पीरियड का ज़रा भी एहसास नहीं है- Non Veg Hindi Joke

एक बार एक बच्चा क्लास में आने में लेट हो गया टीचर गुस्से से : क्या तुम्हे पीरियड मिस होने का ज़रा भी एहसास नहीं है। लड़का : मेम, बहुत एहसास है मुझे, एक बार मेरी बहन ने मेरी माँ से कहा कि मुझे पीरियड नहीं आए। ये सुनकर मेरी …

Read More »

Mere Jiju Ne Muze Kuttiya Banakar Choda

Hello mai meenu umar 18 saal ek dum gori chitti ubhrate hue chuchia , gol chuttad is ummar mai hum ladkiyo ki chut jyada machlti hai, sex ki shaukin ghar mai babhi bahiya didi aarti ki marrige ho chuki hai, meri chut ki seal mere jijja g nai todi thi, …

Read More »

गर्लफ्रेंड हो गई पानी पानी – जबरदस्त चिकनी चुत की चुदाई

दोस्तो.. मैं आपके सामने अपनी गर्लफ्रेंड की चिकनी चुत चुदाई का पहला अनुभव शेयर कर रहा हूँ। मैं विक्की उम्र 23 साल.. हरियाणा में रहता हूँ। मुझे मेरी गर्लफ्रेंड फेसबुक पर मिली थी। कुछ दिन बातें करने के बाद मैंने उसे प्रपोज कर दिया और उसने थोड़ा सोचकर हाँ कर …

Read More »

पोर्न हिंदी स्टोरी मेरी गर्लफ्रेंड की चुत चुदाई की

बात 2 साल पहले की है। जब मैंने एक आस्था नाम की लड़की को पटाया था। आस्था की उम्र तब 18 साल की थी। वो इतनी खूबसूरत है कि मैं बता नहीं सकता। मैंने जब पहली बार उसे देखा तो देखता ही रह गया.. उस वक्त वो पढ़ती थी। मैंने …

Read More »

हैप्पी न्यू इयर बोल कर पटाई कुंवारी बुर की चुदाई

मैं उत्तर प्रदेश नोयडा का निवासी हूँ। मैं देखने में गोरा हैंडसम मॉडल की तरह हूँ। इसी लुक की वजह से मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं बन पाती, सभी लड़कियाँ सोचती हैं कि यह इतना हैण्डसम है तो इसकी तो जरूर कोई न कोई गर्लफ्रेंड होगी। और मैं कोई न कोई …

Read More »

दोस्त की मर्ज़ी से उसकी बहन को चोदा (Dost ki Marji se uski bahan ko choda)

प्रेषक : मोहित … हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम मोहित है और में मुंबई से हूँ। दोस्तों आज में अपनी लाईफ की पहली सच्ची कहानी लिख रहा हूँ और यह कहानी मेरे दोस्त की बहन की चुदाई के बारे में है, मेरे दोस्त का नाम दीपक है और हम दोनों एक …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें