और मैं उनकी जींस के ऊपर से उनकी जांघ पे हाथ फेरने लगा मैं इसी मदहोशी में अपना हाथ प्रीती दीदी की जांघ पे फेरते फेरते ऊपर उनकी दोनों जांघो के बीच में लेके जाने लगा तभी हॉल में लाइट चली गयी मूवी बंद हो गयी और गेट कीपर ने टोर्च जलाई मैं होश में आया और मुझे एहसास हुआ की मेरा हाथ प्रीती दीदी की चूत से थोडा ही दूर है मैं डर गया मैंने जल्दी से अपना हाथ हटा लिया शिप्रा दीदी भी जल्दी से उठ के अपनी सीट पे बैठ गयी मैंने अपना लंड अंदर किया और मैंने शिप्रा दीदी के कान में बोला “यार दीदी एक प्रॉब्लम हो गयी ” शिप्रा दीदी ने पूछा “क्या हुआ ….रुक तो जा चूस रही हू ना मूवी तो स्टार्ट होने दे “
मैंने कहा ” नहीं दीदी यार वो बात नहीं है जब आप चूस रही थी ना तो मैं इतना मदहोश हो गया की गलती से मेरा हाथ प्रीती दीदी की झांग पे चला गया मैं अपना हाथ उनकी झांग पे फेरा काफी देर तक अब बहुत डर लग रहा है ” तो शिप्रा दीदी बोली “यार सोनू तू भी ना हम दोनों को मरवाएगा रुक मैं कुछ करती ह ” फिर कुछ देर सोच के वो बोली ” एक काम कर अभी पूरा अँधेरा है तू मेरी सीट पे आजा मैं तेरी सीट पे आ जाती हु जल्दी कर ” फिर हम दोनों ने अपनी सीट बदल ली मैंने अब जाके थोड़ी रहत की सांस ली और मन में सोचने लगा की यर आज तो प्रीती की नरम नरम झांगो पे मेरा हाथ था और उनकी चूत पे पहुँचने ही वाला था आज प्रीती दीदी ने कौन से कलर की ब्रा और पेंटी पहनी हुई होगी ये सब सोच सोच के मैं बहुत उत्तेजित हो गया था मैंने शिप्रा दीदी के कान मैं कहा “दीदी करो ना चूसो ना ” शिप्रा दीदी बोली “ओये अब कुछ नहीं हो सकता स्टुपिड दिमाग तो लगा अगर यहाँ से झुकुंगी तो प्रीती को पता नहीं चलेगा क्या अब तो बैठा रह और पिक्चर देख हा हा हा हा हा हा “
यह कह के वो जोर से हसने लगी थोड़ी देर बाद लाइट आई और मूवी स्टार्ट हुई जेसे ही मूवी स्टार्ट हुई प्रीती दीदी ने पास वाली सीट पे देखा और शिप्रा दीदी को देख के बोली ” अरे दीदी आप यहाँ केसे यहाँ तो सोनू बैठा था ना ” शिप्रा दीदी ने कहा “अरे हमने तो कितनी देर से सीट चेंज की हुई है तुझे नहीं पता क्या इतनी खो गयी क्या मूवी में “तो प्रीती दीदी बोली “हाँ मुझे नहीं पता था तो दीदी वो आप मेरे हाथ क्यों फेर रही थी ” तो शिप्रा दीदी बोली “यार डार्लिंग सीन अच्छा चल रहा था ना तो मुझे लगा की तुझे भी थोडा मजा आ जाये “ये कह के वो जोर से हसने लगी प्रीती दीदी बोली “क्या शिप्रा दीदी आप भी ना “और फिर हम सब मूवी देखने लगे थोड़ी देर बाद मैंने शिप्रा दीदी का हाथ पकड़ा और अपने लंड पे लगा दिया शिप्रा दीदी समझ गयी उन्होंने अपने हाथ से मेरा खड़ा लंड सहलाने शुरू कर दिया शिप्रा दीदी सीधी बैठ के मूवी देख रही और वो मेरी तरफ घूम भी नहीं सकती क्योंकि प्रीती दीदी पास ही बैठी थी उनको पता चल जाता मैं भी शिप्रा दीदी टॉप पे से उनके एक बोबे को साइड में से दबाने लगा उनके टॉप पे से उनके बोबे को सहलाने लगा मेरे हाथ में शिप्रा दीदी का बोबा बस साइड में से आ रहा था फिर शिप्रा दीदी ने मेरी जीन्स की चेन खोली और मेरा लंड बाहर निकाल दिया
और अब शिप्रा दीदी मेरे नंगे लंड को अपने कोमल हाथ से सहलाने लगी कभी वो मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ कर जल्दी जल्दी ऊपर नीचे करती कभी अपनी नाजुक उँगलियाँ मेरे लंड के टोपे पे घुमती मुझे बहुत मजा आ रहा था मैं भी साइड में से शिप्रा दीदी के टॉप पे से उनका बोबा दबा रहा था फिर उनके बोबे दबाते दबाते मैं ने अपना हाथ नीचे किया और उनके पीछे उनकी पीठ की तरफ डाल दिया मैंने अपना हाथ उनकी पीठ पे रखा और उनकी पूरी पीठ पर अपना हाथ फेरने लगा वो भी अपने हाथ से मेरा लंड सहला रही थी
फिर मैंने अपना हाथ उनकी पीठ के नीचे की तरफ रखा और पीछे से उनके टॉप के अंदर अपना हाथ दाल दिया और उनकी पूरी नंगी पीठ पर अपना हाथ फेरने लगा उनकी ब्रा की स्ट्रेप से मैं बार बार खेल रहा था उनकी ब्रा के हुक को मैंने अपनी ऊँगली से पकड़ा और शिप्रा दीदी के कान मैं बोला “बोलो दीदी खोल दू क्या आपकी ब्रा का हुक ” शिप्रा दीदी मेरे कान मैं बोली “खोल दे डार्लिंग सब तेरा ही तो है बस ये ध्यान रखना की किसी और को मेरा माल ना दिख जाये ” मैं उनकी ये बात सुन के और उत्तेजित हो गया और मैंने शिप्रा दीदी की ब्रा का हुक खोल दियां और उनके कान मैं कहा “दीदी खोल दिया और आप चिंता मत करो किसी को कुछ नहीं देखने दूंगा मैं “
मैंने शिप्रा दीदी की ब्रा का हुक खोल दिया उनकी ब्रा का हुक लटक गया और अब मेरा हाथ शिप्रा दीदी नंगी पीठ पे था उनकी कोमल चिकनी नंगी पीठ पे मैं अपना हाथ फेर रहा था उनकी पीठ पे हाथ फेरते फेरते मैंने अपना हाथ आगे की तरफ उनके बोबे की तरफ किया लेकिन शिप्रा दीदी ने मेरे कान मैं कहा “नहीं सोनू प्रीती को दिख जाएगा पीछे से हाथ मत डाल आगे से डाल टॉप के नीचे से “मैंने अपना हाथ उनके पीछे से निकाला और उनके टॉप के नीचे से अपना हाथ अंदर डाल दिया शिप्रा दीदी की ब्रा का हुक तो मैंने खोल दिया था मैंने उनकी ब्रा के दोनों कप को ऊपर किया और मेरे हाथ मैं शिप्रा दीदी के मोटे मोटे और मुलायम मुलायम बोबे आ गए उनके निप्पल बहुत टाइट खड़े हुए थे
मैंने उनके बोबे दबाते हुए और उनके निप्पल सहलाते हुए उनके कान में कहा “अच्छा दीदी दबवाने की इतनी जल्दी हो रही क्या की बता भी रही हो की कहा से केसे हाथ डालू “तो शिप्रा दीदी बोली “हाँ यार अब तू भी तो कबसे मेरे बदन से खेल रहा है मुझे भी तो इच्छा होगी ना ” तो मैंने कहा “अच्छा दीदी कितनी इच्छा हो रही है आपकी “तो शिप्रा दीदी बोली “मेरी पेंटी देख ले पता पड़ जाएगा तुझे ” मैंने कहा “दिखाओ ना दीदी आपकी पेंटी ” तो शिप्रा दीदी बोली “यार वो तो यहाँ नहीं देख सकता “
और शिप्रा दीदी जल्दी जल्दी अपने हाथ से मेरा लंड ऊपर नीचे करने लगी मुझे और मजा आने लगा मेरा हाथ उनके टॉप के अंदर उनके बोबो पे था मैं उनके बोबे दबा रहा था और उनके बोबे दबाते दबाते मैंने धीरे से अपने होंठ उनके गले के साइड पे रख दिए और एक स्मूच किया शिप्रा दीदी बोली ” यार मैं वेसे ही गरम हूँ तू और क्यों कर रहा है मैं अपना कंट्रोल खो दूंगी सोनू मत कर यार ” उनकी ये बात सुनके मैं उनके गले पे और ज्यादा अपने होंठ फेरने लगा और तभी हॉल में वापस लाइट चली गयी मूवी बंद हो गयी सब चिल्लाने लग गए हॉल में पूरा अँधेरा हो गया और तभी शिप्रा दीदी मेरी तरफ घूमी उन्होंने मेरे बाल पकडे और मेरे होंठ चुसना शुरू कर दिया मैंने भी उनके होंठ चूसने शुरू कर दिया हम दोनों हॉल मैं पागलों की तरह एक दूसरे के होंठ चूस रहे थे फिर मैंने अपनी जीभ शिप्रा दीदी के मुह में डाल दी
शिप्रा दीदी भी मेरी जीभ चूसने लगी और मैं उनकी जीभ चूसने लगा फिर हम दोनों वापस एक दूसरे के होंठो को चूसने लगे फिर मैंने अपने होंठ उनसे छुडाये और उनके गले पे किस करते हुए स्मूच करते हुए नीचे जाने लगा मैंने उनकी पूरी गर्दन पे अपने होंठ फेरे फिर मैंने जल्दी से उनका टॉप ऊपर किया उनकी ब्रा नीचे की और उनके एक बोबे को अपने मुह में ले लिया और उसे चूसने लगा और उनके दुसरे बोबे को अपने हाथ से दबाने लगा शिप्रा दीदी मेरे बालो में अपनी उँगलियाँ घुमाने लगी मैंने उनके खड़े हुए निप्पल को चूसा और अपनी जीभ उनके निप्पल पे घूमाने लगा शिप्रा दीदी को भी मजा आने लगा था फिर मैंने उनके दूसरे बोबे को भी अपने मुह में लिया और उसे चूसने लगा फिर मैं वापस अपना मुह ऊपर किया और शिप्रा दीदी को किस करने लगा शिप्रा दीदी का टॉप ऊपर ही था तो उन्हें किस करते हुए मैं उनके नंगे बोबे भी दबाने लगा
उनके बोबे दबाते दबाते मैं अपना हाथ नीचे लेके जाने लगा और शिप्रा दीदी की जींस का बेल्ट खोलने लगा शिप्रा दीदी ने अपने होंठ छुडाये और अपने हाथ से मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा “नहीं “मैंने उनका हाथ हटाया और उनका बेल्ट खोलने लगा शिप्रा दीदी ने फिर मेरा हाथ पकड़ा और कहा “नहीं सोनू क्या कर रहा है पागल है क्या ” मैंने कहा “दीदी हाथ हटाओ अपना मुझे आपकी जींस उतारनी है ” शिप्रा दीदी बोली “यार यहाँ पे सबके सामने नंगी करेगा क्या ” मैंने कहा “दीदी हाथ हटाओ बस आपकी जींस आपके घुटनों तक ही उतार रहा हूँ किसी को पता नहीं चलेगा ” शिप्रा दीदी ने अपना हाथ हटा लिया और मुझे किस करने लगी मैं भी उन्हें किस करने लगा
और किस करते करते मैंने उनकी जींस का बेल्ट खोल दिया और उनकी जींस का बटन भी खोल दिया शिप्रा दीदी ने मेरे होंठ छोड़े और मुझसे कहा “सोनू आराम से सोच बहुत बड़ा रिस्क है तू मेरी जींस उतार रहा है यहाँ हॉल में कुछ सोच तो सही प्रीती पास में ही है और किसी को कुछ दिख गया तो समझ यार बहुत बड़ी प्रॉब्लम हो जाएगी जल्दी जल्दी में मैं जींस को ऊपर भी नहीं कर पाऊँगी कितनी प्रॉब्लम होती है जींस पहनने में मत कर यार तू बटन खोल के अंदर हाथ डाल ले ना मैं चेन भी खोल देती हूँ तेरा हाथ आसानी से अंदर चला जाएगा लेकिन पूरी जींस मत उतार ” मुझे शिप्रा दीदी की बात सही लगी मैंने उनसे कहा “ठीक है दीदी आप अपनी जींस का बेल्ट और बटन खुला ही रखना और चैन भी खोल दो और ऊपर पर्स रख लो ” शिप्रा दीदी ने वेसे ही किया और फिर मैंने उन्हें वापस किस करना स्टार्ट किया और उन्हें किस करते मैंने अपना हाथ उनकी जींस के अंदर डाल दिया और उनकी पेंटी पे से उनकी चूत को सहलाने लगा मेरा हाथ शिप्रा दीदी की चूत पे लगते ही शिप्रा दीदी को करंट सा लगा और वो अपने दोनों हाथ मेरे बालो में घुमाने लगी और मेरे होंठ चूसने लगी
मैं अपने हाथ से शिप्रा दीदी कि पेंटी पे से उनकी चूत सहला रहा था उनकी पेंटी बहुत ही गीली थी जिस से मुझे पता चल चुका था की शिप्रा दीदी कितनी उत्तेजित थी मैं अपना पूरा हाथ उनकी चूत पे घुमाने लगा मैं बस एक ही हाथ शिप्रा दीदी की जींस में डाल सकता था इस वजह से उनकी चूत पे हाथ फेरने में काफी दिक्कत आ रही थी फिर भी मैं अपनी उंगलियाँ उनकी चूत पे घुमाने लगा फिर मैंने अपना हाथ शिप्रा दीदी की पेंटी में डाल दिया अब मेरी उँगलियाँ शिप्रा दीदी की नंगी चूत पे थी शिप्रा दीदी की चूत पे थोड़े थोड़े से बाल आ गये थे शिप्रा दीदी बैठी हुई थी और ना मैं उनकी जींस उतार सकता था ना पेंटी इसी लिए मैं उनकी चूत पे ढंग से अपना हाथ नहीं फेर पा रहा था शिप्रा दीदी की चूत के होल तक तो मेरा हाथ पहुँच ही नहीं रहा था
मैंने उनकी चूत पे हाथ फेरते हुए उनके कान मैं कहा “दीदी टांगें चौड़ी करो ना ” शिप्रा दीदी ने अपनी टांगें चौड़ी कर दी अब उनकी पूरी चूत पे मेरा हाथ जाने लगा मैंने अपने हाथ से शिप्रा दीदी का हाथ पकड़ा और अपने लंड पे लगा दिया शिप्रा दीदी मेरा अपने हाथ से लंड सहलाने लगी और मैं उनकी चूत सहलाने लगा तभी हॉल में एक अनाउंसमेंट हुई ” प्लीज आप लोग शांति बनाये रखे लाइट अभी नहीं आई है बेक उप पॉवर से हमने एसी तो ओन कर दिया है लेकिन मूवी और हॉल लाइट्स स्टार्ट नहीं हो पाएंगी आप प्लीज 15 मिन वेट करिए और प्लीज हॉल में शांति बनाये रखे “
ये सुन कर शिप्रा दीदी ने सिसकियाँ लेते हुए कहा की ” सोनू 15 मिनट है अपने पास ” मैंने कहा ” हाँ दीदी ” और मैं उन्हें किस करने लगा और उनकी पेंटी में हाथ डाल के उनकी चूत को अपनी उँगलियों से सहलाने लगा फिर मैंने उनकी चूत की दोनों स्किन को हटाके अपनी ऊँगली अंदर डाल के जल्दी जल्दी उनकी क्लिट को हिलाने लगा सहलाने लगा
शिप्रा दीदी को बहुत मजा आ रहा था वो धीरे धीरे सिसकियाँ ले रही थी लेकिन हॉल में लोगो की बातों की वजह से किसी को कुछ सुनाई नहीं दे रहा था शिप्रा दीदी ने अपने दोनों हाथ ऊपर करके अपनी सीट सीट पकड़ रखी थी और सिसकियाँ ले रही थी फिर मैंने अपनी एक उंगली उनकी चूत के होल के पास रखी और उनकी चूत के होल को सहलाने लगा शिप्रा दीदी को और मजा आने लगा फिर मैंने सोचा की शिप्रा दीदी को जल्दी ही नार्मल करना होगा इसीलिए मैं अपनी सीट के सामने झुक और अपने घुटनों के बल नीचे बैठ गया फिर मैंने उनकी जींस और पेंटी थोड़ी सी नीचे की और उनकी चूत पे अपनी जीभ रख दी और उनकी चूत चाटने लगा मेरी जीभ शिप्रा दीदी की चूत पे लगते ही उनकी सिसकियाँ बढने लगी मैं जल्दी जल्दी अपनी जीभ को उनकी पूरी चूत मैं घुमाने लगा और अपनी जीभ के टिप से उनका क्लिट सहलाने लगा
शिप्रा दीदी ने अब अपने दोनों हाथों से मेरे बालो को पकड़ लिया और मेरे सर को अपनी चूत पे धक्का देने लगी मैं समझ गया की शिप्रा दीदी झरने वाली है मैं और जल्दी जल्दी अपनी जीभ उनकी पूरी चूत में घुमाने लगा और अपने हाथ से उनके बोबे दबाने लगा तभी शिप्रा दीदी की चूत से बहुत सारा पानी निकल गया जिसे मैं पूरा चाट गया शिप्रा दीदी थोड़ी देर तक ऐसे ही आधी नंगी बैठी रही फिर उन्होंने मुझे ऊपर खींचा और एक किस किया फिर अपनी पेंटी ऊपर की जींस ऊपर की बेल्ट लगाया और टॉप नीचे करने ही वाली थी की मैंने उनका हाथ पकड़ लिया वो समझ गयी और बोली ” चल अब अपनी जींस उतार “
ये कह के उन्होंने मेरी जींस के बटन खोले और उसे नीचे करके मेरा खड़ा लंड बाहर निकाल दिया और उसे अपने हाथ से ऊपर नीचे करने लगी मैं भी उनके बोबे दबाने लगा फिर शिप्रा दीदी भी अपनी सीट से नीचे अपने घुटनों के बल बैठ गयी और उन्होंने मेरा लंड अपने मुह में ले लिया क्योंकि हॉल में पूरा अँधेरा तो प्रीती दीदी को कुछ नहीं दिखता शिप्रा दीदी नीचे बैठ के मेरा लंड चूसने लगी और मैं कभी उनके बालो में अपने हाथ फेरता तो कभी उनके नंगे बोबो को अपने दोनों हाथो से पकड़ के मसल देता शिप्रा दीदी मेरे पूरे लंड को अपने मुह के अंदर बाहर करने लगी मुझे बहुत मजा आने लगा फिर उन्होंने मेरे लंड के टोपे पे अपनी जीभ गोल गोल घुमाई एसा उन्होंने थोड़ी देर तक किया और फिर वापस मेरा लंड अपने मुह के अंदर लेके उसे चूसने लगी
मैं भी उनके बोबे दबाने लगा और फिर शिप्रा दीदी मेरे लंड के टोपे को चूसने लगी उसे चाटने उसे अपने होंठो से जल्दी जल्दी अंदर बाहर करने लगी वो जल्दी जल्दी मेरे पूरे लंड को चूसने लगी और थोड़ी ही देर में मेरा मुट निकल गया जिसे शिप्रा दीदी ने पूरा अपने मुह में ले लिया फिर उन्होंने मेरा लैंड अपने मुह से निकाला और नीचे बैठे बैठे ही अपनी ब्रा नीचे की उसका हुक बंद किया टॉप नीचे किया फिर धीरे से सीट पे आ गयी हम दोनों ने फिर एक किस किया और थोड़ी ही देर में मूवी स्टार्ट हो गयी आज हम दोनों को बहुत मजा आया था मूवी खत्म करके हम लोग शाम को घर पहुंचे प्रीती दीदी जाके बिस्तर पे लेट गयी और मैं और शिप्रा दीदी एक दुसरे की आँखों में देख के मुस्कुरा रहे थे ………

आगे की कहानी जरी रहेगी>>>>

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें