Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / भाई बहन / मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – २५

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – २५

आगे की कहानी >>>
तभी मैंने शिप्रा दीदी को रोका और ऊपर उठाया उन्होंने पूछा “क्या हुआ ” मैंने कहा “दीदी अगर मेरा मुट निकल गया तो आप प्यासी रह जोगी इसलिए पहले मैं आपकी प्यास भुजा दू क्योंकि बहुत रिस्क है” वो मुस्कुराने लगी और मैं उन्हें किस करने लगा फिर मैं घुटनों के बल नीचे बैठा और मैंने अपना मुह उनकी चूत पे रखा उनकी चूत बहुत ही ज्यादा गरम थी फिर मैंने उनकी चूत पे बहुत बार किस किया अपने होंठो से उनकी चूत पे स्मूच किया मैं शिप्रा दीदी चूत पे अपने होंठ फेर रहा था शिप्रा दीदी आँखें बंद करके लम्बी लम्बी सांसें ले रही थी और मेरे बालों में अपना हाथ फेर रही थी फिर मैंने उनकी चूत की दोनों स्किन को अलग किया और उसके अंदर अपनी जीभ डाल दी और अपनी जीभ को गोल घुमाने लगा मैं ऐसे ही थोड़ी देर तक उनकी चूत चाटता रहा मेरे दोनों हाथ शिप्रा दीदी की कमर पे थे तभी शिप्रा दीदी ने मेरा एक हाथ पकड़ा और उसे अपने कुर्ते के अंदर से अपने बोबे पे रख दिया मैं उनके बोबे दबाने लगा फिर मैं अपना दूसरा हाथ भी उनके कुर्ते में ले गया मैं दोनों हाथों से शिप्रा दीदी के बोबे दबा रहा था और अपनी जीभ से उनकी चूत चाट रहा था
फिर मैं अपनी जीभ को उनकी चूत के और अंदर लेके गया और जल्दी जल्दी ऊपर नीचे करने लगा शिप्रा दीदी बहुत ही जोर जोर से सिसकियाँ लेने लगी वो बहुत तेजी से मेरे बालों में अपनी उँगलियाँ घुमाने लगी मैं समझ गया था की वो झरने वाली है इसलिए मैं भी शिप्रा दीदी की चूत में अपनी जीभ जल्दी जल्दी ऊपर नीचे करने लगा और उनकी पूरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा और जल्दी जल्दी उनके बोबे दबाने लगा उन्हें मसलने लगा तभी उन्होंने मेरे बालों को जोर से खींचा और उनकी एक लम्बी सिसकी निकली ” आअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह्ह्ह्ह……………” शिप्रा दीदी की चूत से बहुत सारा पानी निकला जो उनकी झांगों पे से बेहने लगा मैंने अपनी जीभ से उनका सारा पानी चाट के साफ कर दिया और उनकी झांग और चूत भी चाट के साफ़ कर दी उन्होंने मुझे ऊपर किया एक किस किया और बोली “मजा आ गया यार ” और फिर वो घुटनों के बल बैठी और मेरा नंगा खड़ा हुआ लंड अपने मुह में ले लिया और उसे चूसने लगी वो उसे पूरा अपने मुह में लेके चूसने लगी कभी वो अपनी जीभ मेरे पूरे लंड पे फेरती उसे चाटती कभी मेरे लंड के टोपे को जल्दी जल्दी अपने होंठो से अंदर बाहर करती कभी अपने मुह से मेरा लंड निकाल के अपने हाथों से उसे जल्दी जल्दी ऊपर नीचे करती मुझे बहुत मजा आ रहा था
मैं शिप्रा दीदी के गीले बालों में हाथ फेर रहा था अब दीदी मेरे लंड के टोपे को अपने होंठो से चूसने लगी मुझे बहुत मजा आ रहा था मैंने अपना हाथ शिप्रा दीदी के कुर्ते के गले के अंदर डाल दिया और उनके बोबे दबाने शिप्रा दीदी अपने हाथ से मेरा लंड हिलाने लगी फिर शिप्रा दीदी ने वापस पूरा लंड अपने मुह में लिया और जल्दी जल्दी चूसने लगी अब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हो रहा था मैंने अपने दोनों हाथ शिप्रा दीदी के कुर्ते के गले में डाल दिए और उनके दोनों बोबे जोर जोर से दबाने लगा शिप्रा दीदी मेरा लंड लगातार जल्दी जल्दी चूस रही थी और तभी मेरा मुट निकल गया मेरा सारा मुट शिप्रा दीदी के मुह में था और वो अभी भी मेरे लंड को चूस रही थी और मेरी तरफ ऊपर देख रही थी मैंने उनके कुर्ते में से अपने हाथ निकाले और उन्हें ऊपर उठाया फिर हम दोनों ने एक लम्बा किस किया और हम दोनों एक दूसरे की आँखों में देखने लगे शिप्रा दीदी बोली “यार सोनू तू भी ना कभी भी कहीं भी मूड बना लेता अब ले बस मिल गयी शांति तुझे कर दिया मेरा लिप ग्लोस और मेकअप गायब उतार दिया मेरा सूट मेरी ब्रा पेंटी सब कुछ ” मैंने कहा “नहीं दीदी कुर्ता और ब्रा कहाँ उतारी उतारो ना ” शिप्रा दीदी बोली “चुप कर तेरा तो कभी मन ही नहीं भरेगा चल अब तैयार होने दे मुझे ” ये कह के शिप्रा दीदी अपने बाल बाँधने लगी जिस से उनके दोनों बोबे बाहर की तरफ आ गए और मैं उनके बोबे दबाने लगा उन्होंने मेरा हाथ झिड़क दिया मैंने फिर उन्हें पकड़ के दीवार से सटा दिया और उन्हें किस करने लगा और उन्हें किस करते हुए उनकी नंगी चूत को अपने हाथों से सहलाने लगा उन्हें वापस गरम करने के लिए तभी उन्होंने मुझसे अपने होंठ छुडाये और जोर से चिल्लाई ” मौसी…………” मैं एक दम से डर गया और मैंने उन्हें छोड़ दिया वो हँसने लगी और बोली “देखा बहुत आईडिया है मेरे पास ” तभी मम्मी गेट पे आ गयी और गेट खटखटाते हुए बोली “क्या हुआ शिप्रा तूने बुलाया “हम दोनों की हालत ख़राब हो गयी शिप्रा दीदी ने कहा “नहीं मौसी ” तो मम्मी ने कहा “अच्छा गेट खोल मुझे कुछ लेना है अंदर से ” शिप्रा दीदी बोली “वो मौसी मैं चेंज कर रही हूँ ” तो मम्मी बोली “हाँ तो क्या हुआ बस मैं ही हूँ यहाँ पे तू गेट खोल मुझे कुछ लेना है अंदर से” अब हम दोनों की हालत ख़राब हो चुकी थी आज तो लगा की हम फंस गए बुरी तरह से ……
अब हम दोनों की हालत ख़राब हो चुकी थी क्योंकि मम्मी गेट के बाहर ही खड़ी थी हम दोनों ने जल्दी जल्दी अपने कपडे ठीक किये मम्मी ने फिर कहा “अरे खोल ना शिप्रा ” शिप्रा दीदी ने डरते डरते कहा “हाँ मौसी खोल रही हूँ ” और उन्होंने मेरी तरफ देख के आँखों से इशारा करके पूछा की क्या करे अब मेरा भी दिमाग काम नहीं कर रहा था तभी मैंने फटाफट अपना मोबाइल निकाला और घर के लैंडलाइन नंबर पे कॉल कर दिया दूसरे रूम में से फोन की घंटी बजने लगी मम्मी फोन उठाने उस रूम में गयी तो शिप्रा दीदी ने फटाफट गेट खोला इधर उधर देखा और मुझे बाहर निकाल दिया मैं जल्दी से रूम में से निकल के बाहर की तरफ चला गया और शिप्रा दीदी ने वापस गेट बंद कर लिया थोड़ी देर में मम्मी फोन रख के रूम से बाहर आई और शिप्रा दीदी ने मम्मी के सामने गेट खोला गेट खुलते ही मम्मी बोली “क्या शिप्रा बेटा कितनी देर लगा दी ” तो शिप्रा दीदी बोली “अरे मौसी वो चेंज कर रही हाँ क्या हुआ कुछ चाहिए था क्या आपको”
मम्मी बोली “हाँ बेटा वो डायरी लेनी थी और तुम लोग निकले नहीं अभी तक मार्किट के लिए जल्दी निकल जाओ फिर आज तुझे शाम को ट्रेन भी पकड़नी है ” शिप्रा दीदी बोली “हाँ मौसी बस निकल ही रहे है” इतने में मैं बाहर से अंदर आया और बोला “क्या हुआ शिप्रा दीदी अभी तक तैयार नहीं हुए क्या आप चलो ना” उन्होंने कहा “बस हो गयी तैयार” फिर शिप्रा दीदी कांच के सामने बाल बनाने लगी और मैं उन्हें देखने लगा अभी थोड़ी देर पहले वो मेरे साथ में नंगी थी लेकिन अब वापस उनके कोमल बदन को उस ग्रीन और मेहरून सूट में ढका हुआ देख के वो वापस मुझे बहुत सेक्सी लग रही थी शिप्रा दीदी भी अपने बाल बनाते बनाते मुझे देख रही थी और मुस्कुरा रही थी थोड़ी देर में मम्मी डायरी लेके रूम से चली गयी मैं शिप्रा दीदी के पास गया और कहा “यार दीदी बड़ी कातिल और सेक्सी लग रही हो आप ” तो शिप्रा दीदी मुस्कुराते हुए बोली “हाँ हाँ सीधा ही बोल दे ना की कपडे उतार दू वापस ” मैंने कहा “उतार दो ना” तो वो बोली “यार सोनू आज दूसरा इंसिडेंट हुआ है की हम बाल बाल बचे है अब मौसी आस पास हो तो ध्यान रखना तू अगर किसी को थोडा सा भी शक हो गया न तो बहुत बड़ी प्रॉब्लम हो जाएगी ” मैंने कहा “हाँ दीदी अब चलो ना ” तो शिप्रा दीदी बोली रुक और बाथरूम की तरफ जाने लगी मैंने पूछा “क्या हुआ कहाँ जा रही हो ” तो वो बोली “जो तूने किया उसे साफ़ करने पेंटी चेंज करने जा रही हूँ ” मैंने कहा “क्या जरुरत है ऐसे ही चल चलो ना और पेंटी उतार के चल चलो ” तो वो बोली “चुप कर कपडे भी उतार के चलूँ तेरे साथ ” हम दोनों हँसने लगे फिर वो बाथरूम में चली गयी और मैं रूम से बाहर आ गया
मैंने बाहर आकर देखा तो बाहर बहुत काले काले बादल हो रहे थे जिसकी वजह से थोडा थोडा अँधेरा सा हो गया था मैंने सोचा आज तो पक्का बारिश आएगी थोड़ी देर में शिप्रा दीदी तैयार होके और अपना हैण्डबैग लेकर बाहर आई बहुत ही सेक्सी लग रही थी शिप्रा दीदी वो वापस अपना मेकअप करके आई थी ग्रीन मेहरून चूड़ीदार सूट बंधे हुए बाल आँखों में काजल होंठो पे लिप ग्लॉस कानो में इअर रिंग्स गले में चेन बाहर आकर वो बोली “मौसी हम निकल रहे है चल सोनू ” तभी मम्मी आई और बोली “देखा कहा था ना मैंने की टाइम से ही निकल जाओ देखो अब कितने काले बादल हो रहे है अटक मत जाना कहीं बारिश में फटाफट बुक लेके आ जाना और शिप्रा ये छाता रख तेरे हैण्डबैग में ” उन्होंने कहा “हाँ मौसी ” मैंने कहा “दीदी बड़ी सेक्सी लग रही हो आज आप ” वो बोली “चल अब” और हम दोनों बस स्टॉप की तरफ चल पड़े रास्ते में शिप्रा दीदी को सब घूर घूर के देख रहे थे सबकी आँखें उन्ही पर टिकी हुई थी तभी बाइक पे कुछ लड़के उन पर कमेंट मार के गए “ओये होए कंचा कहाँ जा रही है हमारे साथ आजा ” मैंने देखा की शिप्रा दीदी थोडा सा मुस्कुराई उनका कमेंट सुन के थोड़ी देर में हम बस स्टॉप पहुँच गए और बस का वेट करने लगे
थोड़ी देर में बस आ गयी हम बस में चढ़े बस में बादलों के कारण थोडा थोडा अँधेरा था बस में ज्यादा भीड़ तो नहीं थी लेकिन बैठने के लिए कोई सीट नहीं थी मैं शिप्रा दीदी के पीछे था मैंने कहा “दीदी चलो पीछे चल के ही खड़े हो जाते है अगर आगे जाके बस में भीड़ हो भी गयी तो कम से कम पीछे तो धक्का मुक्की नहीं होगी ” उन्होंने कहा “हाँ ” और हम दोनों पीछे जाके खड़े हो गए बस में सब शिप्रा दीदी को ही देख रहे थे सब उनके सूट में से अपनी आँखों से उनके जिस्म को टटोल रहे थे मुझे ये सब देख के बहुत खुशी हो रही थी मैं मन ही मन सोच रहा था की जिसको तुम घूर घूर के देख रहे हो उसे मैं रोज नंगी करके उसके मजे लेता हूँ मैं यही सब सोच रहा था तभी पीछे की और साइड में दो जनों वाली सीट पे से एक लड़का खड़ा हुआ वो हमारी तरफ आने लगा शायद उसका स्टॉप आ गया था शिप्रा दीदी आगे खड़ी थी और मैं उनके पीछे उस लड़के ने शिप्रा दीदी के पास आके कहा “ऐक्सक्यूज मी ” और शिप्रा दीदी थोडा सा घूम गयी ताकि वो लड़का निकल सके मैंने ध्यान से देखा की वो लड़का जब शिप्रा दीदी के पास से निकल रहा था तो वो अपना लंड शिप्रा दीदी की गांड पे से पूरी तरह से अड़ाकर निकला उसने अपना लंड शिप्रा दीदी के कुर्ते पे से उनकी गांड पे अच्छी तरह से फेरा था मुझे ये सब देख के बहुत ही अजीब सा लगा और मजा भी आया मैंने सोचा की शायद शिप्रा दीदी मुझसे कुछ बोलेंगी जो भी हुआ उसके बारे में लेकिन वो तो इस तरह से रियेक्ट कर रही थी जैसे की कुछ हुआ ही ना हो मुझे ये बहुत अजीब लगा
खेर जहाँ से वो लड़का उठा था उस जगह एक सीट अब खाली हो गई थी वहां बस एक बूढी औरत ही बैठी हुई थी मैंने शिप्रा दीदी से कहा “दीदी आप यहाँ बैठ जाओ ” शिप्रा दीदी वहां बैठ गयी और मैं उन्ही की सीट के पास खड़ा हो गया थोड़ी देर बाद शिप्रा दीदी की पीछे वाली सीट पे से एक आदमी खड़ा हुआ उतरने के लिए और मैं जाके उसकी सीट पे बैठ गया अब हम दोनों को सीट मिल चुकी थी बस शिप्रा दीदी मेरी आगे वाली सीट पे बैठी थी और मैं उनकी पीछे वाली सीट पे अगले स्टॉप पे से सात आठ जने बस में चढ़े सीट तो थी नहीं सब खड़े हो गए उनमे से कुछ लोग शिप्रा दीदी को देखने लगे लेकिन शिप्रा दीदी खिड़की से बाहर देख रही थी तभी एक 35-40 साल का आदमी शिप्रा दीदी की सीट के पास आके खड़ा हो गया शिप्रा दीदी सीट के कोने पे बैठी थी वो थोड़ी देर तक दूसरी तरफ मुह करके खड़ा रहा फिर उसने शिप्रा दीदी की तरफ मुह घुमाया और उन्हें देखने लगा शिप्रा का ध्यान उस पर नहीं था वो तो बाहर देख रही थी वो आदमी लगातार नीचे देख रहा था शिप्रा दीदी की तरफ मैंने सोचा की ये ऐसा क्या देख रहा है फिर मैंने नोटिस किया की वो शिप्रा दीदी के कुर्ते के गले के अंदर झाँकने की कोशिश कर रहा था मैंने सोचा क्या दिखेगा तुझे बस में तो अँधेरा है फिर उसने अपना हाथ शिप्रा दीदी की सीट के कोने पे रखा और ऐसे ही खड़ा रहा
फिर उसने अपने हाथ से शिप्रा दीदी के हाथ को टच किया ऐसा उसने दो तीन बार किया फिर उसने अपने हाथ से हलके से शिप्रा दीदी के कंधे को टच किया शिप्रा दीदी की तरफ से कुछ रिएक्शन नहीं आ रहा था फिर उस आदमी ने अपना हाथ शिप्रा दीदी के कंधे पर रख दिया और धीरे धीरे उनका कंधा सहलाने लगा मुझे उसकी हिम्मत देख के बहुत अजीब लग रहा था और ये भी अजीब लग रहा था की शिप्रा दीदी ने उसे एक बार भी टोका क्यों नहीं वो थोड़ी देर तक शिप्रा दीदी का कंधा सहलाता रहा फिर उसने वो किया जो मैंने कभी नहीं सोचा था उसने शिप्रा दीदी के कंधे पे से उनका कुर्ता थोडा सा नीचे कर दिया जिस से शिप्रा दीदी की ब्लैक ब्रा की स्ट्रेप बाहर आ गयी अब वो शिप्रा दीदी की ब्रा की स्ट्रेप के ऊपर से उनके कंधे को सहलाने लगा मुझे ये सब देख के बहुत ही अजीब फील हो रहा था लेकिन मजा भी आ रहा था मेरा लंड धीरे धीरे खड़ा होने लगा था तभी शिप्रा दीदी के पास वाली बूढी औरत खड़ी हुई शायद उनका स्टॉप आ गया था शिप्रा दीदी अब अंदर खिड़की के पास खिसक गयी और वो आदमी शिप्रा दीदी के पास बैठ गया
अब मुझे सब कुछ देखना था की वो आदमी क्या कर रहा है लेकिन मुझे कुछ दिखाई नहीं दे रहा था तभी उस ही स्टॉप से एक बूढा आदमी भी बस में चढ़ा मेरे दिमाग में एक आईडिया आया मैंने अपनी सीट उस बूढ़े आदमी को दे दी और खुद जाके शिप्रा दीदी की सीट के पास खड़ा हो गया बस में मेरे आलावा कोई भी खड़ा हुआ नहीं था शिप्रा दीदी की सीट के साथ वाली सीट वालों को कुछ दिखाई नहीं दे रहा था क्योंकी बीच में मैं खड़ा था मुझे पास में खड़ा देख के वो आदमी मुझे देखने लगा लेकिन मैंने ध्यान नहीं दिया मैंने ऐसा जताया की मेरा ध्यान मोबाइल में गाने सुनने में है और मैं दूसरी तरफ देखने लगा शिप्रा दीदी को भी नहीं पता था की उनकी सीट के पास मैं खड़ा हुआ हूँ क्योंकि वो तो लगातार बाहर देख रही थी वो आदमी थोड़ी देर तक ऐसे ही बैठा रहा फिर धीरे धीरे वो बस के हिलने का बहाना लेके अपना घुटना शिप्रा दीदी के घुटने से टच करने लगा फिर उसने अपना हाथ अपने घुटने पे रखा और बार बार अपना घुटना शिप्रा दीदी के घुटने से टच करने लगा फिर उसने अपना हाथ शिप्रा दीदी की पतली सलवार पे से उनके घुटने पे रख दिया और शिप्रा दीदी का घुटना सहलाने लगा वो थोड़ी देर तक शिप्रा दीदी का घुटना सहलाता रहा फिर उसने अपना हाथ उनके घुटने के ऊपर किया और उनकी झांग को सहलाने लगा वो शिप्रा दीदी की पतली सलवार पे से उनकी झांग को सहला रहा था…..

आगे की कहानी जरी रहेगी>>>>

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें