दीदी को दिया अनमोल गिफ्ट

प्रेषक : राज हेल्लो मेरा नाम राज है. में 22 साल का हूँ. ये स्टोरी मेरी ओर मेरी बहन की है की कैसे मैने अपनी बहन को चोदा. ओर ना सिर्फ़ चोदा बल्कि एक अनमोल गिफ्ट भी दिया. वो अनमोल गिफ्ट है एक बेटी जो की मेरी है ओर में …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – १७

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> मैं लेटा हुआ कल रात के बारे में सोचने लगा तभी बाथरूम का गेट खुला और शिप्रा दीदी नहा के बाहर आयी उन्होंने वाइट कलर का सलवार सूट पहना हुआ था बहुत ही सेक्सी लग रही थी …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – १६

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> मैंने थोडा छुप के नीचे देखा तो सीडियो के पास मम्मी थी मैंने जल्दी से अपना लोअर पहना और अपने बाल सही किये और शिप्रा दीदी ने अपनी ब्रा पेंटी उठाई मैंने शिप्रा दीदी को अँधेरे में …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – १५

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> फिर मैंने दीदी की केप्री उतारने की सोची लेकिन उनकी कैप्री का इलास्टिक बहुत टाइट था वो नीचे नहीं हुई अब मैंने दीदी की केप्री और चड्डी उतारने का विचार त्याग दिया और मैं वापस दीदी के …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – १४

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> रात को खाने के बाद जब हम सोने के लिए गए तो मैंने दीदी से पूछा की “क्या हुआ दीदी आज आप इतने उदास क्यों हो ” दीदी ने कहा की ” कुछ नहीं ” मैंने कहा …

Read More »

मेरी बीवी सुप्रिया का ग्रुप सेक्स: चूत और गांड में जमकर चुदवाया

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम जगदीश है और आज में आप सभी को अपनी एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ और यह घटना मेरी बीवी की चुदाई पर आधारित है जिसमे मेरी बीवी ने कॉलेज के लड़को से अपनी चुदाई करवाई और अब सीधा अपनी कहानी की तरफ चलता हूँ. …

Read More »

मैं और मेरी प्यारी दीदी भाग – १३

ये कहानी मैं और मेरी प्यारी दीदी का पार्ट है आगे की कहानी >>> मैं एक दम से चौंक गया साले कुत्ते मेरी बेहेन के बारे में बात कर रहे थे मैंने सोचा की इन सब कुत्तो को बस मेरी दीदी ही दिखती है क्या जो देखो उन्ही के पीछे पड़ा …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें