Home / Tag Archives: bahan ki gand

Tag Archives: bahan ki gand

Behan ko janbujh kar choda

ye kahani meri aur mere didi ki hai meri didi hostel se wapis aa gayi thi aur ham dono ek hi kamare mein sote the meri didi bahut khoobsoorat hai uske boobs aur gaand dekhkar to main betaab ho jata tha. Raat khaneke baad meri didi so gayi main bhi …

Read More »

जेठ जी के अंधेपन का फायदा

प्रेषक : प्रियंका … हैल्लो दोस्तों, में प्रियंका और यह मेरी एक सच्ची घटना है जिसको में आज आप सभी को सुनाने जा रही हूँ। दोस्तों में बहुत समय से कामुकता डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियाँ पढ़कर मज़े कर रही हूँ और मैंने कई बार अपनी भी सेक्स घटना को …

Read More »

भैया गांड में धीरे से घुसाओ प्लीज दर्द होता है

मैं कितना बड़ा गांडू हु आपको मेरी कहानी पढ़कर ही पता चल जायेगा, पर मैं करूँ क्या, मुझे गांड मारना बहुत अच्छा लगता है, मैंने अपने जवान खूबसूरत बहन को किस तरह से राजी किया गांड मरने के लिए तब बी वो कह रही थी भैया गांड मत मारो प्लीज …

Read More »

दोस्तों से करवाई प्यारी दीदी की चूत चुदाई

यह कहानी मेरी दीदी की है, दरअसल दीदी और मैं, हम दोनों अकेले ही हैं पापा और मम्मी हमारे बचपन में गुजर गये तो मुझे बचपन में ही जॉब करनी पड़ी और मेरी दीदी ने पढ़ाई की, अब वो कॉलेज जाने लगी। मेरी दीदी का नाम है सलोनी अब वो …

Read More »

छोटी बहन निशा की सील तोड़ी (Chhoti Bahan Nisha Ki Seal Todi)

दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी है.. जो एकदम सच्ची है, मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी कहानी पसंद आएगी। मेरा नाम आयुष है.. मैं इंदौर का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 22 वर्ष है, मेरे परिवार में मेरे अलावा एक बड़ा भाई.. माँ-पापा और एक छोटी बहन है। मेरी बहन …

Read More »

बहन की चुत में 7 इंच का लंड घुसा दिया (Bahan ki chut me 7 inch ka lund ghusa diya)

हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम राज है आज मैं आपको अपनी वो सच्चाई बताने जा रहा हूँ जो एक हादसा है जो मेरे ओर मेरी बहन के बीच मैं हुआ मैं अपनी बहन के बारे मैं बता दूँ मेरी बहन का नाम शेली है ओर वो मुझसे 3 साल छोटी है …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें