Home / हिंदी सेक्स कहानियाँ / गांड में चुदाई / तांत्रिक ने झांसा देकर मेरी बीबी को 15 दिन तक चोदा

तांत्रिक ने झांसा देकर मेरी बीबी को 15 दिन तक चोदा

हलो दोस्तों, मैं बरेली का रहने वाला हूँ। मेरा नाम प्रत्यूष बाल्मीकि है। मेरे एक दोस्त ने मुझे एक दिन नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम के बारे में बताया। मैं अपने मोबाइल में ही इस साईट को पढ़ने लगा। जैसे ही मैंने पहली कहानी पढ़ी तुरंत जाकर अपनी बीबी को चोदा। उस दिन के बाद से मैं रोज यहाँ की सेक्सी और रसीली कहानियाँ पढ़ने लगा हूं। आज मैं भी अपनी कहानी आपको सुनाने जा रहा हूँ। ये बात ६ महीने पहले की है। मैं अपने काम के सिलसिले में पंजाब गया हुआ था। इधर बरेली में मेरी बीबी अकेली थी।

एक दिन एक तांत्रिक मेरे घर आया और उसने मेरी बीबी शोभा से मेरे घर की जमीन में सोने की असर्फी होने की बात बतायी। तांत्रिक ने कहा की उसे इसके लिए १५ दिन पूजन करना होगा। उसके बाद मेरी बीबी उन असर्फियों को निकाल कर रातोरात मालदार बन सकती है। मेरी बीबी शोभा ने मुझे फोन करके बताया की हमारे घर में सोने की असर्फियों का बड़ा सा घड़ा गडा हुआ है। ये सुनकर मैं बहुत खुश हो गया। अगर ये घडा हम लोगो के हाथ लग जाता तो मजा आ जाता। क्यूंकि मैं अपनी नौकरी से जरा भी खुश नही था। मैं शहर शहर जाकर प्रकाशक के लिए उनकी प्रकाशित कोर्स की किताबे बेचता था। इसलिए मैं अपनी नौकरी से जरा भी खुश नही था। मेरा पूरा पूरा महीना बरेली के बाहर ही निकल जाता था। बीबी को चोदने का वक़्त मुझको मिलता ही नही था। इसलिए जब मैंने ये बात सुनी तो मैं बहुत खुश हो गया और मैंने पत्नी शोभा से कह दिया की जो जो तांत्रिक कह रहा है, करती जाए और बस किसी तरह वो सोने की अशर्फी से भरा घडा ले ले।

तांत्रिक ने अगले ही दिन से मेरे घर में हवन और पूजन शुरू कर दिया। मेरी बीबी शोभा बड़ा गहरे गले का ब्लाउस पहनती थी जो पीछे से बैकलेस होता था, उस पर शोभा ने पीछे पीठ पर दिल भी गुदवा रखा था। मेरी औरत शोभा बहुत जादा सुंदर औरत थी। शादी से पहले उसके कई बॉयफ्रेंड थे जिन्होंने उसे कई बार चोद भी लिया था। पर जब अपनी शादी के लिए मैं उसको देखने गया तो बस देखता रह गया। बस मैंने अपना तन मन सब उसके नाम कर दिया और तुरंत उससे शादी कर ली। फिर मैं उसको हर रात चोदने लगा।

जब उस तांत्रिक ने मेरे घर में हवन पूजन शुरू किया तो मेरी बीबी शोभा तांत्रिक के ठीक सामने बैठती थी। मेरी मस्त 38″ के चुच्चे वाली बीबी तांत्रिक के ठीक सामने बैठती थी। उसके बड़े बड़े दूध ब्लाउस के झीने कपड़े से बाहर के ओर झाकते रहते थे। शोभा ही पूजा सम्पन्न करवा रही थी। वो भाग भाग कर सारा काम कर रही थी जैसे फूल लाना, अगरबत्तियां लाना, फल लाना। तांत्रिक मेरी मस्त बीबी को देखता तो उसका लंड खड़ा हो जाता।

“भई!! वाह!!…क्या मस्त माल है, अगर चोदने को मिल जाती तो कलेजे को ठंडक मिल जाती!!” तांत्रिक खुद से कहता। मेरी बीबी की पीठ पूरी पूरी नंगी होती, उसपर से वो दिल में तीर वाला टैटू तांत्रिक को बताता की यार ये औरत बड़ी जोर की माल है, इसकी चूत भरी हुई और बड़ी मस्त होगी। धीरे धीरे तांत्रिक मेरी औरत शोभा को गंदी नजरों से देखने लगा। उसने पूजा में चढाने के लिए २ लाख नकद और सोने की जेवेलरी रखने को कहा। तो शोभा ने पूजा में रख दिया।

“बेटी!! काली माई को शांत करने के लिए तुमको पूजा में बिना कपड़ों के बैठना होगा और जब तक पूरा खत्म नही होगी, तुम उठ नही सकोगी! तुम्हारे घर में १ नही २ २ सोने से भरे घड़े है। उनको बेचकर तुम्हे कम से कम ५० लाख तो आराम से मिल जाएँगे!!” तांत्रिक बोला

५० लाख की बात सुनते ही मेरी बीबी शोभा पूरी तरफ से पागल हो गयी। वो तुरंत राजी हो गयी। अगली पूजा तांत्रिक ने रात १२ बजे मेरे ही घर में शुरू की। मेरी बीबी शोभा ने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और पूरी तरह से नंगी होकर पूजामें चादर पर बैठ गयी। इसी से आप अंदाजा लगा सकते है की कितना मस्त समा रहा होगा। उधर तांत्रिक भी पूरा नंगा होकर पूजा में बैठ गया था। उसका असली मकसद हम लोगो को सोने की असरफी देना नही, बल्कि मेरी गुलाब जैसी बीबी को चोदना था। यही उसका असली मकसद था। पर दोस्तों, आप लोगो को तो ये पता ही होगा की औरते दिमाग से पैदल होती है। उसकी चूत के साथ साथ दिमाग में भी लंड घुसा हुआ होता है। इसलिए मेरी बीबी वो वो करती चली गयी जो जो तांत्रिक उससे कहता चला गया। गल्ती मुझसे भी हो गयी। मैंने भी शोभा से कह दिया था की कुछ भी करे, बस उस सोने की असरफी से भरे घड़े को पा ले।

जब मेरी जवान चुदासी बीबी बिलकुल नंगी होकर पूजा में बैठी तो तांत्रिक चोर नजरों से बार बार मेरी औरत को ताड़ रहा था और उसकी चूत मारने को मरा जा रहा था। शोभा उसके गंदे इरादे नही समझ पायी और मैं अपने काम से पंजाब में था। दोनों नंगे होकर हवस करने लगे और तरह तरह की आहुति देने लगे। शोभा के 38 साईज के मम्मे तांत्रिक के लंड में आग लगा रहे थे। १ घंटे बाद तांत्रिक ने अपने झोले से कोई पाउडर एक बड़ी मुट्ठी निकाला और हवन की आग में झम्म से मारा। उससे ना जाने कैसा धुआँ निकला ही मेरी चुदासी बीबी शोभा को तुरंत नींद आ गयी और वो पूजा करते करते ही सो गयी। पुजारी ये देखकर बहुत खुश हो गया। वो मेरी बीबी के पास आ गया और उसे हवन वाली जगह से दूर ले गया। क्यूंकि वह काफी आग जल रही थी। तांत्रिक मेरी औरत शोभा को उसके कमरे में ले गया और उससे चुम्मा चाटी करने लगा। शोभा उस पाउडर की खुसबू से बेहोश हो गयी थी। तांत्रिक मेरी नंगी बीबी से चिपक गया और उसको अपनी घर की माल की तरह इधर उधर चूमने लगा। उसके ताजे ताजे गुलाब जैसे होठ पीने लगा। फिर उसने शोभा को सीधा बिस्तर पर लिटा दिया और उसके रसीले बूब्स से वो खेलने लगा। हाथ में लेकर मेरी बीबी के दूध वो दबाने लगा और उसके मस्त मस्त आम पीने लगा। शोभा की नही मालूम था की उसके साथ क्या हो रहा है। जिस तांत्रिक से वो पूजा और हवन करवाकर सोने की असरफी पाना चाहती थी वो उसकी जावानी की असरफी लूट रहा था। तांत्रिक घंटो मेरी नंगी औरत के चुदसे कामुक और चिकने बदन को मजे ले लेकर चूमता और सहलाता रहा।

उसने जा जाने कितने घंटे तक मेरी बीबी शोभा के दूध पिये। फिर वो उसकी चूत पीने लगा और उसने अपना हाथ डालने लगा। मेरी बीबी की चूत वो बड़े मजे से पी रहा था। फिर उसमे वो जल्दी जल्दी ऊँगली करने लगा। कुछ देर बाद तांत्रिक ने मेरे बीबी शोभा के दोनों पैर खोल दिए, पैर मोड़ दिए और उसकी रसीली चूत में अपना मोटा लौड़ा डाल दिया। और मजे लेकर चोदने लगा। मेरी बीबी शोभा बेहोश थी, पर फिर भी लंड खा रही थी। उसे नही पता था की असरफी दिलाने के पाखण्ड के नाम पर वो शोभा की चूत का खंड खंड कर रहा था। वो गच गच मेरी बीबी को चोद रहा था। कुछ देर बाद शोभा को हल्का होश आ गया था। उसके हाथ पाँव हिलने लगे थे। पर उस पाउडर के धुए से ना जाने कैसा असर हुआ था की शोभा की आँखे अभी भी बंद थी

‘ऊँ ..ऊँ..मेरीमत डालो!! मुझे मत चोदो!!” शोभा बड़ा धीरे धीरे मिमियाकर बोल रही थी। पर तांत्रिक को उससे कोई लेना देना नही था। वो तो मजे से बस मेरी बीबी को पक पक चोदने में डूबा हुआ था। मेरे ही घर में, मेरे ही कमरे में, मेरी ही बिस्तर पर मेरी बीबी चुद रही थी एक पाखंडी तांत्रिक से। धीरे धीरे शोभा को भी सायद काफी मजा मिलने लगा। “प्रत्यूष!! चोदो..मुझे और तेज तेज चोदो!!” शोभा बोली। तांत्रिक सोचा की वो उससे कह रही है, उसके बात तो उसने मेरी बीबी की बुर फाड़ चुदाई की। कुछ देर बाद उसने शोभा को बाहों में लपेट लिया और अपनी बीबी की तरह उसे बजाने लगा। मेरी बीबी के भोसड़े में तांत्रिक का मोटा लंड धमाल मचाने लगा। दोनों को बहुत मजा मिलने लगा। मेरी बीबी ने पैर में पायल और हाथ में चूड़िया पहन रखी थी। तांत्रिक जब जब उसकी मलाई जैसी चूत में लंड डालता था तो खन्न खन्न की आवाज पायल और चूड़ियों से निकलती थी। कुछ देर बाद शोभा ने भी उसे बाहों में भर लिया और अपने सैयां की तरह सीने से लगाकर चुदवाने लगी।

कुछ देर में दोनों चरम सुख को प्राप्त कर गये। दोनों योनी मैथुन कर रहे थे और गर्मा गर्म चुदाई का मजा उठा रहे थे। दोनों शारीरिक सुख की सीमा को पार कर गये और तांत्रिक मेरी बीबी की रूह में उतरके उसे चोदने लगा। उधर शोभा समझ रही थी की मैं यही उसका पति की उसको पेल रहा है, इसलिए वो भी तांत्रिक की रूह में उतरकर मजे से चुदवाने लगी। वो बहनचोद तांत्रिक मेरी बीबी से तांत्रिक सेक्स कर रहा था जिसमे साथी की रूह में उतरकर ताबड़तोड़ चुदाई का लुफ्त उठाया जाता है। बहनचोद वो पाखंडी तांत्रिक मेरी बीबी शोभा को चोदकर इतना मजा उठा रहा था। उसने कभी सपने में भी नही सोचा था की उसे कभी इतनी मस्त माल खाने और नोचने को मिलेगी। वो लेटकर शोभा को अपनी बाहों में भरे हुए था और गप्प गप्प पेल रहा था। शोभा का भोसड़ा बहुत ही बड़ा और सुंदर था। उसकी चूत चुदने से पट पट ली मीठी आवाज मेरे कमरे में गूंज रही थी।

सायद वो पाखंडी तांत्रिक मेरी बीबी की चूत का पूजन और हवन करना चाहता था। वो इस तरह शोभा को कमरे में पेल रहा था जैसे मैं उसको ठोंकता था। वो मेरी बीबी को रूहानी तरह से चोद रहा था। दोनों एक दुसरे की सांसों को अपनी अपनी नाक में खीच रहे थे, नंगी शोभा को बाहों में भरकर उसका नंगा स्पर्श पाकर तांत्रिक को चरम सुख प्राप्त हो रहा था। उसको इतना मजा मिल रहा था की वो मेरी बीबी को इसी तरह अनंत काल तक ठोकना चाहता था और कभी इस अभूतपूर्व सुख के अहसास से बाहर नही नही निकलना चाहता था। उस रात उस मादरचोद तांत्रिक ने मेरी बीबी को ७ बार चोदा। फिर सुबह शोभा को होश आ गया। धीरे धीरे उसने तंत्र मन्त्र करके मेरी बीबी को अपने वश में कर लिया। दूसरी रात भी वही दुआ।

तांत्रिक रात में आया और उसने फिर से यज्ञ शुरू किया। कुछ देर बाद उसने अपने झोले से पावडर निकाला औरफिर से आग में डाल दिया। पर दोस्तों आज उसने कम पाउडर डाला जिससे शोभा पूरी तरह से बेहोश ना हो और वो उसको होश में ही रगड़कर चोदे। कुछ देर बाद मेरी बीबी शोभा को कुछ हो गया और वो सिर्फ हँसने लगा और पूरी तरह से तांत्रिक के वश में आ गयी थी। इस बार भी तांत्रिक शोभा को कमरे में ले गया

“चल छिनाल!! कुतिया बन जा और कह की मेरी गांड मारो!!” तांत्रिक बोला

दोस्तों, मेरी औरत को पता नही क्या हो गया था की वो वही कर रही थी जो तांत्रिक कह रहा था।

“मेरी कस कसके गांड मारो!” शोभा ने उससे कहा

उसके बाद तो हद ही हो गयी। तांत्रिक ने अपना मोटा लंड शोभा के गांड के छेद पर रख दिया और जोर का धक्का मारा। शोभा की गांड की सील टूट गयी। उसको इसमें दर्द भी हुआ था पर वो इस समय पूरी तरह से तांत्रिक के वश में हो गयी थी। वो मेरी बीबी की गांड चोदने लगा। दोस्तों इतने साल में मैंने एक बार भी अपनी बीबी की गांड नही मारी थी, पर वो बहनचोद तांत्रिक मजे से मार रहा था। मैं अपनी बीबी का सम्मान करता था, इसलिए कभी उसकी गांड नही मारता था, पर आज तो सब उल्टा पुल्टा हो गया था। मेरी बीबी मजे से कुतिया बनकर उसका लंड खाने लगी और गांड मरवाने लगी। कुछ ही देर में शोभा की गांड फट गयी और ये मोटा छेद हो गया की कोई मोटा बैगन अंदर सरक जाए। तांत्रिक ने भरपूर तरीके से अपनी हवस शांत की। मेरी औरत के दोनों छेदों में उसने लंड की सप्लाई की। कुछ देर में शोभा को गांड मरवाने में बहुत मजा आने लगा। वो बार बार अपना पिछवाड़ा मेरे लंड पर आगे और पीछे करने लगी।

“तांत्रिक बाबा!! चोदिये !! चोदिये…मजे लेकर मेरी गांड चोदिये!!” शोभा बोली

चट चट की आवाज शोभा की गांड चुदने से आ रही थी। तांत्रिक ने उसे पेलते हुए उसक चूत में ऊँगली डाल दी और शोभा की चूत की दाने को सहलाने लगा। फिर ऊँगली में हाथ डालने लगा। शोभा को इस वक़्त डबल मजा मिल रहा था। जहा एक तरफ उसकी गांड में तांत्रिक का मोटा लंड था, तो दूसरी तरफ उसकी चूत में तांत्रिक की उँगलियाँ थी। वो बड़े प्यार से चूत में ऊँगली कर रहा था और मेरी औरत की गांड चोद रहा था। कुछ देर बाद उसने गांड के छेद में ही माल गिरा दिया। दूसरी रात उसने मेरी बीबी की ५ बार गांड मारी। तांत्रिक ने कुल ३ बार उस सोने की असरफी से भरा घडा निकलने के लिए पूजा की और कुल ६ लाख रुपए और जेवर शोभा से झासा देकर ऐठ लिए। उसके बाद वो भाग गया। कुल १५ दिन उसने मेरी औरत शोभा की गांड मारी और बुर चोदी। उसके बाद तांत्रिक भाग गया और दोबारा नही दिखाई दिया।

जब मैं पंजाब से अपने घर लौटा तो शोभा ने पूरी बात बताई। मैंने लेबर लगवाकर अपना घर खुदवा दिया, पर कहीं कोई सोने का घडा नही निकला। मेरी बीबी की सोने जैसी चूत को चोद चोदकर वो कमीना चूत से सारी असरफी चुराकर नौ दो ग्यारह हो गया। उसके बाद मैं और शोभा दोनों बड़े दिन तक सिर्फ पछताते रह गये।

वैधानिक चेतावनी : यह साइट पूर्ण रूप से व्यस्कों के लिये है। यदि आपकी आयु 18 वर्ष या उससे कम है तो कृपया इस साइट को बंद करके बाहर निकल जायें। इस साइट पर प्रकाशित सभी कहानियाँ व तस्वीरे पाठकों के द्वारा भेजी गई हैं। कहानियों में पाठकों के व्यक्तिगत् विचार हो सकते हैं, इन कहानियों व तस्वीरों का सम्पादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। आप अगर कुछ अनुभव रखते हों तो मेल के द्वार उसे भेजें