Home / Tag Archives: सेक्स की कहानियाँ

Tag Archives: सेक्स की कहानियाँ

नौकर – नौकरानी और चुदाई का मजा

मैं एक अपनी स्टोरी बताने जा रही हूँ. नौकर – नौकरानी के साथ सेक्स का मजा ही कुछ और होता है. जो हमारे साथ हुई. हमारी शादी हुए 3 साल हो गये थे और मैं अपने पति के साथ नये सिटी मे आ गयी थी. उधर सब कुछ अरेंज करने …

Read More »

प्रमोशन से कायम पति और पत्नी का रिश्ता

ये स्टोरी है एक पति की जो आधा पागल था(पतला, लंबा, छोटे बालो वाला, गोरा). एक बेटे की जो बिगड़ा हुआ था (काला, मोटा, लंबा, तोतला) और एक औरत मंजू की जो सावित्री के पल्लू के अंदर रंडी बाज़ी करती थी (गोरी, ऊची चुचि, कटीला बदन, लाल चूत, सुरीली आवाज़, …

Read More »

वो अनजान भाभी को ट्रैन में गोद में बिठा के धीरे धीरे चोदता रहा – वो ऊह्ह्ह्ह आअह्ह करती रही

हेलो दोस्तों मेरा नाम लकी है और मैं दिल्ली से हु. यह मेरी पहली कहानी है उम्मीद है आप सबको पसंद आएगी.. मैं कानपूर से हु और दिल्ली में रहता हु. मेरी उम्र २३ साल है और मैं दुबली पतली कद काठी का हु पर मेरा लण्ड ६ इंच लंबा …

Read More »

साली रांड थी मेरी बहन रोज मेरा लंड चूस चूस के चुदवाती थी – और बहोत मजे लेती थी

दोस्तों, में यह जो कहानी Antarvasna Kamukta Indian Sex Hindi Sex Stories Chudai आज आप सभी को सुनाने जा रहा हूँ, यह एक कहानी नहीं बल्कि मेरे साथ जो कुछ हुआ वो सच्ची घटना है, जिसकी वजह से मुझे कुछ बातें खुद पता चली और कुछ करने के बाद देखने …

Read More »

क्या लडकियों की चूत की तड़प नही होती है Kya ladkio ki chut ki tadap nahi hoti hai

फिर जिशान ने अपना पजामा उतारकर अपने लंड को मेरे मुँह में डाल दिया। अब में उसके लंड को लॉलीपोप की तरह चूसने लगी थी। फिर कुछ देर के बाद जिशान मुझे लेटाकर मेरे ऊपर लेट गया और अपने 6 इंच के लंड को मेरी चूत पर रगड़ने लगा। अब मेरी चूत से रस निकल रहा था, फिर जिशान ने अपने लंड का सुपड़ा जैसे ही मेरी चूत में डाला तो मुझे बहुत दर्द होने लगा। फिर जिशान बोला कि पम्मी डार्लिंग फर्स्ट टाईम

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें