सहेली के पति को पटाकर चूत चुदाई करवाई

मैं रीता सिंह एक बार फिर से आप सभी लोगों का स्वागत करती हूं अभी तक आपने मेरी पिछली story दामाद जी के साथ sex कहानी एवं मिश्रा जी के अकेलेपन का फायदा उठा कर चूत चुदाई को पढ़ा और बहुत ही प्यार दिया।
आज मैं आप लोगों को अपने जीवन में घटित एक और कहानी सुनाने जा रही हूं आशा करते हो की आप सभी लोगों को यह कहानी पसंद आएगी अभी तक आपने पढ़ा कि मेरे पति ड्यूटी से वापस आकर मेरे साथ एक महीने तक बहुत ही मजे के साथ सेक्स किया और हम दोनों ने इस एक महीने में बहुत ही बार सेक्स किया पर गैर मर्द के साथ सेक्स करने में जो मजा है वह अपने पति के साथ नहीं आया अब मैं आप लोगों का ज्यादा समय न लेते हुए सीधे कहानी पर आती हो यह कहानी शुरु हुई मेरे पति के ड्यूटी पर वापस जाने के बाद।
अब मेरे पति को वापस ड्यूटी पर गए हुए लगभग 1 महीने से ज्यादा हो गया था और इधर 1 महीने से सेक्स न करने की वजह से मेरी चूत में खुजली से होने लगी थी। यह घटना जुलाई के महीने की है मेरी एक सहेली फातिमा थी जिसका घर मेरे घर से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर था तुमने अक्सर फातिमा के घर आया जाया करती है और वह भी मेरे घर आया जाया करते थे फातिमा के साथ उसका पति इमरान भी रहता था और वह भी कभी कभी मिलने भी आ जाया करता था परंतु अभी तक मेरे मन में इमरान के लिए कुछ भी गलत नहीं था क्या की इमरान मेरी सहेली का पति जो था इमरान और फातिमा दोनों यहां पर किराए पर रहते थे इमरान एक प्राइवेट कंपनी में कंप्यूटर ऑपरेटर की जॉब करता था इमरान एक गठीले बदन का मालिक था इमरान की लंबाई लगभग 6 फुट 5 इंच के आस पास होगी।
यह बात उस दिन की है जब मेरी सासू मां अपनी बहन की बेटी की शादी के लिए 1 हफ्ते के लिए राजस्थान चली गई तो मैं यहां बिल्कुल अकेली रह गई इसलिए मेरी सासू मां ने जाते वक्त मेरी सहेली फातिमा को एक हफ्ते तक मेरे साथ रहने के लिए कह दिया था अब फातिमा और इमरान दोनों 1 हफ्ते के लिए मेरे घर रहने के लिए आ गए फातिमा और इमरान छत पर बनी मेरे कमरे के सामने वाले कमरे में रहने लगी जो कि हमेशा खाली ही पड़ा रहता है । हम इमरान और फातिमा को आए 2 दिन हो चुके थे इमरान और फातिमा अपने कमरे में थे रात के लगभग 11:00 बज रहे थे कि अचानक मुझे ऐसा लगा की छत पर कोई आवाज कर रहा और जब मैं अपने कमरे से बाहर निकली तो छत पर मुझे कोई दिखाई नहीं दिया थोड़ी देर के लिए मैं वहीं खड़ी हो गई पर आवाज फिर से आई इस बार मैंने महसूस किया कि यह आवाज फातिमा और इमरान के कमरे से आ रही है तुम मेरी उत्सुकता बढ़ गई कि देखो इमरान और फातिमा के कमरे में क्या हो रहा है पर कमरे का दरवाजा बंद था तो देखूं कैसे तभी मेरे दिमाग में एक आइडिया आया कि पीछे के खिड़की का कांच का कोना टूटा है तो मैं पीछे घूम कर खिड़की के पास गई और उस टूटे हुए कांच के कोने से देखने लगी तब जो मैंने देखा उससे मेरी उत्सुकता और ज्यादा बढ़ गई दोस्तों मैंने देखा कि इमरान मैं अपने सारे कपड़े उतार रखे थे और फातिमा भी बिल्कुल नंगी थी फातिमा आगे की तरफ झुकी हुई थी और इमरान फातिमा के पीछे से उसकी चूत की चुदाई कर रहा था इमरान और फातिमा की इस घमासान चुदाई को देखकर मेरा मन करने लगा अभी कमरे में चली जाओ और इमरान का लण्ड पकड़ कर अपनी चूत में डालो पर दोस्तों यह मुमकिन नहीं था तो मैं फिर से ही खिड़की के पास खड़ी खड़ी इमरान और फातिमा की चुदाई को मजे से लगी इमरान और फातिमा की घमासान चुदाई देख कर मेरी चूत ने भी पानी छोड़ दिया और मैं तड़प कर रह गई दोस्तों मैंने देखा कि जब इमरान ने अपना लण्ड फातिमा की चूत से बाहर निकाला तो इमरान का लण्ड किसी गधे के समान था लगभग 10 से 11 इंच के आस-पास लंबा 3 इंच के आसपास मोटा रहा होगा। इमरान ने अपना सारा रस फातिमा की चूत में ही भर दिया था वो दोनों ही एक लम्बी चुदाई के बाद थक कर बेड पर आराम करने लगे और फातिमा ने इमरान का लण्ड अपने हाथ से पकड़ रखा था और धीरे-धीरे उसे सहला रही थी दोस्तो इतना देखने के बाद मैं सहन नहीं कर पाई और सीधा अपने कमरे में चली गई और अपने कपड़े उतार कर अपनी चूत में उंगली करने लगी पर मेरे दिमाग में तू इमरान का लण्ड  था हम मुझे किसी ना किसी तरीके से इमरान का लण्ड अपनी चूत में लेना था यही सोचते सोचते मुझे पता ही नहीं चला कि मुझे कब नींद आ गई फिर जब मैं सुबह उठी तो सुबह के 7:00 बज चुके थे पर मैंने देखा कि इमरान और फातिमा अभी भी सो रहे हैं तो मैंने उन्हें जगाना भी उचित नहीं समझा क्योंकि मुझे तो पता ही था कि इमरान और फातिमा ने देर रात तक मेरे जाने के बाद भी सेक्स किया होगा इसलिए मैंने दोनों को जगाया भी नहीं और मैं नहाने होने के बाद चाय बनाने चली गई तब तक फातिमा भी उठ चुकी थी और फ्रेश होने के लिए बाथरुम चली गई थी इधर मैंने चाय बनाकर सोचा कि एक कप चाय इमरान को भी दे आऊं पर जब मैं कमरे में घुसी तो देखा की इमरान अभी भी सो रहे हैं और सोते वक्त इमरान ने सिर्फ अंडर वियर ही पहन रखा था अंडरवियर के ऊपर से ही इमरान का लण्ड बहुत बड़ा लग रहा था मन तो कर रहा था कि इमरान के पास जाऊं और उसकी अंडरवीयर से उसका लण्ड निकालकर चूसने लगू पर यह मुमकिन नहीं था। शर्म से लेकर वापस आ गई और तब तक साथ में अभी नहा कर बाथरूम से वापस आ गई थी तो हम दोनों ने बैठकर आराम से चाय पी तभी मैंने फातिमा से मजाकिया अंदाज में कहा कि आज बड़ी खुश लग रही हो क्या बात है कुछ नया मिल गया क्या तो फातिमा ने भी मुस्कुराकर जवाब दिया कि नहीं बस ऐसे ही खुश हूं पर मैंने उसकी बात के बीच में काटते हुए कहा कि रात को क्या हुआ था जो तुम्हारे कमरे से इतनी आवाज़ आ रही थी लगता है इमरान ने कुछ ज्यादा ही परेशान कर दिया होगा इस पर फातिमा ने मुस्कुराकर कहा नहीं ऐसी कोई बात नहीं है खैर मेरी छोड़ो तुम बताओ लगता है तुमको बहुत जरूरत है इसकी तुम मैंने भी उसको हंसते होगे जवाब दिया कि कोई भी नई चीज देखो तो उसे खाने का मन जरूर करता है बस यही समझ लो तो फातिमा ने कहा कि मैं कुछ समझी नहीं तो मैंने भी कहा कि छोड़ो मजाक कर रही हूं और बताओ आज का क्या प्रोग्राम है तो फातिमा ने कहा आज तो संडे है पर मुझे कुछ ऑफिस का काम है तुम्हें शाम को ही ऑफिस के बाद से वापस आऊंगी फातिमा एक कॉल सेंटर में काम करती थी इतना सुनने के बाद मेरे मन में एक ख्याल आया कि आज इमरान की भी छुट्टी है और फातिमा तो अपने ऑफिस जा रही है घर पर बस मैं और इमरान ही रहने वाले हैं सारा दिन क्योंकि फातमा शाम को 7:00 बजे ऑफिस बंद होने के बाद लगभग 8:00 बजे तक ही घर वापस आएगी तो मैंने सोचा आज कुछ भी हो पर इमरान से मैं अपनी चूत चुदवाकर कर ही रहूंगी 9:00 बजे फातिमा के ऑफिस जाने के बाद मैंने एक हल्की सी पिंक कलर की नाइटी पहन ली और मैंने जानबूझकर नाइटी के अंदर ब्रा और पैंटी नहीं पहनी और चाय लेकर इमरान के कमरे में चले गए और इंसानों को जगाया कि चाय पी लो इमरान जब उठे तो उन्होंने मुझसे पूछा कि फातिमा कहां है तो मैंने उन्हें कहा कि फातिमा तो सुबह ही ऑफिस चली गई है अब वह शाम को 8:00 बजे ही वापस आएगी तब तक आप फ्रेश हो लो मैं खाना बना लेती हूं मैं वही बेड पर चाय रख कर वापस जाने लगी तो मैंने नोटिस किया इमरान मेरे पिछवाड़े को बहुत ही ध्यान से देख रहे थे क्योंकि मैंने नाइटी के अंदर पेंटी नहीं पहनी थी इस वजह से नाइटी मेरे दोनों चूतड़ों के बीच दरार में फंस रही थी मैं वापस आकर किचन में चली गई और खाना बनाने लगी उधर इमरान भी फ्रेश हो चुके थे अब मैं और इमरान दोनों बैठकर खाना खाने लिए तो मैंने देखा कि इमरान मेरे बूब्स को बड़े ही ध्यान से देख रहे थे पर मैंने भी जल्दबाजी न करते हुए थोड़ा संयम से काम लिया हम दोनों लोग खाना खाने के बाद अपने अपने कमरे में चले गए इधर मुझे इतना तो पता चल गया था कि इमरान भी मुझ में इंटरेस्ट ले रहे हैं पर मेरे दिमाग में यह चल रहा था कि इमरान को सेक्स के लिए कैसे राजी करू अभी मेरे दिमाग में एक आइडिया आया तो मैं अपने कमरे से बाहर आ गई और बाहर आकर गिरने का नाटक करने लगी इमरान दिल तोड़कर अपने कमरे से बाहर है और मुझे जड़ से सहारा देकर उठाया मैंने भी इमरान के ऊपर अपना सारा जोर डाल दिया और लड़खड़ाने का नाटक करने लगी और कहने लगी की मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा है इमरान ने मुझे सहारा देकर मेरे कमरे तक पहुंचाया और कहां आप चिंता ना करें मैं अभी डॉक्टर को बुला लेता हूं तो मैंने कहा कि इतना भी दर्द नहीं है कि डॉक्टर को बुलाओ बाम की मालिश हो जाएगी तो ठीक हो जाऊंगी तो मैंने इमरान से कहा ठीक है आप मेरे पैरों में बाम की मालिश कर देंगे तो इमरान ने कहा हां क्यों नहीं बस आप जल्दी से ठीक हो जाओ तभी इमरान मैं बाम लेकर मेरे पास आए और बोले कि कहां दर्द हो रहा है तो मैंने कहा कृपया और कमर में तो इमरान ने कहा की आपको आराम से लेट जाइए ने मालिश कर देता हूं मैंने भी अपनी नाइटी को अपनी जांगो तक उठा लिया मुझे पता था की नाइटी के अंदर से मेरी चूत इमरान को साफ साफ दिखाई देगी। कुछ देर तक मालिश करने के बाद इमरान ने मुझसे पूछा कि अब दर्द कैसा है तो मैंने कहा अब दर्द बहुत कम हो गया है तभी थोड़ी देर और मालिश करने के बाद इमरान ने मुझसे कहा कि एक बात पूछू आप नाराज तो नहीं होगी मैंने कहा नहीं आप पूछो तो इमरान ने मुझसे कहा कि क्या आपने पैंटी नहीं पहनी क्या तो मैंने भी अनजान बनते हुए अपनी नाइटी को नीचे किया और कुछ कहा नहीं । फिर इमरान ने मुझसे कहा कि आपकी वो बहुत सुंदर है तो मैंने अपने मन में सोचा कि तीर लग गया निशाने पर । मैंने भी नाटक करते हुए इमरान से पूछा कि क्या बहुत सुंदर है तो तो इमरान ने फट से जवाब दिया किआपकी चूत और क्या भाभी जी फिर मैंने इमरान से कहा कि क्या फातिमा के वह अच्छी नहीं है तो इमरान ने कहा कि नहीं ऐसी कोई बात नहीं है मगर आपकी कुछ ज्यादा ही सुंदर दिख रही है क्या मैं इसे एक बार छू कर देख सकता हूं और जब तक मैं कुछ कहती तब तक इमरान का हाथ मेरे नाइटी के अंदर से मेरी चूत तक पहुंच गया इमरान के हाथ स्पर्श मात्र से ही मेरा रोम रोम शहर उठा मैंने झट से इमरान का हाथ पकड़ लिया और इमरान का हाथ अपनी चूत से हटा दिया मंगेशकर इमरान में थोड़ी जबरदस्ती करती हुई मुझे बेड पर धक्का देकर गिरा दिया और खुद मेरे ऊपर आकर मेरे बूब्स को दबाने लगा और मुझे जोरदार किस करने लगा जिससे मैं धीरे-धीरे इमरान का साथ देने लगी इमरान को और भी मजा आने लगा इमरान भी सेक्स का खिलाड़ी था इमरान मैं झट से मेरे नाइटी को उतार दिया और मैं इमरान के सामने बिल्कुल नग्न अवस्था में आ गई इमरान ने और देर ना करते हुए अपना लोवर और टी शर्ट भी उतार दिया अब वह सिर्फ अंडर वियर में ही खड़ा था अब मैं भी सेक्स की आग में पूरी तरह जल रही थी मैंने भी देर ना करते हैं इमरान को अपनी और हाथ पकड़ कर घसीटा और इमरान के होठो को चूसने लगी इमरान मेरे होठों को चूसने के साथ साथ मेरे बूब्स को बहुत तेजी के साथ दबा रहा था जिससे मैं और भी तड़प रही थी करीब 15 से 20 मिनट के बाद इमरान मेरी चूत को बहुत तेजी के साथ पीने लगी और अपनी बीवी को मेरी चूत के दाने पर रगड़ने कभी और कभी कभी भी आपको अंदर तक भी डाल कर चाट लेते जिससे मेरी हालत और भी खराब हो गई और करीब 15 मिनट की चूत चुसाई के बाद मेरे मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया जिसे इमरान बड़े ही प्यार से पीने रहित और एक एक बूंद निचोड़कर सारा रस ले गए मेरी हालत खराब थी और पानी निकलने के कारण शरीर मेंरा ढीला पड़ गया और मैं बेड पर निढाल होकर पड़ी रही अब इमरान ने अपना लण्ड मेरे हाथ में पकड़ा दिया और मैं इमरान का लण्ड लालीपाप की तरह चूसने लगी इमरान के मुस्लिम होने के कारण इमरान के लण्ड के आगे के हिस्से की चमडी छिली हुई थी मैंने पहली बार किसी मुस्लिम का लण्ड देखा था आगे के हिस्से की खाल छिली होने के कारण इमरान का लण्ड बिल्कुल खुला हुआ था जिसे चूसने में मुझे बहुत आनंद प्राप्त हो रहा था और मैं बड़े मजे के साथ उसको बिल्कुल लालीपॉप की तरह चुस्ती रही इमरान का लण्ड मेरे गले तक जा रहा था करीब 15 मिनट तक मैंने इमरान के लण्ड को लाली पाप की तरह चूस चूस कर निचोड़ दिया इमरान ने अपना सारा रस मेरे मुंह नहीं गिरा दिया इमरान के लण्ड से निकले हुए पानी का स्वाद नमकीन था पर बड़ा स्वादिष्ट लग रहा था जिसे मैं पूरा पी गई पहली बार मैंने किसी पुरुष का वीर्य पान किया था स्खलित होने के कारण इमरान का लण्ड हल्का हल्का सिकुड़ गया था और इमरान निढाल होकर बेड पर मेरे बगल में लेट गया मैं इमरान के लण्ड को अपने हाथों से हल्का-हल्का सहलाना शुरु किया जिससे इमरान का लण्ड दोबारा से तैयार हो गया इस बार इमरान मेरे ऊपर आते हुए मेरी दोनों टांगों को थोड़ा चौड़ा करके अपने लण्ड को मेरी चूत पर रगड़ने लगा और अपने लण्ड का हल्का सा दबाव मेरी चूत पर दिया तो इमरान के लण्ड का सुपारा मेरी चूत में घुस गया जिससे मुझे हल्का सा दर्द हुआ क्योंकि मैं पिछले 2 महीने से चुदी नहीं थी इसलिए मेरी चूत सिकुड़ गई थी और इमरान का लण्ड बड़ा होने के कारण मुझे एक अजीब सा मीठा दर्द हो रहा था इमरान ने एक और जोरदार धक्का लगाया तो इमरान का आधा लण्ड मेरी चूत में घुस गया जिससे मेरी चीख निकल आई पर इमरान ने अपने होंठों से मेरे होंठो को दबा दिया इससे मेरी चीख मुंह में ही रह गई और इमरान अपने हाथों से मेरे बूब्स को दबाने लगे थोड़ा दर्द कम होने के बाद इमरान ने एक और ज्यादा का मारा जिससे इमरान का पूरा लण्ड मेरी चूत में फिट हो गया और कुछ देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद इमरान ने धीरे-धीरे चुदाई स्टार्ट कर दी इमरान के द्वारा मेरी चूत चुदाई होने पर मुझे एक अलग से आनंद प्राप्त हो रहा था क्योंकि मैंने मुस्लिम लोगों के बारे में बहुत सुन रखा था कटा हुआ होता है इमरान के धक्के और तेज होते जा रहे थे और मेरे स्वीकार कमरे में गूंज रही थी इमरान लगभग 15 मिनट तक मुझे इसी आसन में चोदते रहे इमरान ने मुझे डॉगी स्टाइल में आने के लिए कहा और इमरान मेरे पीछे आकर अपने लण्ड का सुपारा मेरे पर फिट करके एक ही जोरदार कि मैं अपना पूरा लण्ड मेरी चूत में घुसा दिया जिससे मेरी चीख निकल आए ऐसा महसूस हो रहा था कि इमरान का लण्ड मेरे बच्चेदानी को छू रहा है पर इमरान के प्रत्येक धक्के के साथ मुझे अत्यंत से सुख प्राप्त हो रहा था अब इमरान नहीं है अपने ऊपर बैठने के लिए कहा और इमरान स्वयं बेड पर लेट गई मैं इमरान के ऊपर चढ़ गई क्योंकि मुझपे चुदाई का भूत सवार था मैंने इमरान के लण्ड को अपनी चूत पर सेटसेट करके उसे हल्का सा दबाया तो मेरी चूत इमरान के लण्ड में पूरी तरह फिट हो गई और मैं उछल उछल कर इमरान के लण्ड का मजा लेने लगी इस प्रकार मेरे द्वारा उछल-उछल कर इमरान के लण्ड के द्वारा की जा रही चुदाई से इमरान अत्यंत कामुक हो गया और उसने मुझसे कहा कि फातिमा ने कभी भी यह आसान नहीं किया है इससे इमरान को एक अलग ही आनंद प्राप्त हो रहा था अब इमरान ने मुझे नीचे करके मेरे ऊपर आकर बड़े जोर से मेरी चुदाई शुरू कर दिया और करीब 40 मिनट की चुदाई के बाद इमरान ने मेरी चूत में ही आपना माल गिराने लगा और मेरी चूत भी इमरान के लण्ड का रस चूसने लगी और फिर पूरे 5 दिन तक लगातार यह चुदाई का सिलसिला जारी रहा पर इमरान के जाने के बाद से मुझे किसी मोटे लण्ड वाला कोई चुस्त मर्द की जरूरत है अपनी चूत चुदाई की अगली दास्तान अगले भाग में सुनाउगी।

You might also like