मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ३१

आगे की कहानी >>>
शिप्रा दीदी मेरा पूरा लंड अपने मुह में लेके उसे चूसने लगी वो मेरा लंड चूस रही थी और मैंने अपना हाथ लम्बा करके उनके लटके हुए नंगे बोबे को पकड़ लिया और उसे दबाने लगा फिर उन्होंने मेरा लंड अपने मुंह से बाहर निकल और मेरे लंड के छेद को अपनी जीभ से चाटने लगी मेरे अंदर एक सरसरी सी दौड़ गयी फिर वो मेरे लंड के टोपे को अपनी जीभ से चाटने लगी और उसे जल्दी जल्दी अपने मुहं से अंदर बाहर करने लगी मैं अपने दोनों हाथों से उनके बाल सहलाने लगा फिर उन्होंने वापस मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया और उसे पुरे अंदर तक अपने मुंह में लेके जल्दी जल्दी चूसने लगी थोड़ी देर तक वो मेरा लंड चुस्ती रही फिर वो वापस ऊपर आई
मैंने उन्हें एक लम्बा किस किया फिर मैं नीचे गया मैंने उनकी दोनों झांगो को चौड़ा किया और अपना मुह उनकी दोनों झांगो के बीच डाल दिया और उनकी चूत चाटने लगा शिप्रा दीदी की चूत बहुत गीली थी मैंने उनकी चूत की दोनों स्किन को अलग किया और उनकी क्लिट अपनी जीभ से सहलाने लगा जैसे ही मैंने अपनी जीभ से शिप्रा दीदी की क्लिट को सहलाना शुरू किया वो थोड़ी ऊपर हुई और झटके खाने लगी मैं उनकी क्लिट को चाटने लगा फिर मैंने अपनी जीभ उनकी चूत के होल पे लगाई और उसे चाटने लगा उन्हें बहुत मजा आ रहा था मैंने अपनी जीभ उनकी चूत के होल पे रखी और चाटते हुए ऊपर उनकी क्लिट तक ले गया मेरे ऐसा करने में उन्हें बहुत मजा आया मैंने ऐसा तीन चार बार किया और उन्होंने कहा “सोनू डाल दे ना अब जल्दी चोद ना मुझे ” मैंने कहा “हाँ दीदी” शिप्रा दीदी ने अपनी दोनों टांगें फैला दी मैंने कहा “दीदी एडजस्ट करो ना” और शिप्रा दीदी ने मेरा लंड अपनी चूत पे एडजस्ट किया और बोली “हाँ होल पे है” मैंने धीरे धीरे धक्का देना शुरू किया शिप्रा दीदी को भी पेन होने लगा
मैंने धीरे धीरे अपना लंड शिप्रा दीदी की चूत में डालने लगा मेरे लंड का थोडा सा टोपा अंदर गया और उन्होंने मुझे रुकने का इशारा किया फिर उन्होंने डालने को कहा मैंने वापस डालना शुरू किया उनकी चूत में आज काफी सारा डिस्चार्ज था थोडा थोडा रुक रुक के मेरा पूरा लंड शिप्रा दीदी की चूत के अंदर चला गया मेरा लंड शिप्रा दीदी की चूत में था मैंने धीरे धीरे धक्के मारने स्टार्ट किया हम दोनों को बहुत मजा आ रहा था मैंने धीरे धीरे धक्को की स्पीड बढानी शुरू की मैं धक्के मार रहा था और शिप्रा दीदी ने मुझे बाँहों में भर रखा था मैं उन्हें जमीन पे ही चोद रहा था उन्हें चोदते हुए मैं उन्हें किस करने लगा थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे होंठ छोड़े और सिसकियाँ लेने लगी और मेरी पीठ और मेरे बालों में हाथ फेरने लगी मैंने जल्दी जल्दी धक्के मारने शुरू किये और उनकी चूत में जल्दी जल्दी धक्के मारते हुए कभी उन्हें किस करता तो कभी उनके बोबे चूसता अब मैं उनके ऊपर लेट गया और जल्दी जल्दी धक्के मारने लगा वो भी मेरे बालों में हाथ फेरने लगी मैं उठा और फिर से उन्हें किस करने लगा उन्हें चोदते हुए अब शिप्रा दीदी ने मुझे बिलकुल टाइट पकड़ लिया अपने दोनों हाथों से और बोली
“हाँ सोनू जल्दी कर जल्दी जल्दी कर” मैं समझ गया की वो झरने वाली है और मैं और भी जल्दी जल्दी उनकी चूत में धक्के मरने लगा उन्होंने मुझे टाइट पकड़ के अपने ऊपर लिटा लिया मैं और तेजी से धक्के मरने लगा और उनके मुह से एक लम्बी सिसकी निकली “आआआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ….” और उनकी चूत से बहुत सारा पानी निकल गया वो झर गयी थी मैंने कहा “शिप्रा दीदी मै भी झरने वाला हूँ …..ओ मेरी प्यारी शिप्रा दीदी…….” और मेरे मुंह से भी एक लम्बी सिसकी निकली “आआआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ….” और मेरा सारा मुट शिप्रा दीदी की चूत में निकल गया मैं थोड़ी देर तक उनके ऊपर ही लेटा रहा और वो मेरे पूरे नंगे बदन पर अपने हाथ फेरती रही उन्होंने मुझसे कान में कहा “सोनू मुझे बहुत मजा आया है इतना मजा तो मुझे किसी ने नहीं दिया जितना तूने इन चार पांच दिनों में दिया है ” मैंने कहा “मुझे भी मेरी प्यारी शिप्रा दीदी आई लव यू” उन्होंने कहा “आई लव यू 2 सोनू ” जमीन पर हम नंगे पड़े थे और फर्श पर शिप्रा दीदी की चूत का पानी फैला हुआ था फिर हम उठे अपने कपडे पहने शिप्रा दीदी ने सब कुछ साफ़ किया फिर बाथरूम मैं फ्रेश होने चली गई मैंने रूम में थोडा सा हिट किया और बाहर निकल गया बाहर आके देखा तो प्रीती दीदी मम्मी के रूम में थी
प्रीती दीदी मम्मी के रूम में थी ….मम्मी ने मुझसे पूछा “कर दिया हिट रूम में मैंने कहा “हाँ मम्मी ” फिर मम्मी बोली “चल प्रीती अब तू भी रेस्ट कर कल स्कूल है और कल तो तेरा हाउस कम्पटीशन है ना तूने अपनी हाउस ड्रेस प्रेस कर ली” प्रीती दीदी बोली “हाँ मम्मी” मैंने पूछा दीदी कल तो सेकंड सैटरडे है छुट्टी होगी ना तो उन्होंने कहा “नहीं सोनू कल बड़ी क्लासेज का हाउस कम्पटीशन है 11th और 12th के सारे हाउसेस का कम्पटीशन है तेरी छुट्टी है हमारी नहीं” मैंने कहा “ठीक है दीदी” फिर प्रीती दीदी ने मुझसे पूछा की सोनू मेरा मेसेज कार्ड खत्म हो गया है तेरा सेल दे न मुझे एक मेसेज करना है मैं प्रीती दीदी को अपना सेल दिया और पूछा “इतनी रत को किसी मेसेज कर रही हो दीदी उन्होंने कहा “अरे अपनी फ्रेंड को करना था कल कुछ लाने को कहना है उसे ” फिर उन्होंने मेसेज किया जब उन्होंने मुझे मेरा सेल वापस दिया तो मैंने चेक किया
उन्होंने सेंट मेसेज डिलीट कर दिया था मैं समझ गया की उन्होंने शायद अपने बॉयफ्रेंड को मेसेज किया है की उनका मेसेज कार्ड ख़तम हो गया है फिर प्रीती दीदी लैपटॉप लेके बैठ गई “मैंने पूछा दीदी इतनी रात को लैपटॉप पे क्या कर रही हो दीदी तो उन्होंने कहा की “अरे यार वो कल के कम्पटीशन का कुछ मेटर देखना है नेट पे तू सो जा ना सोनू” लेकिन मैं देखना चाहता था की प्रीती दीदी क्या कर रही है नेट पे क्योंकि मुझे पूरा यकीन था की वो अपने बॉयफ्रेंड से ही चैट करेंगी मैंने कहा “दीदी शिप्रा दीदी है रूम जाउं क्या ” तो उन्होंने कहा “नहीं तू मत जा यहीं बैठ टीवी देख ले फिर अपन साथ में चलते है सोने ” मैंने कहा “ठीक है दीदी”
मैं टीवी देखने लग गया और प्रीती दीदी नेट पे बिजी हो गई जिस तरह से वो कीबोर्ड पे टाइपिंग कर रही थी मैं समझ गया था की वो अपने बॉयफ्रेंड से ही बात कर रही है मैं छुप छुप के उन्हें देखने की कोशिश कर रहा था की वो क्या कर रही है लेकिन वो भी मेरा पूरा ध्यान रख रही थी की कहीं मुझे कुछ पता ना पड़ जाए प्रीती दीदी मेरे थोडा पीछे की तरफ थी लेकिन मैं मुहं घुमा के देख नहीं सकता था क्या कर रही है क्या कर रही है तभी मुझे एक आईडिया आया मैंने अपने मोबाइल का कैमरा ओन किया विडियो मोड पे रिकॉर्डिंग ओन कर दी और छुपा के प्रीती दीदी की तरफ कर दिया थोड़ी देर बाद मैंने मोबाइल को वापस घुमा कर विडियो प्ले किया तो मुझे पता चल गया कि प्रीती दीदी विडियो चैट कर रही थी
वो अपने कुर्ते का गला झुकते हुए खींच कर अपनी ब्रा और बोबे विडियो चैट में दिखा रही थी फिर थोड़ी देर बाद उन्होंने अपना कुर्ता नीचे से ऊपर किया अपने बूब्स तक और फिर अपनी ब्रा का एक कप नीचे किया और अपना नंगा बोबा विडियो चैट पे अपने बॉयफ्रेंड को दिखाया हालाँकि मुझे ढंग से कुछ दिखा नहीं लेकिन मुझे पता चल गया की प्रीती दीदी विडियो चैट पे अपनी ब्रा और बोबे दिखा रही है अपने बॉयफ्रेंड को ये देखते हुए मैं जोर से खांसा और फिर पलटा
प्रीती दीदी नॉर्मली लैपटॉप की स्क्रीन पे देख रही थी मैंने कहा “दीदी चलो न सोने मुझे नींद आ रही है उन्होंने कहा “हाँ सोनू चल ” उन्होंने लैपटॉप बंद किया और हम सोने चले गए लेकिन मेरा लंड धीरे धीरे खड़ा होने लगा था जो भी मैंने देखा था हम रूम में सोने गए तो आज प्रीती दीदी ने एक अलग काम किया उन्होंने मुझे अपने साइड में सुलाया खुद बीच में सोयी और शिप्रा दीदी को अपनी साइड में मैं अंदर से खुश था मैंने सोचा की चलो अच्छा है की पहले ही शिप्रा दीदी को चोद लिया अगर रात के भरोसे रहता तो आज तो कुछ पॉसिबल ही नहीं था मैं सोचने लगा की प्रीती दीदी को कैसे चोदा जाये वो मेरे पास ही सो रही थी और उन्होंने विडियो चैट पे क्या क्या दिखाया होगा ये सब सोच सोच के मेरा लंड खड़ा हो गया
उनके बदन की खुशबू मुझे पागल कर रही थी मैं सोचने लगा की आज क्या क्या हुआ कैसे मैंने प्रीती दीदी का कुरता खींच लिया उनकी ब्रा में क़ैद बोबे मेरी आँखों के सामने थे कितने मोटे बोबे है मेरी प्यारी प्रीती दीदी के इन्हें तो मैं दबा भी चूका हूँ चूस भी चूका हूँ एक बार और दबाने को मिल जाए तो मजा आ जाए ये सब सोचते हुए मेरा हाथ अपने लंड पे चला गया मैं प्रीती दीदी के बदन की खुशबू सूंघते हुए अपने लंड को सहलाने लगा मुझे पता ही नहीं चला की मैं कब प्रीती दीदी के इतना पास चला गया की उनकी सांसें मुझे मेरे मुह पे फील होने लगी मैंने अपना हाथ उनकी कमर पे रखा और उसे ऊपर ले जाते हुए उनके पेट पे रखा फिर मैंने अपना हाथ नीचे से प्रीती दीदी के कुर्ते के अंदर डाला और धीरे धीरे ऊपर ले जाने लगा
मैं बहुत ध्यान से ये सब कर रहा था क्योंकि मुझे पता था की अगर प्रीती दीदी को जरा से भी भनक लग गयी तो वो शायद अब मम्मी को बोल दे मैं अपना हाथ ऊपर लेके गया और मेरे हाथ पे उनकी ब्रा की नीचे वाली लाइन टच हुई मैंने अपना हाथ ध्यान से और ऊपर किया और मेरा हाथ प्रीती दीदी के बोबे पे था मैं हल्के हल्के से बड़े ध्यान से प्रीती दीदी
की ब्रा पे से उनके एक बोबे को सहला रहा था मैं एक हाथ से प्रीती दीदी का बोब सहला रहा था और दूसरे हाथ से अपना लंड सहला रहा था मुझे बहुत मजा आ रहा था फिर मैंने अपना हाथ उनके कुर्ते में से बाहर निकाला और उनकी पतली सी कैप्री पे से उनकी चूत पे हाथ फेरने लगा मैं बहुत गरम हो चुका था मैंने प्रीती दीदी का हाथ उठाया और उसे अपने लंड पे रख दिया और उसे ऊपर नीचे करने लगा मैं बड़े ध्यान से ये कर रहा था प्रीती दीदी का हाथ मेरे लंड पे रखते ही मैं तो जैसे दूसरी दुनिया में चला गया
जो मजा प्रीती दीदी के हाथ में था वो मजा शिप्रा दीदी के हाथ मुंह चूत किसी में भी नहीं था मैं सोच रहा था की जब प्रीती दीदी के हाथ से ही इतना मजा आ रहा है तो जब मैं इन्हें चोदूंगा तब कितना मजा आएगा मैं यही सोचते सोचते जल्दी जल्दी प्रीती दीदी का हाथ अपने लंड पे ऊपर नीचे करने लगा और सोचने लगा की इनकी चूत कितनी टाइट होगी प्रीती दीदी नेट वाली ब्रा में कैसी लगेंगी वो जब मेरे सामने हँसते हँसते अपनी ब्रा का हुक अपने हाथ से मेरे लिए खोलेंगी तब कितना मजा आएगा जब वो मेरी आँखों में देखते हुए मेरा लंड चूसेंगी तब कितना मजा आएगा जब मैं उन्हें चोदूंगा तब कितना मजा आएगा और यही सब सोचते सोचते मेरा मुट निकल गया….

आगे की कहानी जरी रहेगी>>>>

You might also like