Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / भाई बहन / मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ३३

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – ३३

आगे की कहानी >>>
स्कूल जाते समय मेरे दिमाग में बस यहीं घूम रहा था की प्रीती दीदी की नंगी पिक्स उनके मोबाइल में है जिसे वो अपने बॉयफ्रेंड को देने वाली है लेकिन मैं ऐसा नहीं चाहता था उनकी नंगी पिक्स मैं देखना चाहता था और उन्हें चोदना भी चाहता था लेकिन क्या करूँ कुछ समझ नहीं आ रहा था क्या बोलता प्रीती दीदी को क्योंकि उन्होंने मुझे साफ़ साफ़ सब समझा दिया था मैं यही सब सोच रहा था इतने में स्कूल आ गया स्कूल खाली ही था क्योंकि दो क्लासों के बच्चे ही आये थे सीनियर क्लासों के मैं अंदर गया अब मुझे ये नहीं पता था की प्रीती दीदी की क्लास 12th A कहाँ पे है क्योंकि हमारे स्कूल में तीन फ्लोर्स थे फर्स्ट फ्लोर पर नर्सरी तो 5th तक क्लासेज थी सेकंड फ्लोर पे 6th to 10th तक क्लासेज थी जिसमे मेरी क्लास भी थी और थर्ड फ्लोर पर सीनियर क्लासेज 11th एंड 12th और प्रैक्टिकल लेब्स थी हमारे स्कूल में जूनियर स्टूडेंट्स को सीनियर फ्लोर्स पे जाने की परमिशन नहीं थी तो मुझे नहीं पता था की प्रीती दीदी की क्लास कहाँ थी मैं ऊपर की सीडियों पे चढ़ा ऊपर पहुंचा तो सामने बोयस टॉयलेट था
मैं अंदर गया और अंदर केबिन में जा कर गेट बंद कर लिया और टॉयलेट करने लगा तभी मुझे किसी के अंदर आने की आवाज सुनाई दी वो तीन लड़के थे वो अंदर आए और बातें करने लगे मैं चुप चाप केबिन के अंदर से सुनने लगा मैंने उनके मुंह से काफी बार प्रीती प्रीती नाम सुना मैंने केबिन के गेट के नीचे के गैप से झुक के देखा तो उनमे से एक लड़का प्रीती दीदी का बॉयफ्रेंड राज था मैं ध्यान से उनकी बातें सुनने लगा और फिर जो कुछ भी मैंने सुना मेरे कानो को विश्वास ही नहीं हुआ थोड़ी देर बाद वो लोग चले गए लेकिन मैं वहीँ छुपा रहा थोड़ी देर बाद मैं बाहर निकला और प्रीती दीदी की क्लास ढूँढने लगा मुझे उनकी क्लास दिख गई स्कूल पूरा खाली था क्योंकि सब बाहर की तरफ ऑडिटोरियम में थे जैसे ही मैं क्लास के पास पहुंचा मुझे बातें करने की आवाज सुनाई दी मैंने छुप के देखा तो वहां प्रीती दीदी और राज बैठे हुए थे प्रीती दीदी ऊपर डेस्क पे बैठी हुई थी और राज उनके सामने नीचे बेंच पे मैंने देखा राज का हाथ प्रीती दीदी की स्कर्ट में था उसका हाथ प्रीती दीदी की स्कर्ट में उनकी दोनों झांघो के बीच था वो अपनी उँगलियाँ उनकी दोनों झांगों में घुमा रहा था और उसका दूसरा हाथ प्रीती दीदी के रेड टी शर्ट पे था वो उनकी टी शर्ट पे से उनके बोबे दबा रहा था मेरा ये सीन देखते हुए लंड खड़ा होने लगा मैंने उन्हें देखते देखते उनकी बातें सुनी
प्रीती दीदी – छोड़ो ना राज
राज – क्यों जान आज तो हाथ में आई हो
प्रीती दीदी – हाथ मत फेरो यार
राज (उनकी स्कर्ट में हाथ फेरते हुए ) – क्यों जान
प्रीती दीदी – अजीब सा हो रहा है
राज – यार सेक्सी तुम्हारी पेंटी तो गीली हो गई है
(और वो उनकी चुत पे धक्का मारता है ऊँगली से )
प्रीती दीदी – स्स्स्स्स्स्स्स …ऐसा मत करो प्लीज यार
राज – आज वही ब्रा पेंटी पेहेन के आई हो क्या
प्रीती दीदी – हाँ जानू
राज – देखूं तो
(और वो प्रीती दीदी की टी शर्ट का कोलोर सामने से खींच कर अंदर देखने लगता है फिर थोड़ी देर बाद टी शर्ट पे से उनके बोबे दबाते हुए बोलता है )
राज – बड़ी सेक्सी लग रही हो यार ब्लैक ब्रा में
प्रीती दीदी – हाँ हाँ तुम्हे तो मैं हमेशा सेक्सी लगती हूँ
मैं ये सब देख रहा था तभी मुझे कोई आता हुआ दिखा मैं वापस पीछे गया और खांसते हुए और प्रीती दीदी को आवाज देते हुए उनकी क्लास के बाहर रेलिंग के पास खड़ा हो गयावो दोनों जल्दी से क्लास के बाहर आ गए मुझे देख के प्रीती दीदी बोली “अरे सोनू बेटा आ गया ला मोबाइल दे ” मैंने कहा “हाँ दीदी ” और मैंने प्रीती दीदी का मोबाइल अपनी जेब से निकाला और उन्हें देने लगा इस से पहले प्रीती दीदी मोबाइल पकडती मैंने मोबाइल छोड़ दिया और प्रीती दीदी का मोबाइल जमीन पर गिर गया और सब कुछ अलग हो गया प्रीती दीदी मुझ पे जोर से चिल्लाई “बेवकूफ गधे क्या किया ये कहाँ ध्यान है तेरा एक काम ढंग से नहीं कर सकता तोड़ दिया ना मेरा इतना महंगा मोबाइल” उन्होंने अपने मोबाइल को उठाया और वापस ओन करके देखा वो ओन हो गया फिर वो बोली “और मेमोरी कार्ड कहाँ गिरा इसका जल्दी देख ” मैंने कहा “दीदी मेमोरी कार्ड तो नीचे गया वो वाटर फ़िल्टर के टैंक में जहाँ से नीचे वाली क्लास के बच्चे पानी पीते है ” दीदी बोली “देखा तूने ” मैंने कहा “हाँ दीदी ” उन्होंने मुझे घूर के देखा और राज तो मुझे इतने गुस्से से देख रहा था की पता नहीं कितनी बड़ी गलती कर दी मैंने मैंने कहा “सॉरी दीदी मैंने जान के नहीं तोडा ” प्रीतो दीदी बोली “चल कोई बात नहीं जा अब तू ” मैं गया और कोने में छुप गया और उनकी बातें सुन ने लगा
प्रीती दीदी – सॉरी राज
राज – हाँ जानता था मैं तो की तुम कोई पिक विक नहीं देने वाली बस नाटक कर रही हो
प्रीती दीदी – अरे राज तुम्हारी कसम मैंने पिक्स खींची थी बस तुम्हें देनी थी
राज – बस बस अब और झूठ मत बोलो
प्रीती दीदी – सच में जानू मैं कल वापस खींच के ले आउंगी इतना गुस्सा मत करो प्लीज जानू तुम्हें अभी जो करना है वो करलो मेरे साथ इस खाली क्लास में तुम जो बोलोगे मैं वो करुँगी बस नाराज मत हो जानू
राज – एहसान कर रही हो क्या मुझ पे जो करना है करलो
प्रीती दीदी – अरे जानू मैंने ऐसा कब कहा
राज – अब तुम कल पिक्स ही नहीं अपना कपडे उतारते हुए विडियो भी बना के लाओगी पिक्स इस स्कूल ड्रेस में औरविडियो घर वाले कपडे उतारते हुए नहीं तो मिस प्रीती इट विल बी ओवर बिटवीन अस ओके बाय
और ये कहते हुए राज गुस्से के अंदर ऑडिटोरियम की तरफ चला गया और प्रीती दीदी आँखों में आंसू लिए उसके पीछे पीछे चल दी थोड़ी देर बाद मैं स्कूटी लेके घर आ गया और प्रीती दीदी के आने का वेट करने लगा थोड़ी देर बाद प्रीती दीदी आ गई मम्मी ने कहा “आ जाओ बच्चो खाना खा लो ” प्रीती दीदी बोली “नहीं मम्मी भूख नहीं है’ मैंने कहा “क्या हुआ दीदी मुझसे गुस्सा हो क्या” उन्होंने कहा “नहीं” मैंने कहा “बताओ ना” और वो जोर से चिल्लाई ‘कहा ना नहीं जा खाना खाले” मैं रूम से चला गया खाना खाने के बाद मैं वापस आया और प्रीती दीदी के पास बैठ गया उन्होंने मुझे देखते हुए पूछा “क्या है” मैंने उनका हाथ अपने हाथ में लिया और कहा “बहुत गुस्सा हो दीदी मुझसे” उन्होंने मेरा हाथ दबाते हुए कहा “नहीं यार तू क्यों सॉरी बोल रहा है सॉरी तो मुझे बोलना चाहिए तुझपे चिल्लाई तूने भी कुछ जान कर के तो नहीं किया ना” मैंने उनकी आँखों में देखते हुए कहा “हाँ दीदी मैंने सब जान कर के किया” उन्होंने मुझसे हाथ छुड़ा के कहा “मतलब” मैंने कहा “मुझे पता है राज और आपके बीच कल रात को फोन पे क्या बात हुई थी और आपकी चैटिंग भी मैंने पढी थी और उस मेमोरी कार्ड में आपकी पिक्स थी ब्रा पेंटी और फिर पूरी नूड जो अपने राज के कहने पे खींची थी उसे देने के लिए क्योंकि आप उस से बहुत प्यार करती है आप दोनों क्लास में क्या कर रहे थे ये भी मैंने छुप के देखा था राज का हाथ आपके कहाँ कहाँ चल रहा था ये भी मैंने देखा था ” प्रीती दीदी आंखें फाड़ फाड़ के मुझे देख रही थी और मेरी बातें सुन रही थी मैंने कहा “अब सुनो दीदी आपकी क्लास में आने से पहले मैं टॉयलेट गया था और वहां जो कुछ भी मैंने सुना उसके बाद ही मैंने ये सब कुछ किया आप मेरी बात का विश्वास नहीं करती इसीलिए मैंने इन पूरी बातों का विडियो बना लिया अपने मोबाइल में ये विडियो आपके बॉयफ्रेंड राज बेस्ट फ्रेंड निलय और राज का फ्रेंड दीप की बातों का है आप ये इअर फोन लो और ये विडियो देखो मेरे मोबाइल में ” मैंने उन्हें मोबाइल और इअर फोन दिया और उठ के जाने लगा प्रीती दीदी ने फटाफट मेरा मोबाइल उठाया और इअर फोन लगा के सुनने लगी विडियो स्टार्ट हुआ और राज निलय और दीप टॉयलेट के अंदर आये
निलय – यार राज तेरी प्रीती तो क्या सेक्सी लग रही है यार
राज – ओये सेक्सी तो तेरी स्वाति भी बड़ी लग रही है ग्रीन टी शर्ट क्या पेहेन के आई है आज वो अंदर
निलय – भाई वाइट ब्रा और पिंक पेंटी लेकिन यार उसने अपनी चूत नहीं मसलने दी साली पीरियड्स में है
राज – और दीप तेरी निशा
दीप – भाई मेरी वाली की तो देखी ही नहीं अभी बस जब सुबह मिली थी तब ऊपर से दबाये थे फिर उसकी फ्रेंड्स आ गयी अब बुलाऊंगा उसे क्लास में
निलय – लेकिन भाई आज प्रीती तो बड़ी ही सेक्सी लग रही है यार
राज – क्यों खड़ा हो गया देखते ही
दीप – भाई खड़ा तो तबसे है जबसे तू क्लास में उसके मजे ले रहा था कैसे उसके मोटे बोबे दबा रहा था उसकी स्कर्ट में हाथ डाल के उसकी चूत मसल रहा था
निलय – हाँ यार मन तो किया की विडियो बना लूं लेकिन साला क्लास में अँधेरा था प्रीती को मोबाइल की लाइट जलते ही पता चल जाता की हम भी वहां छुपे हुए है
राज – ही ही ही ही ही
दीप – भाई क्या पेहेन के आई थी अंदर साली रांड
राज – वही जो मैंने कहा था ब्लैक कलर की ब्रा और ब्लैक कलर की पेंटी
निलय – आये हाय यार अपनी नंगी पिक्स दी क्या उसने दिखा ना राज यार
राज – नहीं अभी नहीं दी
दीप – भाई जब भी वो पिक्स दे हमें भी जरुर देगा ना देखने को
राज – ओये दूंगा नहीं मेरे मोबाइल में देख लेना लेकिन दूंगा नहीं कहीं लीक हो गई तो सब फंस जाएँगे
दीप – लेकिन भाई तो उसकी विडियो चैटिंग को ही रिकॉर्ड कर लेता ना
राज – अरे यार मेरे पास सॉफ्टवेर नहीं था और मोबाइल से पिक खींची थी बहुत ही धुंधली थी कुछ दिख ही नहीं रहा था
दीप – भाई फिर कुछ मामला सेट हुआ क्या इसे तो चोदना ही है यार
राज – हाँ भाई पहले मैं तो चोद लूं हो गया सेट मामला तो आ रही है मंडे को घर पे
दीप – आये हाय यार मजा आगया कबसे मेरा लंड प्रीती की चूत में जाने को बेताब है
निलय – लेकिन भाई ये हम से कैसे चुदवाने को राजी होगी
राज – वैसे ही जैसे तेरी स्वाति राजी हुई थी
निलय – ही ही ही ही ही
दीप – मतलब वही प्लान
राज – हाँ मैं इसे घर पे बुलाऊंगा इसे चोदूंगा मैं जिस रूम में इसे चोदूंगा उसकी कुण्डी खोल दूंगा एक घंटे बाद तुम सीधा रूम में घुस जाना मुझे आवाज लगाते हुए और मुझे प्रीती को चोदता हुआ देख के ऐसा नाटक करना की ये तुमने क्या देख लिए फिर मैं कहूँगा की यार किसी से कुछ मत कहना फिर तुम कहना की हाँ नहीं कहेंगे लेकिन हमारी एक शर्त है फिर ये भी वही करेगी जो स्वाति ने किया था और तुम भी चढ़ जाना इसके ऊपर
दीप – सही है भाई
निलय – हाँ भाई सही है
राज – ओये दीप अब तो बस निशा ही बची है उसे कब चुदवा रहा है हमसे
दीप – बस भाई अगले हफ्ते ही मैं उसे अपने घर बुला रहा हूँ
राज – सही है ही ही ही ही
और तीनो टॉयलेट से बाहर निकल जाते है और विडियो बंद हो जाता है प्रीती दीदी मेरा फोन बेड पे रख के फफक फफक के रोने लगती है मैं उनके पास आके कहता हूँ “दीदी ये रहा आपका मेमोरी कार्ड अगर आप अभी भी उस से प्यार करती है तो ये लो ” प्रीती दीदी मेरे गले लगती है और जोर जोर से रोने लग जाती हैमैंने कहा “बस दीदी जब तक मैं हूँ तब तक कुछ नहीं होगा आपके साथ बुरा “……….

आगे की कहानी जरी रहेगी>>>>

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें