Home / Tag Archives: gand mari

Tag Archives: gand mari

भाभी के बाद उसकी बहन के साथ चुदाई का मज़ा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राकेश है और में दूसरी बार आपके सामने अपनी कहानी लेकर आया हूँ। दोस्तों में भाभी की खूब चुदाई करता था और वो भी मुझसे चुदना काफ़ी पसंद करती थी। उस दौरान गर्मी की छुट्टियों में भाभी की छोटी बहन रीना भाभी के घर रहने आई। …

Read More »

शेरनी ने किया मेरे लण्ड का शिकार (Sherni Ne Kiya Mere Lund Ka Shikaar )

मेरी सेक्स स्टोरी पढ़ने वाले, मेरे सभी पाठकों को मेरा और मेरे खड़े लण्ड का नमस्कार.. नये पाठकों को बता दूँ की मेरा नाम सुमित है, उम्र 20 और जाती से, शरीर से, क्रम से पहलवान हूँ.. इससे पहले भी मेरी दो कहनियों की श्रंखला “कुँवारी कली” (1 – 3) …

Read More »

माँ दादी और बहन की एकसाथ चुदाई की कहानी: part 2

प्रेषक : अमन “माँ दादी और बहन 1” से आगे कि कहानी . . .इसके पहले की कहानी पड़ने के लिए यहाँ click करे फिर एक दिन माँ और दादी को शादी मे जाना पड़ा जाना तो मुझे भी था. मगर शादी बहुत दूर थी. 3 दिन लगते और काम …

Read More »

मेरा दिवाना देवर चोदे मुझे नये तरीके से

प्रेषक : प्रीति हेल्लो,  मेरा नाम प्रीति है. मैं शादीशूदा हूँ. शादी के एक साल बाद की एक घटना मैं आज आपको बताती हूँ. मैं अपने पति के साथ रहती थी. घर मे हम दो ही रहते थे. वैसे मैं बहुत सेक्सी हूँ लेकिन अपने पति से खुश थी. वो भी …

Read More »

एक चलती ट्रेन की हकीकत (Ek chalti train ki hakikat)

प्रेषक : शान हेल्लो दोस्तों… मेरा नाम शान हे. में चाची के घर से वापस नागपुर मेरे कॉलेज जा रहा था. अचानक जाना हुआ इसलिए रिज़र्वेशन नही मिला. मैने सोचा अकेला हूँ समान भी नही है जनरल में ही चला जाता हूँ. जनरल की भीड-भाड तो आपको पता ही है. …

Read More »

हनी भाभी की चुदाई की और गांड मारा

दोस्तों में नीरज आपको एक बहुत ही मजेदार सेक्स कहानी सूना रहा हु, आशा करता हु, की आपको मेरी ये कहानी बहुत हॉट लगेगी, ये कहानी सच्ची कहानी है, मैंने एक जवान और टाइट औरत की चुदाई कल ही की है उन्ही के बारे में ये कहानी है, मेरी उम्र …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें