Home / Tag Archives: kamukta hindi story

Tag Archives: kamukta hindi story

अपना पूरा वीर्य उनकी चूत के अंदर ही छोड़ दिया और फिर …

हैल्लो दोस्तों, में मेरठ का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 23 है और में पिछले पांच सालों से लगातार इस साईट की सेक्सी कहानियाँ पढ़ रहा हूँ जो कि बहुत मजेदार होती है, जिनको पढ़कर मुझे बहुत मज़ा आता है. मेरे लंड का साईज़ 6 इंच है, जो कि मोटा …

Read More »

अपनी ही स्टूडेंट की सील तोड़ी

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम लोकेश है और में 25 साल का हूँ. सभी तड़पती चूत वाली भाभियों और आंटियों को मेरे लंड का नमस्कार, दोस्तों मुझे कुंवारी लड़कियों और सेक्सी आंटियों की प्यासी चूत को अपने लंड से संतुष्ट करना बहुत अच्छा लगता है, मेरा लंड 6 इंच लंबा है. …

Read More »

दो भाइयों में हॉट पड़ोसन को चोदा

मैं और मेरे बड़े भाई निखिल ने मिल के इस रंडी हॉट भाभी को चोदा. पढ़े इस किस्से को इस हॉट हिंदी सेक्स कहानी में. हाई दोस्तों मेरा नाम अभी हैं और मैं औरंगाबाद का हूँ. यह कहानी के तिन किरदार हैं. मैं, कुसुम भाभी और मेरे बड़े भाई निखिल. …

Read More »

उसने मुझे नींद की गोली दी और फिर चुत को पूरी रात चोदता रहा में सिर्फ महसूस करती रही

फिर अपने होंठो से और हाथो से सहलाने के बाद मैने उनकी पेंटी उतार दी और उनकी चूत को अपने मुहं में डालकर चूसने लगा और फिर मैने अपना लंड जो बहुत ज़्यादा टाईट हो चुका था। मैने उनकी चूत में अपने लंड को डाला और जोर जोर से धक्के देकर ऊपर नीचे हिलाने लगा। अब मुझे बहुत मजा आ रहा था फिर और ऊपर मेरे मुहं में उनके बूब्स थे जिन्हे में जोर जोर चूस रहा था। फिर बहुत देर तक ये सब करने के बाद मैने अपनी स्पीड एकदम से बड़ा दी क्योंकि में अब झड़ने लगा था और फिर मैने अपना वीर्य जोर जोर के गहरे धक्को के साथ उनकी चूत मे छोड़ दिया था।

Read More »

दोस्त की बहन ने मौका दिया

दोस्त की बहन की गुलाबी चूत की चुदाई करने की कहानी. उसे भी लंड लेने की इच्छा थी और मैं तो प्यासा ही था. मेरा नाम सुमित है 19 साल उम्र है. चुदाई का बहुत प्यासा रहने वाला लौंडा हूँ, देखने में भी अच्छा ही हूँ. यह बात उन दिनों …

Read More »
वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें