Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / गांड में चुदाई / मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – २४

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – २४

आगे की कहानी >>>
प्रीती दीदी ने कहा ” ठीक है दीदी ” और वो तैयार होने चली गई थोड़ी देर में प्रीती दीदी स्कूटी लेके अपनी फ्रेंड के चली गयी मम्मी किचन में पापा ऑफिस जाने की तैयारी करने लगे और शिप्रा दीदी हमारे रूम में जाके अपना सामान ज़माने लगी शिप्रा दीदी ने आज ब्लू कलर का स्लीव लेस टॉप और ब्लैक केप्री पेहेन रखी थी वो स्लीव लेस टॉप में बड़ी सेक्सी लग रही थी उनके गोरे चिकने हाथ चमक रहे थे और उनके बोबे उस चिपके हुए स्लीव लेस टॉप में से बाहर आ रहे थे मैं भी उनके पास बैठ गया और उनके बेग में से उनकी एक ब्रा निकाल के उसके कप पे हाथ फेरने लगा वो मुझे देख के मुस्कुराने लगी और बोली “क्या हुआ मूड हो रहा है क्या मेरी ब्रा चाहिए क्या , ले ले और चला जा बाथरूम में ” और हसने लगी फिर जैसे ही वो कपडे ज़माने के लिए झुकी मैंने उनके टॉप के गले में से उनकी वाइट ब्रा की स्ट्रेप पकड़ ली और कहा ” ये वाली चाहिए मुझे तो अपना मूड बनाने के लिए और उनकी ब्रा की स्ट्रेप खींचने लगा ” वो मेरा हाथ पकड़ते हुए बोली “ओये जंगली छोड़ टूट जाएगी ” लेकिन मैंने नहीं छोड़ा और मैंने उनकी ब्रा की स्ट्रेप उनके टॉप सहीत ही उनके कंधे के थोडा नीचे कर दी शिप्रा दीदी के आधा कन्धा नंगा हो गया था मैंने उनके चिकने नंगे कंधे पर किस किया और उसपे स्मूच करने लगा वो बोली “ओए मरवाएगा क्या कोई देख लेगा छोड़ और उन्होंने मुझे धक्का दिया “
मैं उनसे अलग हुआ और हँसते हुए बोला “बन गया मूड ” वो बोली “जंगली है तू तो पूरा का पूरा देखता भी नहीं है कहा पे है क्या कंडीशन है ” तो मैंने कहा “शिप्रा दीदी मूड हो रहा है चले क्या बाथरूम में प्रीती दीदी भी नहीं है ” तो उन्होंने कहा “पागल है क्या मौसी तो है ना याद नहीं क्या उस दिन क्या बाल बाल बचे थे ” तभी शिप्रा दीदी का फोन बजा उन्होंने उठाया बात की तो उनकी मम्मी का फोन था शिप्रा दीदी फोन पे बात करने लगी और मैं उनके गाल पे हाथ फेरने लगा फिर उनके गाल पे हाथ फेरते फेरते मैं अपना हाथ नीचे लेके गया और उनकी गर्दन पे लेके गया ओर वहां फेरने लगा फिर मैं अपना नीचे ले गया और उनके टॉप से उनके दोनों बोबे दबाने लगा थोड़ी देर उनके बोबे दबाने के बाद मैं उठा और अपने रूम के बाहर झाँक के देखा तो पापा नहाने गए हुए थे और मम्मी बाहर सब्जी वाले से सब्जी ले रही थी
मैं फटाफट अंदर आया और शिप्रा दीदी पीछे बैठ गया और पीछे से सामने की तरफ हाथ डाल के उनके बोबे दबाने लगा उन्हें सहलाने लगा फिर मैंने उनके टॉप के गले में से अपना हाथ अंदर डाल दिया और उनकी वाइट ब्रा के ऊपर से उनके दोनों बोबे सहलाने लगा उन्हें दबाने लगा फिर मैं खड़ा हुए और मैंने वापस चेक किया मम्मी अभी भी बाहर ही थी मैं जल्दी से वापस अंदर आया और शिप्रा दीदी के सामने बैठ गया और उनके टॉप नीचे से पकड़ा और उसे ऊपर करने लगा उन्होंने फोन पे बात करते करते मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझसे इशारे में पूछा मैंने धीरे से कहा “सब बाहर है हाथ छोड़ो ” उन्होंने मेरा हाथ छोड़ दिया और मैंने उनका टॉप ऊपर कर दिया और उनकी ब्रा पे से उनके बोबे दबाने लगा फिर मैं झुका और उनकी ब्रा पे से उनके बोबो पे किस किया फिर मैंने उनकी ब्रा के दोनों कप ऊपर कर दिए और शिप्रा दीदी के नंगे बोबे दबाने लगा शिप्रा दीदी के निप्पल टाइट खड़े हुए थे मैं उनके बोबे चूसने लगा मैंने थोड़ी देर तक उनके दोनों नंगे बोबे चूसे
फिर मैं खड़ा हुआ और वापस चेक करके आया मम्मी अभी भी बाहर ही थी मैं जल्दी से वापस अंदर आया और शिप्रा दीदी के सामने जाके खड़ा हो गया और अपना लोअर और अंडरवियर नीचे कर दिया मेरा खड़ा लंड शिप्रा दीदी के सामने था वो मेरी इस हरकत से सकपका गयी और मुझसे इशारे में पूछा क्या कर रहा है मैंने धीरे से कहा सब बाहर है चूसो ना उन्होंने वापस इशारे में कहा फोन पे हूँ मैं अपना लंड उनके मुह के पास ले गया और उनके होंठो पे टच कर दिया शिप्रा दीदी ने फोन दूसरे हाथ में लिया और अपने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर अपने मुह में लिया और चूसने लगी और फोन पे ‘ ह्म्म्म ह्म्म्म्म ” करने लगी मुझे बहुत मजा आ रहा था जब शिप्रा दीदी फोन पे बात सुनती तब मेरा लंड अपने मुह में लेके चूसती और फोन पे ह्म्म्म ह्म्म्म्म करती और जब उन्हें जवाब देना होता तब वो मेरा लंड अपने मुह से बाहर निकालती और उसे अपने हाथ से ऊपर नीचे करती रहती और जवाब देती मुझे बहुत मजा आ रहा था शिप्रा दीदी ऐसा करते जा रही थी और मैं उनके दोनों नंगे बोबे अपने हाथों से दबा रहा था थोड़ी देर तक हम यही करते रहे
तभी गेट खुलने की आवाज आई मैंने जल्दी से अपना अंडरवियर और लोअर ऊपर किया शिप्रा दीदी ने भी फोन अपने कंधे से अपने कान के नीचे दबाया और जल्दी से अपने दोनों हाथों से अपनी ब्रा ठीक की और अपना टॉप नीचे किया मैंने बाहर जाके देखा तो पापा नहा के निकल गए थे फिर मम्मी अंदर आई और पूछा “शिप्रा कहाँ है “मैंने कहा ” वो किसी से फोन पे बात कर रही है ” तभी शिप्रा दीदी आई मम्मी ने पूछा “किसका फोन था शिप्रा ” तो उन्होंने कहा “वो मम्मी का फोन था उन्होंने मार्किट से कुछ सामान मंगाया है ” ये सुन के मम्मी बोली “अरे लेकिन स्कूटी तो प्रीती लेके गयी है अब ” शिप्रा दीदी ने कहा “मौसी प्रीती कब तक आएगी ” मम्मी बोली ” उसे तो टाइम लगेगा एक काम कर तू साथ में सोनू को लेजा और तुम लोग बस से चले जाओ मार्किट ” शिप्रा दीदी बोली “ठीक है मौसी हम बस से हो आते है मार्किट “……….
तो शिप्रा दीदी के कहने पर मम्मी ने कहा की ” चलो फिर तुम लोग तैयार हो जाओ और निकल जाओ मार्केट के लिए ताकि टाइम से ही आजाओ ” शिप्रा दीदी ने कहा ” ठीक है मौसी मैं तैयार हो जाती हूँ सोनू तू भी तैयार हो जा ” मैंने कहा “हाँ दीदी ” हम तैयार होने लग गए थोड़ी देर बाद मैं तैयार होके शिप्रा दीदी का वेट करने लगा थोड़ी देर बाद शिप्रा दीदी बाहर आई वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी उन्होंने आज सलवार सूट पेहेन रखा था उस सूट मैं वो बहुत ही हॉट और सेक्सी लग रही थी उन्होंने डार्क ग्रीन कलर का कुरता पेहेन रखा था जो उनके बदन से पूरी तरह से चिपका हुआ था नीचे उन्होंने डार्क मेहरून कलर की चूड़ीदार सलवार पेहेन रखी थी
शिप्रा दीदी की सलवार का कपडा काफी पतला था उनकी सलवार उनकी टांगों से चिपकी हुई थी कुर्ते के ऊपर उन्होंने मेहरून कलर की चुन्नी डाल रखी और सामने से अपने कुर्ते के गले और बोबो को अच्छी तरह से ढक रखा था उनकी चुन्नी में से निकलते उनके चिकने गोरे चमकते हुए हाथ एक हाथ में ब्रेसलेट एक हाथ में वाच उनके काले घने बाल जिन्हें उन्होंने क्लचेर से बाँध रखा था उनके बालों में से निकली दो लटे उनके फेस पे आ रही थी उनकी काली बड़ी आँखें होंठो पे लिप ग्लॉस गले में एक पतली सी चेन उनके परफ्यूम और उनके बदन की कामुख खुशबु बहुत ही कातिल थी मैं तो बस उन्हें देखता ही रहा थोड़ी देर तक वो मुझे देख के मुस्कुराने लगी और बोली “कौन सी दुनिया में है तू”
मैंने कहा “यार शिप्रा दीदी आज आप बहुत ज्यादा सेक्सी लग रही हो इस सूट में ” वो मुस्कुराने लगी फिर मैंने कहा “शिप्रा दीदी अंदर क्या पेहेन रखा है “तो उन्होंने कहा “चुप कर शैतान इंसान ” मैंने कहा “दीदी बताओ ना प्लीज इस प्यारे सूट के नीचे क्या पेहेन रखा है आपने “
उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा”वही पेहेन रखा है जो सब पहनते है ब्रा और पेंटी”
मैंने कहा “कौन सी वाली ” वो बोली “हाँ सारी डिटेल चाहिए तुझे तो ” मैंने कहा “बताओ ना प्लीज ” उन्होंने कहा “ब्लैक कलर की ब्रा है नेट वाली और पिंक और ग्रे पेंटी ” मैंने कहा “दीदी नेट वाली ब्रा कैसे पेहेन ली आज वो तो रात को पहनती ना मेरे सामने ” वो बोली “चुप कर हमेशा यही सूझता है तुझे तो अरे यार वो इस कुर्ते का कपडा थोडा पतला है ना तो नार्मल ब्रा की स्ट्रेप्स दिखती है और सामने से ब्रा का शेप भी दिखता है तो इसलिए नेट वाली ब्रा पहनी आज वो चिपकी हुई रहती है तो दिखती नहीं है ” मैं उनकी ये सब बातें सुनता रहा और थोड़ी देर तक हम दोनों एक दूसरे की आँखों में देखते रहे तभी गेट पे कोई आया मम्मी उसे देखने बाहर गयी और मैंने शिप्रा दीदी का हाथ पकड़ा और जल्दी से उन्हें अपने रूम में ले गया फिर उन्हें खींच कर मैं जल्दी से उन्हें अपने रूम में लेकर आया और रूम का गेट बंद किया और उन्हें गेट से सटा के उन्हें किस करने लगा वो छट पटाने और अपने हाथों से मुझे अलग करने लगी मैंने उनके दोनों हाथ ऊपर कर दिए और उनके दोनों हाथ अपने हाथों से पकड़ लिए मैं उन्हें लगातार किस कर रहा था मैं बहुत ज्यादा एक्ससाईटेड हो गया था मैं उन्हें किस करता रहा
थोड़ी देर बाद शिप्रा दीदी ने छट पटाना बंद कर दिया मैंने उनके हाथ छोड़ दिए अब वो भी मुझे किस करने लगी उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरे सर पे रखे और मेरे होंठ चूसने लगी मैं भी उनके नरम और मुलायम होंठ चूसने लगा उन्हें किस करते हुए मैं चुन्नी पे से उनके बोबे दबाने लगा फिर मैंने उनकी चुन्नी नीचे हटानी चाही लेकिन वो हटी नहीं शिप्रा दीदी ने मेरे होंठ छोड़े और बोली “रुक चुन्नी कुर्ते से पिन अप सेफ्टी पिन हटाने दे ” वो सेफ्टी पिन हटाने लगी और मैं उनकी गर्दन पे स्मूच करने लगा फिर उन्होंने सेफ्टी पिन हटा दी और उनकी चुन्नी नीचे गिर गयी मैं उन्हें वापस किस करने लगा वो भी मुझे किस करने लगी मैं उन्हें किस करते हुए उनके ग्रीन कुर्ते पे से उनके बोबे दबाने लगा उन्हें सहलाने लगा
फिर मैंने शिप्रा दीदी का हाथ पकड़ के अपनी जींस पे से अपने लंड पे रख दिया वो आँखें बंद करके मेरे होंठ चूस रही थी और जींस पे से अपने हाथ से मेरा लंड सहला रही थी फिर मैंने शिप्रा दीदी की कमर पे हाथ फेरने लगा फिर मैंने ऊनके कुर्ते को पीछे से ऊपर किया और अंदर हाथ डाल दिया और उनकी पतली सलवार पे से उनकी गांड को सहलाने लगा शिप्रा दीदी ने मेरे होंठ छोड़े और आँखें बंद करके सिसकियाँ भरने लगी फिर मैं शिप्रा दीदी के गले पे स्मूच करने लगा और उनके कुर्ते पे से उनके बोबो पे किस करने लगा अपने होंठो से स्मूच करने लगा फिर मैं वापस ऊपर गया और शिप्रा दीदी को किस करने लगा उन्हें किस करते हुए मैं उनकी पतली सलवार पे से उनकी चूत पे हाथ फेर रहा था उसे सहला रहा था शिप्रा दीदी जिस तरह से मेरे होंठ चूस रही थी मुझे पता चल रहा था की उनको बहुत मजा आ रहा था फिर मुझे किस करते करते उन्होंने मेरी जींस का बेल्ट खोल दिया और जींस का बटन भी खोल दिया मेरी जींस नीचे गिर गयी
अब शिप्रा दीदी मेरे अंडरवियर पे से मेरे लंड को अपने हाथ से सहला रही थी मैं भी उनकी सलवार पे से उनकी चूत को सहला रहा था फिर मैंने अपने होंठो से उनके कुर्ते पे से उनके बोबो पे स्मूच करने लगा फिर मैंने उनका कुर्ता उतारना चाहा लेकिन उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा “नहीं सोनू कुर्ता फिटिंग का है उतारना पॉसिबल नहीं होगा अगर अचानक मौसी आ गयी तो प्रॉब्लम हो जाएगी तू वेसे ही कर ले या कुर्ते के नीचे से हाथ डाल ले ” मैंने कहा ” ठीक है दीदी ” और फिर मैंने नीचे से उनके कुर्ते के अंदर हाथ डाला और उनकी नेट वाली ब्रा पे से उनके बोबे दबाने लगा शिप्रा दीदी सिसकियाँ ले रही थी फिर मैंने उनके कुर्ते को ऊपर किया उनकी नेट वाली ब्रा पे से उनके बोबो पे किस किया स्मूच किया फिर उनकी ब्रा भी ऊपर कर दी शिप्रा दीदी के दोनों निप्पल खड़े हुए थे मैंने उनके 1 बोबे अपने मुह में लिया और चुसना चालू किया शिप्रा दीदी के मुह से सिसकियाँ निकलने लगी मैं उनके बोबे चूस रहा था और वो मेरे बालो में हाथ फेर रही थी थोड़ी देर उनके बोबे चूसने के बाद मैं वापस ऊपर गया और उन्हें किस करने लगा उन्हें किस करते हुए मैं उनकी सलवार का नाडा खोलने लगा और शिप्रा दीदी ने मेरी अंडरवियर भी नीचे कर दी और मेरे नंगे लंड को अपने हाथों से सहलाने लगी उसे ऊपर नीचे करने लगी
मैंने भी शिप्रा दीदी की सलवार उतार दी और उनकी पेंटी पे से उनकी चूत को सहलाने लगा उनकी पेंटी उनके डिस्चार्ज से भरी हुई थी और बहुत गीली थी फिर मैंने अपना हाथ शिप्रा दीदी की पेंटी के अंदर डाल दिया और उनकी नंगी चूत को सहलाने शिप्रा दीदी को और मजा आने लगा मुझे भी बहुत मजा आ रहा था हम दोनों एक दूसरे को किस कर रहे थे और वो मेरा लंड सहला रही थी और मैं उनकी चूत सहला रहा था फिर शिप्रा दीदी ने मेरे होंठ छोड़े और घुटनों के बल बैठ गई और मेरे लंड पे बहुत सारी किस की और फिर उसे अपने मुह में ले लिया और मेरा लंड चूसने लगी वो अपने होंठो और जीभ से मेरे लंड को चूसने लगी चाटने लगी मुझे बहुत ही मजा आ रहा था मैं शिप्रा दीदी के बालो में अपने हाथ फेरने लगा उनके बाल अभी भी थोड़े थोड़े गीले थे मैंने उनके बालों में से उनका क्लचेर निकाल दिया और शिप्रा दीदी के बाल खुल गए मैं उनके बालों को अपने हाथों से पकड़ कर ऊपर करने लगा शिप्रा दीदी मस्ती से मेरा लंड चूस रही थी और मेरे लंड के टोपे अपने जीभ से चाटने लगी मुझे बहुत मजा आ रहा था…..

आगे की कहानी जरी रहेगी>>>>

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें