प्यारी भाबी की चुदाई कहानी

वो पड़ोस में रहती थी और उनकी अभी-अभी शादी हुई थी. शादी बहुत लेट हुई थी. शायद, पढने में कई साल गवा दिए थे.  हम सब उनसे छोटे थे और उन्हें भाभी-भाभी कहके बुलाते थे. भाभी के साथ बात करना, भाभी के हाथ का बना खाना खाना, हम सभी को …

Read More »

गाण्ड मारने की विधि

मैने गाण्ड मारने पर बहुत कहानियाँ पढ़ी हैं, कुछ अच्छी होती हैं लेकिन ज़्यादातर झूठ होती हैं। ऐसा लगता है यह कहानी नहीं बल्कि लेखक की कल्पना है। जिन लोगों को सेक्स नहीं मिलता या जो अपनी ख्वाहिश पूरी नहीं कर पाते वो कल्पना से कहानियाँ लिखते हैं। अगर इन …

Read More »

अच्छा इसको लंड बोलते है

भाभी की बहन में अपना भी कुछ हक़ होता है यही सोच के में भैया की बारात में भाभी के घर गया वाहा भाई की शादी होने लगी और में भाई की शालियो के साथ मस्ती मजाक करने लगा, सभी मेरे साथ मिल जुल गए उनमे भाभी की जो सबसे …

Read More »

नई मामी की सिसकियाँ

मेरा नाम रोहन है और मेरी उम्र 24 साल है. में आज जो ये स्टोरी लिख रहा हूँ वो मेरी और मेरी एक मामी ज़ी के साथ हुए अनुभव के बारे में है. मेरे मामा की शादी 2005 में हुई थी. मामी अच्छी है और दिखने में सुंदर है. उनका …

Read More »

बीमा कम्पनी की एजेंट को चोदा

हैल्लो दोस्तों,  मेरा नाम समीर है और मेरी उम्र 24 साल है और में मुंबई शहर के थाने नाम के इलाके में रहता हूँ और मैंने अभी कुछ समय पहले ही अपनी पढ़ाई पूरी की है और अब में एक सरकारी नौकरी कर रहा हूँ, लेकिन मेरी पहली कहानी मेरे …

Read More »

शिवानी की मस्त चुदाई

अब पहले में आपको मेरे बारे में बता दूँ. में दिल्ली में रहता हूँ और एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ और फ्लेट में अकेला ही रहता हूँ. में एक जवान और सुंदर लड़का हूँ और अब में आपको ज़्यादा बोर ना करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता …

Read More »

सालों की प्यासी चूत तृप्त हुई

हेलो दोस्तों, कैसे है आप लोग? मेरा नाम नीलम है और मैं एक विडो हु. मेरे पति की डेथ जब हुई, जब मैं ५० की हो गयी थी और बच्चो को भी हमने सेटेल कर दिया था. वो लोग अपनी – अपनी जॉब पर रहते थे और मैं अकेले ही …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें