मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ३०

आगे की कहानी >>>
अब मैं अपने पैर से शिप्रा दीदी की दोनों झांघो को सहलाना लगा शिप्रा दीदी का बरमूडा उनकी झांघो तक था मैं अपना पैर शिप्रा दीदी की नंगी झांघों पर फेरने लगा जैसे जैसे मेरा पैर ऊपर जा रहा था शिप्रा दीदी भी अपने आप अपनी टांगें चौड़ी करती जा रही थी मेरा पैर शिप्रा दीदी की दोनों झांघों बीच में था और मैं उनकी झांगों के अंदर की तरफ अपने पैरो की उंगलियों को फेरने लगे फिर मैंने अपने पैर के अंघूटे को उनकी चूत पे फेरा शिप्रा दीदी को बहुत मजा आ रहा था उनके चेहरे से पता चल रहा था मैं अपने अंघूटे को शिप्रा दीदी के बर्मूड पे से उनकी चूत पे फेर रहा था फिर अपने अंघूटे से उनकी चूत पे धक्का देने लगा उनकी चूत के गीलेपन को मैं अपने अंघूटे से महसूस कर सकता था फिर मैंने अपने अंघूटे को उनकी चूत के होल पे बहुत अच्छी तरह से फेरा उसपे धक्का दिया उसे गोल गोल घुमाया अपना पूरा अंघूटा उनकी चूत के होल पर ऊपर नीचे फेरा उन्हें बहुत मजा आ रहा था
तभी एक दम से मम्मी रूम से बाहर आई और बोली शिप्रा बारिश के कारण तेरी ट्रेन तो बहुत लेट है सुबह 10 बजे आएगी यहाँ पे अच्छा ही है सुबह तक मौसम भी खुल जाएगा ” शिप्रा दीदी बोली “ठीक है मौसी ” ये कह के मम्मी अंदर चली गई जब मम्मी और शिप्रा दीदी बात कर रहे थे
तब भी मैं अपने पैर से शिप्रा दीदी की चूत सहला रहा था थोड़ी देर बाद प्रीती दीदी उठी तो मैंने जल्दी से अपना पैर नीचे किया अब शिप्रा दीदी सुबह जाने वाली थी
प्रीती दीदी के जाते ही मैंने शिप्रा दीदी से पूछा “मजा आया दीदी ” शिप्रा दीदी बोली ” हाँ ” मैंने कहा “देखूं तो अंदर हाथ डाल के ” उन्होंने कहा “मरवाएगा क्या बैठा रह वहीँ पर ” फिर प्रीती दीदी आई टेबल साफ़ की और हाथ धोने बाथरूम में गई मैंने उन्हें जाते हुए देखा और जल्दी से अपनी जगह से उठा और शिप्रा दीदी के पास गया और उनकी कुर्सी के पीछे खड़ा हुआ और उनके क्रीम टॉप पे से उनके बोबे दबाने लगा फिर मैंने उनके टॉप के गले में से अपना हाथ अंदर डाल दिया और उनके बोबे दबाने लगा शिप्रा दीदी मुझे मना नहीं कर रही थी बस बोल रही थी की कोई आ जाएगा लेकिन मैं उनकी कहाँ सुन रहा था मेरे तो दोनों हाथ शिप्रा दीदी के टॉप के अंदर थे मैं उनके दोनों बोबे मसल रहा था फिर मैंने अपने हाथ शिप्रा दीदी के टॉप में से बाहर निकाले
और उनकी कुर्सी घुमाई और अपना लोअर नीचे कर दिया मेरा खड़ा हुआ लंड शिप्रा दीदी के मुंह के सामने था शिप्रा दीदी ने भी जल्दी से मेरा लंड अपने मुंह में लिया और उसे जल्दी जल्दी चूसने लगी मैं एक हाथ से शिप्रा दीदी के बाल सहला रहा था और मेरा दूसरा हाथ उनके टॉप के गले में से उनकी ब्रा के अंदर था मैं उनके नंगे बोबे दबा रहा था और वो जल्दी जल्दी मेरा लंड चूस रही थी शिप्रा दीदी काफी गरम हो चुकी थी तभी फोन बजा मैंने जल्दी से लोअर ऊपर किया और अपनी जगह आके बैठ गया शिप्रा दीदी ने भी जल्दी से अपने कपडे ठीक किये और अपनी प्लेट लेके किचन में चली गई
प्रीती दीदी का फोन था वो फोन पे बात करते करते बाहर चली गई शायद उनके बॉयफ्रेंड का फोन था तभी मम्मी ने मुझे बुलाया और कहा “सोनू प्रीती से बोल चाय चड़ा दे दो कप और बोलना की मेरे रूम में आये और मेरे सर पे बाम की मालिश कर दे ” मैंने कहा “हाँ मम्मी” मैं धीरे से बाहर गया प्रीती दीदी फोन पे बात कर रही थी प्रीती दीदी – “हाँ मौसम तो अच्छा है तुम क्या कर रहे हो ……… हाँ बस यही करो तुम ………..
.क्यों बताऊँ जाओ नहीं बता रही ……….मैंने कैप्री और कुर्ता ……….हाँ पता था मुझे ये जरुर पूछोगे तुम ………………….अंदर पिंक और वाइट स्ट्राइप्स वाली ब्रा है और वाइट और रेड पेंटी है ……………पागल हो क्या नहीं ……..अरे यार बाहर खड़ी हूँ मैं यहाँ कैसे हाथ डालूंगी अंदर ……………नहीं पापा मम्मी सब है विडियो चैट पे नहीं आ सकती ……………..देखती हूँ यार कब कर पाती हूँ विडियो चैट बहुत रिस्की हो गया है शायद मेरे छोटे भाई को डाउट हो गया है अगर उसने पापा मम्मी को बोल दिया तो बहुत बड़ी प्रॉब्लम हो जाएगी ………………….अरे हाँ ना मना तो नहीं कर रही ना मौका मिलते ही करुँगी …….हाँ …और सुनाओ …..नहीं मैंने पहले भी मना किया था मैं कोई फोटो नहीं भेजने वाली नहीं ना मेल में ना पेन ड्राइव में नहीं चाहे फेस हो या ना हो ….नहीं कोई पिक नहीं भेजूंगी अपनी ना ब्रा में ना विथआउट ब्रा …………. नो यार तुम पागल हो क्या किसी और देख ली या लीक हो
गई तो …..अरे तुम पे तो भरोसा है लेकिन मुझे डर लगता ……तुम्हे क्या बस यही चाहिए क्या ……नहीं मैं कोई फोटो नहीं भेजूंगी ……..ओके ….. …..क्यों करने तो देती हूँ ना तुम्हे कुछ मना करती हूँ क्या …..हाँ उसके लिए मना किया था …क्योंकि सेक्स के लिए मैं अभी तैयार नहीं हूँ ………तो बाकी तो जो तुम बोलते हो वो करती हूँ ना स्कूल में तुम किस करते हो मैंने कभी मना किया …….तुम क्लास में मेरे पास बैठे बैठे मेरी स्कर्ट के अंदर हाथ डालते हो मेरी पेंटी पे से मेरी वेजिना पे हाथ फेरते हो मैंने मना किया गेम्स या लाइब्रेरी पीरियड में तुम कभी स्कूल की छत या लैब में मुझे लेजाकर किस करते हो मेरी शर्ट के बटन खोल के मेरे बूब्स को दबाते हो मैंने कभी भी आज तक मना किया ………….अरे मैं ये नहीं कह रही हूँ की मुझे मजा नहीं आता या मैंने कोई एहसान किया है मैं तुमसे प्यार करती हूँ मुझे भी तुम्हारे साथ ये सब करना अच्छा लगता है लेकिन तुम भी तो समझो ना जानू मुझे डर लगता है सोच के देखो अगर मेरी ऐसी कोई फोटो लीक हो गयी तो क्या होगा …………….तुम्हे क्या बस यही चाहिए क्या एक फोटो को लेकर तुम मुझे इतना सुना रहे हो …….यस आई लव यू बट आई विल नोट सेंड माय एनी पिक ………..ओके “और प्रीती दीदी ने फोन रख दिया
मैंने उनकी सारी बातें सुन ली थी उनकी बातें सुन के मेरा लंड बिलकुल टाइट खड़ा हो गया था अब मुझे इतना भी पता चल चुका था की प्रीती दीदी और उनका बॉयफ्रेंड ये सब कुछ करते है लेकिन अभी तक सेक्स नहीं हुआ है और मुझे ये भी पता चल चुका था की उनका बॉयफ्रेंड उनसे उनकी नंगी फोटो मांग रहा है फोन रखते ही प्रीती दीदी गुस्से से अंदर आई उन्होंने मुझे वहां देखा तो चौंकते हुए पूछा “तू यहाँ क्या कर रहा है कब आया ” मैंने उन्हें ये जताया की मैं बस अभी ही आया हूँ मैंने कहा “प्रीती दीदी मैं तो अभी अभी आया हूँ वो मम्मी ने कहा है की आप दो कप चाय के चढ़ा दो और मम्मी के सर पे बाम से मालिश कर दो ” उन्होंने कहा ठीक है मम्मी से बोल मैं आ रही हूँ अभी तभी प्रीती दीदी के सेल पे मेसेज आया और वो गुस्से से उसका रिप्लाई देने लगी उनका दिमाग बहुत ख़राब था मैंने सोचा की ये अच्छा मौका है एक बार वापस शिप्रा दीदी को चोदने का आखिर पहले शिप्रा दीदी की चुसाई से और प्रीती दीदी की बातें सुन के मेरा लंड पागल हो चुका था और फिर कल शिप्रा दीदी जाने भी वाली थी मैं वहीँ खड़ा सोच रहा था की क्या किया
जाए तभी प्रीती दीदी का सेल वापस बजा और वो बाहर चली गई मैं समझ चुका था की आज इनका दिमाग ख़राब है और ये इसी में बिजी रहेंगी और फिर मम्मी की मालिश करेंगी इनका ध्यान मुझ पर नहीं जाएगा मैं मम्मी के रूम में गया और बोला “मम्मी मैंने प्रीती दीदी से बोल दिया उन्होंने चाय चढ़ा दी है और वो अभी आ रही है ” मम्मी ने कहा “ठीक है ” मैंने फिर कहा “अच्छा मम्मी सुनो ना बारिश के कारण हमारे रूम में मच्छर बहुत हो गए है मैं रूम का गेट बंद करके हिट कर दूं ताकि मर जाएँगे सोने के टाइम तक ” मम्मी ने कहा “हाँ कर ले ” अब मैं मन ही मन बहुत खुश था मैं अपने रूम में गया तो शिप्रा दीदी जमीन पर बैठी बैठी अपना बैग संभाल रही थी
मैं उनके पीछे बैठ गया और उन्हें पीछे से पकड़ लिया और उनकी गर्दन पे पीछे से स्मूच करने लगा वो बोली “सोनू क्या कर रहा छोड़ यार कोई आ जाएगा ” मैंने कहा “कोई नहीं आएगा सब सेट करके आया हूँ दीदी” और फिर मैंने उन्हें जमीन पे ही लिटा दिया और उन्हें किस करने लगा वो भी मुझे किस करने लगी वो मेरे नीचे थी और मैं उनके ऊपर था हम दोनों एक दूसरे के होंठ चूस रहे थे फिर उन्हें किस करते हुए मैंने उन्हें पलट दिया अब वो मेरे ऊपर थी और मैं उनके नीचे था हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे के होंठो को चूस रहे थे मैं उन्हें किस करते हुए उनके लम्बे खुले बालों को सहला रहा था उनकी पीठ पे हाथ फेर रहा था फिर मैंने अपनी जीभ शिप्रा दीदी के मुह में डाल दी वो मेरी जीभ चूसने लगी
आज हम दोनों बहुत ही ज्यादा गरम थे फिर मैंने उन्हें वापस पलटा और उनके ऊपर लेट गया और उनके पूरे फेस पे किस करने लगा उनके कानों में अपनी जीभ डाल के स्मूच करने लगा फिर धीरे धीरे उनकी गर्दन पे अपने होंठो से स्मूच करने लगा कभी मैं उनके कान पे अपने होंठ फेरता कभी उनके कान में अपनी जीभ डाल देता वो अपना मुंह घुमा लेती मैं उनके दुसरे कान में भी वेसे ही करता वो मेरा मुंह पकडती और मुझे किस करने लगती मैं भी उन्हें किस करने लगा और उन्हें किस करते हुए उनके क्रीम टॉप पे से उनके बोबे दबाने लगा उन्हें सहलाने लगा फिर उन्हें किस करते करते ही मैंने नीचे से हाथ उनके टॉप के अंदर डाला और अंदर से उनके बोबे दबाने लगा वो बहुत तेज तेज सांसें ले रही थी फिर मैंने शिप्रा दीदी को जमीन से थोडा सा उठाया और उनका टॉप उतार दिया शिप्रा दीदी ने डार्क ब्लू और वाइट नेट वाली डिज़ाइनर ब्रा पेहेन रखी थी उनकी ब्रा बहुत ही सेक्सी लग रही थी और उनकी ब्रा की स्ट्रैप्स वाइट थे और बाकी की ब्रा डार्क ब्लू कलर की थी जिसपे वाइट कलर के डिजाईन थे उनकी ब्रा बहुत सेक्सी थी
मैंने उनके बोबे उनकी नयी ब्रा पे से दबाये उन्हें सहलाया उनके ब्रा के कप पे से उनके दोनों निप्पल चूसे फिर उनकी ब्रा की स्ट्रैप्स सामने से नीचे कर दिए और उनकी ब्रा भी नीचे कर दी फिर उन्हें वापस जमीन पे लिटाया और शिप्रा दीदी दीदी के नंगे बोबे दबाने लगा उन्हें चूसने लगा शिप्रा दीदी के दोनों निप्पल खड़े हुए थे मैंने उनके एक बोबे को अपने मुह में लिया और उसे चूसने लगा शिप्रा दीदी सिसकियाँ लेने लगी और अपने हाथ मेरे बालों में फेर रही थी मैं उनके निप्पल को चूसने लगा और अपने दूसरे हाथ से उनके दूसरे बोबे को दबाने लगा फिर मैं उनके दूसरे बोबे को चूसने लगा थोड़ी देर तक उनके दोनों बोबे चूसने के बाद मैं नीचे गया और उनकी नाभी में अपनी जीभ डाल दी और उनकी नाभि में अपनी जीभ घुमाते हुए मैं अपने हाथो से उनके दोनों बोबे दबा रहा था उन्हें बहुत मजा आ रहा था
फिर मैंने उनका ब्लैक बरमूडा भी उतार दिया शिप्रा दीदी ने वैसे ही डिजाईन की पेंटी भी पहनी हुई थी मैंने उनकी पेंटी पे से उनकी चूत पे किस किया और उनकी पेंटी पे से उनकी पूरी चूत पे अपने होंठो से स्मूच किया फिर मैंने शिप्रा दीदी की पेंटी पे से उनकी चूत के होल को अपनी ऊँगली से सहलाने लगा उनकी पेंटी में बहुत सारा डिस्चार्ज था मैंने फिर अपने होंठ शिप्रा दीदी की पेंटी पे से उनकी चूत के होल पे रखे और वहां स्मूच करने लगा फिर मैं शिप्रा दीदी की पेंटी पे से ही उनकी पूरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा शिप्रा दीदी अपने दोनों हाथों से मेरे बालों को सहलाने लगी फिर मैं वापस ऊपर गया
शिप्रा दीदी मुझे किस करने लगी मुझे किस करते हुए शिप्रा दीदी ने मेरा लोअर उतार दिया और अपने हाथ से मेरा नंगा लंड पकड़ लिया और उसे सहलाने लगी मैंने भी शिप्रा दीदी को किस करते हुए उनकी पेंटी के अंदर हाथ डाल दिया और उनकी नंगी चूत को सहलाने लगा फिर शिप्रा दीदी ने मुझे जमीन पे लिटा दिया मेरी टी शर्ट भी उतार दी और अपनी पेंटी भी उतार दी अब हम दोनों ही नंगे जमीन पे थे मुझे सीधा लिटा कर शिप्रा दीदी ने मेरे पुरे बदन पे किसेस करते हुए नीचे जाने लगी और फिर उन्होंने मेरे लंड पे बहुत सारी किस्सेस की मेरे पूरे लंड पे अपने होंठो से स्मूच करने लगी फिर उन्होंने मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया उसे चूसने लगी मुझे बहुत मजा आ रहा था मेरा लंड शिप्रा दीदी के मुह में था वो उसे चूस रही थी मैं उनके बालों को सहलाने लगा…….

आगे की कहानी जरी रहेगी>>>>

You might also like